Sunday, December 24, 2006

बेल्दा से बालासोर

http://web.archive.org/web/20110926100817/http://hindini.com/fursatiya/archives/221

बेल्दा में हम एक मंदिर में रुके थे। सबेरे वहां से नाश्ता करके हम आगे के लिये चल दिये। थोड़ी ही देर में हम उड़ीसा राज्य की सीमा पर मौजूद थे। “उड़ीसा आपका स्वागत करता है” के पत्थर के दोनों तरफ खड़े दिलीप गोलानी और विनय अवस्थी के फोटो हमने खींचे थे। २३ साल पहले के खींचे फोटो में चेहरे पहचाने जा रहे हैं यह कम बड़ी बात नहीं है। ये फोटो क्लिक-III कैमरे से खींचे गये थे। लगभग तीन महीने तक ये रोल बिना डेवलप हुये हमारे पास रखे रहे।

कुछ दिन पहले पंकज बेंगाणी उर्फ मास्साब ने कहा था कि वे इन फोटुऒं को बेहतर बनाने की तरकीब जानते हैं। लेकिन अभी तक वो इनको बेहतर बनाने के लिये हमारे निमंत्रण पत्र का इंतजार करते दिखते हैं। देखो भाई, इनको और कितना चमका सकते हो! कुछ करोगे-धरोगे या ऐसे ही बातें हांकते रहोगे!

हमारा अगला पड़ाव बालासोर था। बेल्दा से बालासोर की हमारी यात्रा में कोई खास बात नहीं हुई। शाम होते-होते हम बालासोर पहुंच गये थे। बालासोर के बारे में उन दिनों हम ज्यादा जानते नहीं थे और उस समय न हमें इसकी इसकी आवश्यकता महसूस हुयी। लेकिन आज जब मैं अपनी यात्रा के बारे में लिख रहा हूं तो बालासोर के बारे में जानकारी इकट्ठा कर रहा हूं।

दिलीप गोलानी, विनय अवस्थी
दिलीप गोलानी, विनय अवस्थी
बालासोर भारत के पूर्वी समुद्र के किनारे स्थित एक शहर है। यह कभी कलिंग राज्य का अंग रहा फिर उत्कल राज्य में शामिल हो गया। बाद में मुगल साम्राज्य में शामिल हुआ और इसके बाद मराठों के अधीन हुआ। इसके बाद अंग्रेजों की अधीनता से मुक्त होकर बालासोर १ अप्रैल, सन १९३६ को उड़ीसा राज्य का अभिन्न अंग बन गया।
ऐतिहासिक प्रमाणों के आधार पर पता लगता है कि बाणेश्वर( भगवान शंकर) के कारण इस शहर को पहले बाणेश्वर के नाम से जाना जाता था जो कि बाद में मुगलकाल में बदलकर बालासोर हो गया। ऐसा शायद मुगलकाल में फारसी के प्रभाव के कारण हुआ हो। फारसी में बालासोर शब्द का अर्थ है-समुद्र में स्थित शहर।
यहां का समुद्र तट अपने ढंग का अनूठा है। यहां समुद्र अपने तट से पांच किलोमीटर तक पीछे लौट जाता है। अपनी इस अनूठी विशेषता के कारण यहां तमाम तरह की तोपों, तोप के गोलों और मिसाइलों की टेस्टिंग होती है।

तोपों और तोप के गोलों की टेस्टिंग के लिये पी.एक्स.ई.(प्रूफ एन्ड एक्सपेरीमेंटल इस्टब्लिशमेंट)बालासोर में खास सुविधायें हैं। यहां सारे देश के विभिंन्न हिस्सों से आयी तोपों और तोप के गोलों की जांच की जाती है। जांच का तरीका उनको तरह-तरह से फायर करके ही होता है। इनकी जांच की प्रक्रिया बड़ी जटिल होती है। देश की सेना में शामिल कोई भी तोप बिना उसके फायरिंग परीक्षण के सप्लाई नहीं होती। तोप की हर बैरल की टेस्टिंग होती है।

तोपों की टेस्टिंग तो आसान है। इनको सीधा ऊपर या कुछ अंश पर फायरिंग करके इनकी जांच की जा सकती है। हर तोप के गोले का व्यास अलग-अलग होता है। आजकल विश्व में जिन गोलों का सबसे ज्यादा चलन हैं वे १५५ मिमी व्यास के होते हैं। पुरानी तोपों के लिये १०५ मिमी,१२५ मिमी, १३० मिमी के गोले भी बनते हैं। सारी दुनिया धीरे-धीरे १५५ मिमी तोप की तरफ बढ़ रही है।

तोप की बैरल की लम्बाई और उसके व्यास (बोर) के अनुपात को कैलीबर कहते हैं। अगर किसी तोप के बारे में कहा जाये कि वह १५५ मिमी ,३९ कैलीबर की तोप है तो इसका मतलब है कि उसका व्यास १५५ मिमी और उसकी बैरल की लम्बाई १५५x ३९ होगी। तोप की प्रहार क्षमता आदि में इन सब बातों का बहुत प्रभाव पड़ता है।
तोप के गोलों के दो तरह के प्रूफ टेस्ट होते हैं। एक जिनमें कि केवल फायरिंग करके टेस्ट होते हैं। दूसरे जिसमें फायर किये गये गोलों के खोल बरामद करके उनका परीक्षण किया जाता है। इसे रिकवरी प्रूफ कहते हैं। इसमें गोले के खोल का परीक्षण करके देखा जाता है कि गोले सही बने हैं या कुछ गड़बड़ है। गोलों के प्रकार के अनुसार गोलों की ५००/१०००/२००० की लाट बनती हैं। इन लाटों में से कोई ५-१० गोले निकालकर उनकी फायरिंग करके टेस्ट होते हैं।

बालासोर में समुद्र अपने तट से पांच किमी तक पीछे लौट जाता है। इसकी इसी विशेषता के कारण इसे ‘रिकवरी प्रूफ’ के आदर्श स्थान माना जाता है। गोलों को जब फायर किया जाता है तो वे समुद्र में जा गिरते हैं। जब समुद्र पीछे जाता है तो फायर किये गये गोलों को खोज कर उनका परीक्षण किया जाता है।
यह सब बड़ी जटिल प्रक्रिया है। एकदम साधारण सा दिखने वाला एक तोप का गोला फायरिंग होने की स्थिति तक पहुंचते-पहुंचते हजारों चरणों से गुजरता है। कुछ तोप के गोलों की कीमत लाख रुपये के आसपास तक जा पहुंचती है। लाखों रुपये की कीमत की एक टैक गन अक्सर २५० गोलों को फायर करने के बाद बेकार हो जाती है।

विदेशी पर्यट्रक
विदेशी पर्यट्रक
यही कारण है कि विकासशील देशों के लिये युद्ध एक विलासिता है। एक दो हफ्ते की लड़ाई में ही देशों का बारह बज जाता है।
बालासोर प्रूफ रेंज के पास ही स्थित है अंतरिम टेस्ट रेंज। यहां मिसाइलों के परीक्षण चलते रहते हैं।

बालासोर का समुद्र तट शहर से करीब चालीस किमी दूर है। हम वहां भी गये। हमारे देखते-देखते एक विदेशी पर्यटक ने अपने सारे कपड़े उतार दिये और एक दम नंगा होकर समुद्र में कूद गया। काफी देर तक वह तैरता रहा। तमाम लोग उसे कौतूहल से देखते रहे। हमारी निगाहें भी दूर से उसका मुआयना कर रहीं थीं। जब वह समुद्र से बाहर निकला तो वहां पानी में तैरते नारियल के पेड़ के पत्ते को लपेटकर बाहर आया। हमने दूर से उसकी फोटो भी खींची।

पिछले दिनों बालासोर एक और खबर के लिये चर्चा में था। यहां के 13 गांवों के लोगों ने करीब दो दशकों तक सरकारी विभागों और अधिकारियों के चक्कर काटने के बाद एक नदी पर अपने पैसे से लकड़ी का पुल बनाकर विकास की रोशनी अपने इलाके तक पहुंचाने की कोशिश की।

बालासोर में हम लोगों का कोई रहने का जुगाड़ नहीं था। लिहाजा हम फ्री के जुगाड़ की तलाश में थे। अंतत: हम एक थाने में रुक गये। आज ताज्जुब होता है यह सब सोचकर कि जहां जाना हम गवारा नहीं करते उन जगहों पर हम ऐसे रह जाते रहे गोया वो हमारी खाला के घर के हों।

अपनी साइकिल यात्रा के दौरान हम अनेक ऐसी जगहों पर रुके जो हमारे लिये बिल्कुल अनजानी थीं। बिल्कुल अजनबी लोगों ने पांच-दस मिनट की बातचीत में अपने दिल और घर के दरवाजे हमारे लिये खोल दिये। आज जब मैं देखता हूं कि टीवी पर तमाम तरह की चेतावनियां आती हैं कि ‘अजनबियों से सावधान रहें’, ‘अनजान व्यक्ति की दी हुई चीज न खायें’ तो लगता है कि क्या सचमुच दुनिया इतनी बदल गयी है पिछले २३ सालों में कि कोई भरोसे काबिल नहीं रहा!

फ़ुरसतिया

अनूप शुक्ला: पैदाइश तथा शुरुआती पढ़ाई-लिखाई, कभी भारत का मैनचेस्टर कहलाने वाले शहर कानपुर में। यह ताज्जुब की बात लगती है कि मैनचेस्टर कुली, कबाड़ियों,धूल-धक्कड़ के शहर में कैसे बदल गया। अभियांत्रिकी(मेकेनिकल) इलाहाबाद से करने के बाद उच्च शिक्षा बनारस से। इलाहाबाद में पढ़ते हुये सन १९८३में ‘जिज्ञासु यायावर ‘ के रूप में साइकिल से भारत भ्रमण। संप्रति भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत लघु शस्त्र निर्माणी ,कानपुर में अधिकारी। लिखने का कारण यह भ्रम कि लोगों के पास हमारा लिखा पढ़ने की फुरसत है। जिंदगी में ‘झाड़े रहो कलट्टरगंज’ का कनपुरिया मोटो लेखन में ‘हम तो जबरिया लिखबे यार हमार कोई का करिहै‘ कैसे धंस गया, हर पोस्ट में इसकी जांच चल रही है।

12 responses to “बेल्दा से बालासोर”

  1. हिंदी ब्लॉगर
    तोपों, तोप-गोलों और बालासोर परीक्षण स्थल के बारे इतनी स्पष्ट जानकारी देने के लिए धन्यवाद! समुद्र के पीछे हटने के फ़ायदे के बारे में जानकारी चकित करने वाली लगी.
  2. श्रीश । ई-पंडित
    कुछ दिन पहले पंकज बेंगाणी उर्फ मास्साब ने कहा था कि वे इन फोटुऒं को बेहतर बनाने की तरकीब जानते हैं। लेकिन अभी तक वो इनको बेहतर बनाने के लिये हमारे निमंत्रण पत्र का इंतजार करते दिखते हैं। देखो भाई, इनको और कितना चमका सकते हो! कुछ करोगे-धरोगे या ऐसे ही बातें हांकते रहोगे!
    अगर फोटुओं की सपष्टता बढ़ाई जाए तो ठीक है लेकिन उन्हें रंगीन आदि करने की बात हो रही है तो हम कहेंगे कि मूल रुप में ही वो ज्यादा अच्छी लगेंगी।
  3. Pratik Pandey
    बढ़िया संस्मरण और अच्छी जानकारी
  4. bhuvnesh
    बालासोर से आगे सायकिल कहां पहुँची??????
  5. Pramendra Pratap SIngh
    अच्‍छा सस्‍मरण था, वर्णन भी उतनी तनमयता से किया गया, हमे आपनी यात्रा मे शामिल करने के लिये धन्‍यवाद। अगली बार कहॉँ घूमाने ले चल रहे है।
  6. समीर लाल
    गोला बारुदी जानकारी से भरपूर यात्रा वृतांत बढ़ियां रहा. अब साईकिल में हवा भर आगे चला जाये… :)
  7. अन्तर्मन
    काफ़ी रोचक एवं ज्ञानवर्धक वर्णन है – साइकिल आगे बढ़ाई जाए। हमेशा की तरह। नव वर्ष की मंगलकामनायें!
  8. amit tiwary
    गोला बारुदी जानकारी से भरपूर यात्रा वृतांत बढ़ियां रहा. अब साईकिल में हवा भर आगे चला जाये
  9. r p singh sadana
    dear friends ,
    hi’ this is rajendra pal singh from kanpur ,India. i m overjoyed to find my high school friend Dilip Golani in this feature. i d be obliged if u can help me by sending his e mail i d to me. is been around 20 odd years since we met . he is a great pal.
    thanks…
  10. r p singh sadana
    it has been a nice experience to go thru ur blog. i have become addicted to this! it makes me nostalgic…this is my e-mail address- rpsinghsadana@yahoo.co.in …if u have any information about Dilip Golani kindly pass it to me…
  11. फुरसतिया » ब्लागिंग् के साइड् इफ़ेक्ट्…
    [...] हमारे ब्लाग की पोस्ट पढ़कर कई लोगों ने अपने पहचान वालों के पते खोजे। दिलीप गोलानी के बारे में पता करने को उनके मित्र मेरे आर.पी.सिंह सदाना मेरे ब्लाग पर आये और उससे मुझे दिलीप गोलानी का जो हमारे साइकिल यात्रा के साथी थे के बारे में दुबारा पता चला। [...]

Post Comment

Post Comment

उभरते हुये चिट्ठाकार

http://web.archive.org/web/20110926112601/http://hindini.com/fursatiya/archives/220

उभरते हुये चिट्ठाकार

हमने राग दरबारी का अगला भाग पोस्ट करके आराम की सांस लेना शुरू ही किया था कि तरकश के इस तीर ने हमारे आराम का ‘हे राम!’ कर दिया। हम ‘सर्वश्रेष्ठ उभरता हुआ चिट्ठाकार – 2006′ के चुनाव के जज बना दिये गये। बनाये तो हम मुख्य जज गये थे लेकिन जब हमने बताया कि हमने आज तक चिट्ठा जगत में जो कुछ भी गलत-सही किया उसके लिये दोषी रवि रतलामी हैं। वे हमसे ज्यादा वसंत भी देखें हैं। इसलिये हमारी सजा उनसे अगर कम न कर सकें तो कम से कम बराबर तो कर दें। पता नहीं कैसे पंकज बेंगाणी को यह बात तुरंत समझ में आ गयी और उन्होंने रवि रतलामी को शिखर पर बैठा दिया। इससे लगा कि ईश्वर के यहां देर है अंधेर नहीं है।
जब मेरे जज बनने की बात आई तो यह मामला ‘पोयटिक जस्टिस’ बोले तो नैसर्गिक न्याय का लगता है। हम चूंकि आज तक कभी कोई इनाम पाये नहीं लिहाजा जज बनने के सर्वथा अनुकूल हैं। जैसे कि असफल लेखक श्रेष्ठ आलोचक की कुर्सी हथिया लेता है वैसे ही कभी इनाम न पाया हुआ व्यक्ति हमेशा बढ़िया तरह से बंटबारा कर सकता है। हमें कभी कोई इनाम मिला नहीं आज तक तो इसलिये हम पुरस्कारोत्सुक साथियों के मन की बातें बहुत अच्छी तरह से समझ सकते हैं। उनका दर्द हमारे अंदर ‘ब्रूफेन’ की आवश्यकता महसूस कराता सा लगता है। उनकी छटपटाहट का वर्णन करने में शायद ‘कामायनी’ की ये कुछ पंक्तियां समर्थ हों:-

मानस सागर के तट पर क्यों लोल लहर की घातें
टकराती, बलखाती सी ,पगली सी देती फेरीं।
[चिट्ठाकारों के मन समुद्र के किनारे तेज हंसी (लोल -लाफ आफ लाउडली) की लहरें मचल रहीं हैं। वे तट ( की बोर्ड ) से टकरा रहीं हैं, बल खा रहीं हैं(अकड़कर घोषणा पत्र जारी कर रहीं हैं) और पागलों की तरह फेरी लगा रहीं हैं (अपना माल बेचने के लिये)।]
जो चिट्ठाकार इनाम के लिये नामांकित हो चुके हैं वह अपने लिये मन में कोमल कल्पनाऒं के थान पर थान बुने चले जा रहें। वे यह सोच-सोचकर अपना जी हलकान किये हुयें हैं:-

” चूंकि जज लोग काबिल और पक्षपात रहित हैं लिहाजा काबिलियत ही पुरस्कार का मापदंड होगा। इसलिये पहला इनाम तो मुझे ही मिलना है लेकिन दूसरा व तीसरा इनाम कहीं किसी अयोग्य को न मिल जाये। क्या होता है न कि लोग यही देखते हैं कि जब दूसरा और तीसरा इनाम ऐसे अयोग्य को मिला तो पहला भी ऐसाइच कुछ होगा।”
कल्प्नालोक में पहला पुरस्कार पाने वाला दुआयें मांगता है-

“हे भगवान, या खुदा, पाक परवरदिगार, नीली छतरी वाले मौला, कारसाज मालिक, पहला इनाम तो जो आप मुझे दिला रहे हो उसकी मुझे कोई शिकायत नहीं है लेकिन आपसे यह इल्तिज़ा है कि दूसरा तीसरा इनाम किसी काबिल बंदे को ही दिलाना जिससे हमारी बेइज्जती न खराब हो!”
प्रतियोगिता है-‘सर्वश्रेष्ठ उभरता हुआ चिट्ठाकार – 2006′। उभरता मतलब उगता हुआ, निकलता हुआ, सामने आता हुआ। लगता है जो भी ज्यादा उभरता हुआ दिखे उसे चांप के पकड़ लो और थमा दो ताकि वो आगे न उभर सके। कहा जाये- बहुत उभर रहा था, दिया एक इनाम तो सारा उभरना भूल गये। तरकश में खासकर हिंदी वालों के लिये यह प्रतियोगिता पहली बार हो रही है। इसमें जिसको इनाम मिलेगा उसकी हरकतें तो बाद में पता चलेंगी लेकिन इंडीब्लागीस में जो लोग अभी तक इनाम पाये हैं उन लोगों ने इनाम पाने के बाद सबसे पहला काम यह किया है कि लिखना छोड़ दिया या कम कर दिया। आलोक, अतुल, शशिसिंह इसके गवाह हैं। डर यही है कि उभरता हुआ चिट्ठाकार कहीं उखड़ता हुआ चिट्ठाकार न बन जाये! :)
‘सर्वश्रेष्ठ उभरता हुआ चिट्ठाकार’ से लगता है कि यह लैंगिग भेदभाव का शिकार है। उभरते हुये के लिये है उभरती हुयी के लिये नहीं है। लेकिन यह मानते हुये कि चिट्ठाकार उभयलिंगी शब्द है और नर और मादा दोनों का इससे काम चल सकता है इसलिये हमारी इस बात को नैतिक सलाहों की तरह भुला दिया जाये। वैसे भी हमारा मुख्य उद्देश्य यही था कि यह बता दें कि हम कोई कम नुक्तेबाज नहीं हैं। जज को भी अपनी काबिलियत उछालते रहना चाहिये न!
हम यह सब सोच ही रहे थे कि उधर से फुरसतिया जी हांफते-हांफते भागते हुये आये। एकबारगी तो यह लगा कि कहीं यह भी न उभरने लगें लेकिन ऐसी कोई अनहोनी नहीं हुयी। वे आये और शुकुलजी से गुफ्तगू करने लगे।
फुरसतिया:- का गुरूजी, ई का सुन रहे हैं? सुना है चुनाव हो रहा है!
शुकुलजी:- (मन ही मन गुरूजी सुन के गच्च भी हैं कि दुनिया में कोई तो है उनका चेला। लेकिन साथ ही साथ यह सोचकर वे हलकान भी हो गये कल को ये भी वैसी ही हरकतें न करने लगे जैसे समीरलाल के साथ उनका चेला इस्माइली लगाते हुये करता है और वे बेचारे कुछ कह भी नहीं पाते।) हां सुना तो है हमने भी। कुछ न कुछ होते रहना चाहिये। दिल लगा रहता है।
फुरसतिया:- लेकिन गुरू ये तो बड़ा जुलुम है कि केवल उभरते हुये को इनाम मिले। उभर चुके को कुछ नहीं। क्या मजाक है!
शुकुलजी:- (गहरी सांस लेते हुये) अब जमाना युवाऒं का है। जो उभर चुका उसको क्या इनाम! जो उभर चुका वो इस माया मोह से उबर चुका। नये उभरते हुये लोगों को प्रोत्साहित करना सर्वथा उचित है।
फुरसतिया:- गुरू ये बताया जाये कि पंकज बेंगाणी ने अपना नाम वापस क्यों ले लिया?
शुकुलजी:- पंकज मास्साब रह चुका है। दूर तक देखता है। उसको पता है निकलना है ही। जज लोग निकालें या इसके बाद जनता निकाले इससे अच्छा है कि खुद ही निकल लो जिससे शहीदाना सुख तो हासिल हो जाये। उसको जज और जनता की बुद्धि पर पूरा विश्वास था।
फुरसतिया:- ये लोग अपने-अपने प्रचार में क्या-क्या लिख रहे हैं।
शुकुलजी:- ये प्रचार का बुफे सिस्टम है। अपना गाना खुद ही गाऒ। कोई दूसरा तो आपके लिये झूठ बोलेगा नहीं। आप अपने तारीफ खुद ही करो। अपने-मुंह तुम आपनि बरनी। ये अपनी तारीफ में आत्मनिर्भरता की तरफ बढते कदम हैं।
फुरसतिया:- लेकिन समीरलाल और उनका चेला आपने-सामने! ये कैसा जमाना आ गया है गुरुदेव!
शुकुलजी:- ये सब चुनावी चोंचले हैं। गुरु-चेला जोड़ी के लिये तो हिंदी के आदि चिट्ठाकार कबीरदास जी का यह दोहा सटीक है:-


गुरु, कुम्हार सिस कुंभ है, गढ़-गढ़ काढै़ खोट,
अंतर हाथ सहार दे बाहर, बाहै चोट।
[ये गुरु, चेला कुम्हार और घड़े के समान हैं( एक ही थैली के …हैं) । गुरूजी खोज-खोज कर चेले की बुराइयां निकालकर सामने ला रहे हैं (जैसे जाड़े में लोग पुरानी रजाई-कम्बल बक्से से निकाल-निकाल कर धूप में फैला देते हैं) वे अंदर-अंदर तो चेले को सहारा दे रहे हैं उसे सपोर्ट कर रहे हैं लेकिन बाहर-बाहर उस पर हमले का नाटक कर रहे हैं।

फुरसतिया:- और ये जो सागरजी कह रहे हैं कि उनके आदर्श धर्मेंन्दर हैं। ये क्या लफड़ा है? क्या कोई हेमामालिनीजी हैं उनकी निगाह में ?
शुकुलजी:- अरे नहीं भाई! निर्मलाजी(श्रीमती सागर) कोई प्रकाश कौर( धर्मेंन्द्र की पत्नी) हैं कि सागरजी को धर्मेंन्द्र की सारी कारगुजारी करनें दें! वैसे चिट्ठाकार बिरादरी इस पर एहतियातन निगाह रखे हुये है। सुना तो यह भी है कि पंकज ने इसीलिये नाम वापस लिया है ताकि वे सागरजी पर निगाह रख सकें। कहीं ऐसा न हो कि यहां वोटिंग के भभ्भड़ में सागर किसी चबूतरे( टंकी ऊंची होती है न!) पर चढ़ जायें और कहें -ब्लागबालों, हमें अगर बसंती (की टिप्पणी) न मिलीं तो मैं ब्लाग बंद कर दूंगा। फिर मनाते रह जाओगे हमें!
फुरसतिया:- जोशीजी के बारे में क्या कहना है?
शुकुलजी:- जोशीजी ने अभी-अभी रागदरबारी पढ़ना शुरू किया है। उसमें चुनाव जीतने की तरकीबों की से वे इतना प्रभावित हैं कि वे सारा कुछ उसी तरह चाहते हैं जैसा रागदरबारी में हुआ। लिहाजा वे सनीचर की आत्मा को अपने अंदर धारण करके उछलकूद करने लगे हैं।
फुरसतिया:- उन्मुक्तजी के बारे में क्या ख्याल है?
शुकुलजी:- उन्मुक्तजी ज्ञानी हैं, विद्वान हैं, महान हैं। उनके काम भी महान लोगों की तरह हैं। चुनाव के समय को सोचने का समय बताते हैं। अरे भाई, जो सोचेगा वो चुनाव लड़ेगा! जो सोचा उसका तो लग गया लोचा! चुनाव लड़ना तो निठल्लों का काम है। इसके अलावा इनका नाम है उन्मुक्त, रहते हैं गुप्त। अरे भाई, उन्मुक्त तो जितना वो होता है उससे ज्यादा हांकता है। जबकि उन्मुक्तजी बताते कम हैं छिपाते ज्यादा हैं। दूसरे उनकी घरैतिन हैं वे हैं मुन्ने की अम्मा! अब मुन्ने की अम्मा हैं, मुन्ने के बापू हैं लेकिन मुन्ना कहीं दिखता नहीं। ये तो ऐसे ही है कि किसी विकास और शील रहित देश को कोई कहे कि वो विकासशील देश है। जनता चाहती है कि मुन्ने के परिवार के बारे में खुलासा किया जाये!
फुरसतिया:- और ई-पंडित जी के बारे में क्या कहते हैं आप?
शुकुलजी:- पंडितजी अभी आये हैं। शंख, घड़ियाल अच्छा बजाते हैं। लेकिन अब आगे मंत्रोच्चार भी देखना होगा कैसे करते हैं। देरी से आने के चलते दौड़-दौड़ कर चुनाव प्रचार करना होगा। अभी तो उनके नाम के बारे में ही लोग कन्फुजिया जाते हैं। कोई शिरीष लिखता है, कोई श्रीष, कोई श्रीश। कोई लिखते-लिखते परेशान होकर कहता है -हे ईश! लेकिन चुनाव जीतने के लिये पंडितजी को बहुत टिप्पणियां खर्चा करनी पड़ेंगी। चुनाव आचार संहिता लगने के बाद वह भी काम मुश्किल हो जायेगा।
फुरसतिया:- सुना है आप भी कुछ जज्ज-फज्ज बने हो। आप किसको चुनेंगे?
शुकुलजी:- भैया, हम तो उसी को चुनेंगे जिसने नियमित लिखा। अच्छा लिखा और सबसे ज्यादा क्रिया शील रहा। बैनर टांग के नारियल फोड़कर व्यस्त हो जाने वाले लोग हमसे कोई आशा न रखें?
शुकुलजी अपनी हांकने के पूरे मूड में थे लेकिन तक तक इस बोर- वार्तालाप में व्यवधान पैदा किया टेलीफोन की किर्र-किर्र ने। पता लगा लाइन पर जीतेंदर थे। वार्तालाप का विवरण कुछ ऐसा है:-
जीतेंद्र:- क्या दादा, अब क्या हम इसी काबिल रह गये हैं कि जज बना दिये जायें?
शुकुल:- हां, बात तो सही है। जज किसी कायदे के आदमी को बनाना चाहिये। तुमको बनाने से प्रतियोगिता के स्तर के बारे में लोग सवाल उठायेंगे।
जीतेंद्र:- अबे, कभी तो मजाक को तलाक देकर बात किया करो।
शुकुल:- मजाक क्या पद और गोपनीयता की शपथ है जो हम इसे खाकर भूल जायें। बिना मौज लिये तो हम सांस भी नहीं ले पाते। इहै हमार इस्टाइल बा! खैर बताओ अपने काबिलियत के बारे में कैसे गलतफहमी हुई? क्या कष्ट है?
जीतेंद्र:- गुरू, ये जजगीरी के लिये नाम जब आया तो हमें कुछ ऐसा लग रहा है जैसे हीरोइनों की उमर में हमें मां के रोल दे दिये गये हों।
शुकुल:- अबे, तो देखते नहीं एकता कपूर के सीरियलों में तमाम मायें लड़कियों से ज्यादा हसीन लगती हैं। मां-बच्चियों का ब्यूटी कम्पेटीशन कुछ-कुछ ऐसे ही लगता है यहां गुरू-चेला की चुनावी भिड़ंत। तुम्हें तो खुश होना चाहिये कि तुमको इतना हसीन समझा गया और जजों के केंद्र में रखा गया। तुम बीच की चीज हो गये! क्या जलवे हैं। बल्ले-बल्ले हैं। झाड़े रहो कलट्टरगंज!
जीतेंद्र फोन पटक कर चले गये। हमें आन लाइन दिख रहे हैं। उनके खाते के आगे संदेश लिखा है- जब मैं थक जाता हूं तो दोस्तों से बात करता हूं। मुझे यह समझ में नहीं आ रहा है कि ये कनपुरिया बबुआ फोन कब पटकता है!

फ़ुरसतिया

अनूप शुक्ला: पैदाइश तथा शुरुआती पढ़ाई-लिखाई, कभी भारत का मैनचेस्टर कहलाने वाले शहर कानपुर में। यह ताज्जुब की बात लगती है कि मैनचेस्टर कुली, कबाड़ियों,धूल-धक्कड़ के शहर में कैसे बदल गया। अभियांत्रिकी(मेकेनिकल) इलाहाबाद से करने के बाद उच्च शिक्षा बनारस से। इलाहाबाद में पढ़ते हुये सन १९८३में ‘जिज्ञासु यायावर ‘ के रूप में साइकिल से भारत भ्रमण। संप्रति भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत लघु शस्त्र निर्माणी ,कानपुर में अधिकारी। लिखने का कारण यह भ्रम कि लोगों के पास हमारा लिखा पढ़ने की फुरसत है। जिंदगी में ‘झाड़े रहो कलट्टरगंज’ का कनपुरिया मोटो लेखन में ‘हम तो जबरिया लिखबे यार हमार कोई का करिहै‘ कैसे धंस गया, हर पोस्ट में इसकी जांच चल रही है।

17 responses to “उभरते हुये चिट्ठाकार”

  1. संजय बेंगाणी
    बहुत सुन्दर. गुदगुदी से उपर तथा टहाको से नीचे वाले भावो से विभोर हो गए. अच्छी मौज ली है. रविवार को बहुत सारी पठन सामग्री डकार जाते हैं, शुरूआत आपके लेख से हुई है.
  2. pankaj bengani
    पता नहीं था द्रोण चाचु की मैने इसलिए नाम वापस लिया है। :-)
    यह तो सही सुझाय दिए हो। अन्यथा ना लेते हुए उपर रखी स्माइली पर निशाना लगाया जाए।
  3. श्रीश । ई-पंडित
    हमें कभी कोई इनाम मिला नहीं आज तक तो इसलिये हम पुरस्कारोत्सुक साथियों के मन की बातें बहुत अच्छी तरह से समझ सकते हैं।
    हे-हे, जज साब हम जीत गए तो आपको ‘सर्वश्रेष्ठ जज’ का पुरुस्कार दिलवाने का बंदोबस्त किया जाएगा। ;)
    पंडितजी अभी आये हैं। शंख, घड़ियाल अच्छा बजाते हैं। लेकिन अब आगे मंत्रोच्चार भी देखना होगा कैसे करते हैं।
    मंत्रोच्चार तो हमरा खानदानी काम है जी, मंतर भी पढ़ेगें और हवन भी करेंगे। देखते जाइएगा आप। :)
    भैया, हम तो उसी को चुनेंगे जिसने नियमित लिखा। अच्छा लिखा और सबसे ज्यादा क्रिया शील रहा। बैनर टांग के नारियल फोड़कर व्यस्त हो जाने वाले लोग हमसे कोई आशा न रखें?
    लेकिन हम ‘बैनर टांग के नारियल फोड़कर व्यस्त हो जाने’ खातिर नहीं बल्कि लम्बी तपस्या करने आये हैं। ई चुनाव-वुनाव का चक्कर तो खैर ब्लॉगर भाईयों मा भाईचारा बढ़ाने के खातिर ही है। हमरी दिली इच्छा तो सिर्फ ई है कि जब कहीं पर ब्लॉगरों का नाम लिया जाए तो लोग कहें कि भईया ई पंडित जी, लिखता तो कौनो खास नहीं पर है होनहार आदमी। (इस बार स्माईली नहीं लागाऊंगा सीरियस हूँ)
  4. सागर चन्द नाहर
    बहुत मजेदार लिखा है, हँसते हँसते पेट में बल पड़ गये।
    एक कटु सत्य लिख दिया कि
    हम चूंकि आज तक कभी कोई इनाम पाये नहीं लिहाजा जज बनने के सर्वथा अनुकूल हैं। जैसे कि असफल लेखक श्रेष्ठ आलोचक की कुर्सी हथिया लेता है वैसे ही कभी इनाम न पाया हुआ व्यक्ति हमेशा बढ़िया तरह से बंटबारा कर सकता है।
  5. ratna
    जजी मुबारिक हो। अब इन्तज़ार है आपके जज बनने पर हुए तजुर्बे की मज़ेदार बयानबाज़ी का।
  6. bhuvnesh
    “डर यही है कि उभरता हुआ चिट्ठाकार कहीं उखड़ता हुआ चिट्ठाकार न बन जाये!”
    सौ आने सच कह दिया सरकार
    इसीलिए तो हम अभी तक प्रचार से दूर हैं :-)
  7. SHUAIB
    ख़ुदा के चिट्ठाकार को उखड़ता हुआ चिट्ठाकार कहना अच्छी बात नही ;)
    अच्छा है कि इस वर्ष का उभरता हुआ चिट्ठाकार को निराश नही क्या जाएगा :)
    कृपया समाईली पर ध्यान दें :)
  8. जगदीश भाटिया
    हमेशा की तरह बहुत खूब लिखा :)
    हंसते हंसाते सब कुछ कह दिया ….! :D
  9. शशि सिंह
    बहुत सही गुरुदेव… उभरता हुआ चिट्ठाकार का खिताबवा देने का मतलबे होता है कि जो उभरता हुआ हो उसे खिताबवा देके उभरने से रोका जाये. वइसेही चिट्ठाजगत में बहुत लिखाड़ हैं… यही बहाने एगो कौनो का पकाऊ लेखन पढ़ने से तो छूटकारा मिले. [:)] ई बात हम अपना निजी अनुभव के आधार पर कह रहे हैं.
    “हे भगवान, या खुदा, पाक परवरदिगार, नीली छतरी वाले मौला, कारसाज मालिक, पहला इनाम तो जो आप मुझे दिला रहे हो उसकी मुझे कोई शिकायत नहीं है लेकिन आपसे यह इल्तिज़ा है कि दूसरा तीसरा इनाम किसी काबिल बंदे को ही दिलाना जिससे हमारी बेइज्जती न खराब हो!”
    पिछली बार सच्ची हम इहे दुआ मांगे थे… भगवान ने आपको दूसरा स्थान दिलाकर हमरा बेइज्जती खराब होने से बचा लिया था. [;)]
  10. Jitu
    1) भरता मतलब उगता हुआ, निकलता हुआ, सामने आता हुआ। लगता है जो भी ज्यादा उभरता हुआ दिखे उसे चांप के पकड़ लो और थमा दो ताकि वो आगे न उभर सके
    2) गुरू ये तो बड़ा जुलुम है कि केवल उभरते हुये को इनाम मिले। उभर चुके को कुछ नहीं। क्या मजाक है!
    3) पंडितजी अभी आये हैं। शंख, घड़ियाल अच्छा बजाते हैं। लेकिन अब आगे मंत्रोच्चार भी देखना होगा कैसे करते हैं।
    4)ये प्रचार का बुफे सिस्टम है। अपना गाना खुद ही गाऒ। कोई दूसरा तो आपके लिये झूठ बोलेगा नहीं। आप अपने तारीफ खुद ही करो। अपने-मुंह तुम आपनि बरनी। ये अपनी तारीफ में आत्मनिर्भरता की तरफ बढते कदम हैं।
    5)जज किसी कायदे के आदमी को बनाना चाहिये। तुमको बनाने से प्रतियोगिता के स्तर के बारे में लोग सवाल उठायेंगे।
    Points Noted….. Action to be taken in next post.
  11. उन्मुक्त
    :-) :-)
  12. समीर लाल
    वे अंदर-अंदर तो चेले को सहारा दे रहे हैं उसे सपोर्ट कर रहे हैं लेकिन बाहर-बाहर उस पर हमले का नाटक कर रहे हैं।
    आप तो अंतर्यामी हैं, प्रभु. सब समझते हैं. मेरी दिली इच्छा और शुभकामनायें शिष्य गिरिराज के साथ हैं. (१/३)(१,२,३ में से कौन सा-यह बताऊँगा नहीं, मगर शिष्य काबिल है, सब समझता है). और बाकी अन्य बचे दो स्थानों के लिये भी मेरे दो बहुत खास लोग हैं. अब नाम नहीं लूँगा, वो तो वो दोनों समझ ही जायेंगे, क्यूँ मित्रों, समझ गये न!! :)
    —बाकि, फुरसतिया जी, लिखें हमेशा की तरह जबरदस्त फटाका आईटम हैं, बधाई!!
  13. GIRISH BILLORE MUKUL
    aap to pandit je gazab ke likkhaad hain
  14. anupam agrawal
    आप बहुत अच्छा लिखते हैं | लेकिन ये भी लग रहा है कि सारे हिंदुस्तान की तरह यहाँ भी पहले प्रतियोगिता के जजों के कोई मानक नही तय हैं ….थोड़े लिखे को बहुत समझना .
    बस ये अवश्य तय हो गया कि कम से कम वो तो प्रतियोगिता में दावा नहीं कर पायेगा
  15. anupam agrawal
    आप बहुत अच्छा लिखते हैं |
    एक बात और समझ में आ गयी कि हर प्रतियोगिता की तरह इसमें भी निर्णायक के कोई मानक नहीं तय हैं .
    हाँ यह ज़रूर सुनिश्चित हो गया कि फलां फलां चिट्ठाकार इसमें आगे से भाग नहीं ले पायेगा .
    है ना अच्छा तरीका
  16. फ़ुरसतिया-पुराने लेख
    [...] 5.देश का पहला भारतीय तकनीकी संस्थान 6.उभरते हुये चिट्ठाकार 7.बेल्दा से [...]
  17. : फ़ुरसतिया-पुराने लेखhttp//hindini.com/fursatiya/archives/176
    [...] 5.देश का पहला भारतीय तकनीकी संस्थान 6.उभरते हुये चिट्ठाकार 7.बेल्दा से [...]

Post Comment

Post Comment

Google Analytics Alternative