Friday, September 25, 2009

पुष्प की गंध से कुछ खटक सी गई

http://web.archive.org/web/20140419215919/http://hindini.com/fursatiya/archives/676

33 responses to “पुष्प की गंध से कुछ खटक सी गई”

  1. कुश ' पैदायशी विनम्र '
    ये क्या लफडा है..?
    कुश: हर चीज में लफ़ड़ा ही देखते हो। पूरे ब्लागर हो। कभी हसीन मेल-मिलाप के बारे में भी सोचा करो। :)
  2. संजय बेंगाणी
    ईयाँ भी लफड़ा…
    संजय बेंगाणी: कित्ता हसीन है न! :)
  3. Pankaj
    शुक्ला जी बहुत ही सुन्दर शब्दों की प्रयोग और एक और फुर्सत से किया हुआ पोस्ट
  4. विनोद कुमार पांडेय
    खूबसूरत कविता..
  5. Anonymous
    फूल, भौंरों, तितलियों की खाप नहीं होती क्या? थोडा डरकर संभल कर रहने को कहिए इन सबको.
    घुघूती बासूती
  6. वन्दना अवस्थी दुबे
    मौका ताड़कर गंध ने पुष्प को छू लिया
    फ़ूल बादशाहों सा अकड़ा कहा- तखलिया
    धीरे-धीरे कवि बनते जा रहे हैं आप. मज़ा आ गया.
  7. ताऊ रामपुरिया
    पुष्प ने गंध से फ़िर कुछ इशारा किया
    मुस्कराकर कुछ किया बस लाइन कट गयी।
    बहुत शुभकामनाएं.
    रामराम.
  8. Abhishek Ojha
    आप तो छायावादी कवि हो लिए :)
  9. shefali pande
    मुस्कराकर कुछ किया बस लाइन कट गयी।
    बी . एस . एन . एल . की थी क्या ??
  10. om arya
    aapki rachana bemishal hai ………….isase jyad kuchhnahi kah paunga
  11. सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी
    कवि हृदय फुरसतिया जी को सलाम।
    यहाँ भी आपको लफ़ड़े के नाम पर उकसाया जा रहा है। लेकिन हम जानते हैं कि आप केवल मौज ले रहे हैं। अन्तर यह है कि इस बार फूल, कलिया, भौंरे, खुशबू आदि आपकी मौज के पात्र हैं।
    मनुष्य से कुछ डर गये हैं क्या?:)
  12. chandan
    बहुत सुन्दर कविता । आभार ।
  13. मारतण्ड वैद्य ’ हथकँडॆ वाले’

    जुकाम का इलाज़ कराया क्या ?
    पहले करवा तो लीजिये, फिर गँध बताइयेगा ।
    अपुन की खोपड़ी 360 डिग्री घूम रैली है, माईबाप !

  14. समीर लाल ’उड़न तश्तरी’ वाले
    कविश्रेष्ट का हार्दिक अभिनन्दन!!
    कित्ते गहरे भाव हैं :)
  15. Ghost Buster
    कविता जी अच्छी लगीं.
  16. दिनेशराय द्विवेदी
    वाह! क्या कथा है!
  17. satish saxena
    कविश्रेष्ट का हार्दिक अभिनन्दन!!
    कित्ते गहरे भाव हैं
  18. satish saxena
    क्यों टाइम खोटा करते हो यार !डॉ अमर कुमार को बोलना चाहिए कुछ इस पोस्ट पर !
    पुष्प की गंध से कुछ खटक सी गयी , क्या खटक गयी या गया… वह भी पुष्प गंध ,
    विवेक सिंह ही सही हैं आपकी इस फुरसत से निपटने के लिए !
    सुबह सुबह कविता पढ़ा कर सिर दर्द देने के लिए शुक्रिया , खासियत आपकी यह है की आपको पढना पूरा पढता है बाद में महसूस होता की हमारे साथ क्या हुआ
  19. ज्ञानदत्त पाण्डेय
    कौन वादी कविता है यह? मौज वादी?!
  20. Anonymous
    भाई आपकी कविता में कमाल की रवानगी है. खासकर – फ़िर तितलियां भौंरों से फ़ुसफ़ुसाने लगीं. यों आपके ब्लॉग पर टिप्पणी के जवाब पढ़ना भी रोचक लगता है.
  21. चंद्र मौलेश्वर
    “नैंन-सैन चुंबन की ले-दे फ़टाफ़ट हुई।”
    बड़ी लटाफ़ट [लताफ़त!] वाली कविता ठेल दी आज तो:) बधाई।
  22. ताऊ रामपुरिया
    इष्ट मित्रों एवम कुटुंब जनों सहित आपको दशहरे की घणी रामराम.
  23. Manoshi
    आप और कवि…? चलिये कवि भी ठीक है, मगर ऐसी फूल और भौंरे, तितली और खुश्बू की कविता???? सब ठीक है न?
  24. seema gupta
    हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हमने तो आज ही पढ़ी …..क्या चित्र खींचा है फुल तितली हवा और न जाने क्या क्या क्या…..आपही ने लिखी है न हा हा हा हा
    regards
  25. Anonymous
    wah kya laazwab rachana ,aapki vyang shaily ki tarif jitni ki jaai utni kam hai .kamaal ka likhte hai .kal , vandana ji jo meri aziz mitr hai unke blog dwara baatchit ke dauraan aapka namaskar bhi mila aur aapki rachana bhi padhi ,padhne ke baad urja ka sanchar hone laga ho ,wo taazgi mahsoos hui .anup ji aapko phir namaskaar .
  26. kavita
    सुंदर अभिव्यक्ति।
    ———-
    डिस्कस लगाएं, सुरक्षित कमेंट पाएँ
  27. SHUAIB
    बड़े जवान अंदाज़ हैं आपके, पहले बताओ ये आईडिया कैसे आगया अचानक?
  28. randhirsinghsuman
    पुष्प ने गंध से फ़िर कुछ इशारा किया
    मुस्कराकर कुछ किया बस लाइन कट गयी।nice
  29. rajni bhargava
    क्या कहने । कहाँ-कहाँ भटक रहे हैं ?
  30. फ़ुरसतिया-पुराने लेख
    [...] पुष्प की गंध से कुछ खटक सी गई [...]
  31. cure for diabetes
    Hey, just seeking about some blogs, appears a fairly nice platform you are using plus the theme too. I’m currently working with WordPress to get a handful of of my web-sites but wanting to transform one of them over to a platform similar to yours as a trial run. Anything in distinct you’d suggest about it? …
  32. autoboss v30 price
    Thanks for your content material. 1 other factor is whenever you are promoting your property by yourself, among the difficulties you must be aware of upfront is when to deal with household inspection records. As a FSBO seller, the crucial towards successfully moving your property as well as saving money about true estate agent revenue is expertise. The far more you understand, the softer your residence sales effort will likely be. 1 region exactly where by this can be specifically important is information and facts about residence inspections.
  33. Starting an online business
    we must constantly be updated with recent events due to the fact it can be significant for us to

Post Comment

Post Comment

Thursday, September 24, 2009

….गुस्से के पाले में कबड्डी

http://web.archive.org/web/20140419214129/http://hindini.com/fursatiya/archives/680

….गुस्से के पाले में कबड्डी

आज सोचा कि एक पुरानी पोस्ट ही ठेल दी जाये। देखिये।

गुस्से के कुछ सौंन्दर्य उपमान

[ मिज़ाज, ज़बान और हाथ, किसी पर काबू न था, हमेशा गुस्से से कांपते रहते। इसलिए ईंट,पत्थर, लाठी, गोली, गाली किसी का भी निशाना ठीक नहीं लगता था खोया पानी]
मीटिंग अच्छी-खासी चल रही थी। साहब को अचानक किसी बात पर गुस्सा आ गया। वैसे वे गुस्से के लिए कभी किसी बात के मोहताज भी नहीं रहे। जब मन आया कर लिया। कभी-कभी तो बेमन से भी गुस्से के पाले में कबड्डी खेलने लगते। लेकिन बेमन से गुस्सा करने में उनको वो मजा न आता। लगता गुस्सा न करके बंधुआ मजदूरी कर रहे हों।
गुस्सा
गुस्से की गर्मी से अकल कपूर की तरह उड़ गयी। जो मोटी अकल जो उड़ न पायी वो नीचे सरक कर घुटनों में छुप गयी। दिमाग से घुटने तक जाते हुये शरीर के हर हिस्से को चेता दिया कि साहब गुस्सा होने वाले हैं। संभल जाओ। सारे अंग अस्तव्यस्त होकर कांपने लगे। कोई बाहर की तरफ़ भागना चाह रहा था कोई अंदर की तरफ़। इसी आपाधापी में उनके सारे अंग कांपने लगे। मुंह से उनके शब्द-गोले छूटने लगे। मुंह से निकलने वाले शब्द एक दूसरे को धकिया कर ऐसे गिर-गिर पड रहे थे जैसे रेलने के जनरल डिब्बे से यात्री उतरते समय कूद-कूद कर यात्रियों पर गिर-गिर पड़ते हैं।
गुस्से में साहब के मुंह से निकलने वाले बड़े-बड़े शब्द आपस में टकरा-टकरा कर चकनाचूर हो रहे हैं। बाहर निकलने तक केवल अक्षर दिखाई देते हैं। लेकिन वे जिस तरह से बाहर टूट-फ़ूट कर बाहर सुनायी देते हैं उससे पता नहीं लगता कि अक्षर बेचारा किस शब्द से बिछुड़कर बाहर अधमरा गिरा है। ‘‘ सुनाई देता तो पता नहीं लगता कि ‘हम‘ से टूट के गिरा है ‘हरामी’ से। हिम्मत खानदान का है या हरामखोर घराने का! अक्षरों का डी.एन.ए. टेस्ट भी तो नहीं होता।
साहब गुस्से में कांप रहे हैं। किसी पम्प सेट के पाइप सरीखे उनका मुंह हिल रहा है। शब्दों की धार बाहर निकल रही है। गुस्से में कांपने का मतलब यह नहीं होता कि गुस्सा बहुत तेज है। कांपना ड्रर के मारे होता है कि अगला भी न गुस्साने लगे। न्यूटन का क्रिया-प्रतिक्रिया का नियम हर जगह सही साबित होता है।
मैंने आज तक जितने गुस्सैल लोग देखे हैं हमेशा उनके गुस्से को ऊर्जा के गैरपरम्परा गत स्रोत की तरह पाया। अगर लोगों के गुस्से के दौरान निकलने वाली ऊर्जा को बिजली में बदला जा सके तो तमाम घरों की बिजली की समस्यायें दूर हो जायें। जैसे ही कोई गुस्से में दिखा उसके मुंह में पोर्टेबल टरबाइन और जनरेटर सटा दिया। दनादन बिजली बनने लगेगी। अभी लोग गुस्सैल लोगों से बचते हैं। तब लोग गुस्सैल लोगों से बिजली के खंभे की कटिया से सटे रहेंगे।
जैसे लोग नहाते समय आमतौर पर नहाते समय कपड़े उतार देते हैं वैसे ही गुस्से में लोग अपने विवेक और तर्क बुद्धि को किनारे कर् देते हैं। कुछ लोगों का तो गुस्सा ही तर्क की सील टूटने के बाद शुरू होता है। बड़े-बड़े गुस्सैल लोगों के साथ यह सच साबित हुआ है। गोस्वामी तुलसीदास ने लक्ष्मण जी के गुस्से का सौंदर्य वर्णन करते हुये लिखा है-


माखे लखन कुटिल भई भौंहें। रदपट फ़रकत नयन रिसौंहें॥ लक्ष्मणजी तमतमा उठे। उनकी भौंहें टेढ़ी हो गयीं। ओंठ फ़ड़कने लगे और आंखे गुस्से के मारे लाल हो गयीं।
गुस्से के लक्षण देखते ही उनकी तर्क बुद्धि ने उनसे समर्थन वापस ले लिया और वे बोले-

जो राउर अनुशासन पावौं। कंदुक इव ब्रह्मांड उठावौं॥
काचे घट जिमि डारौं फोरी। सकऊं मेरू मूलक जिमि तोरी॥ यदि भगवान राम की आज्ञा पाऊं तो ब्रह्मांड को गेंद की तरह उठा लूं। उसे कच्चे घड़े की तरह फोड़ डालूं। सुमेरू पर्वत को मूली की तरह तोड़ दुं।
जिस ब्रह्मांड में हम खड़े हैं उसे उठाने और घड़े के समान फोड़ देने की कल्पना केवल गुस्से में ही की जा सकती है। पोयटिक जस्टिस के सहारे। हम तो अपनी कुर्सी सहित अपने को उठाने की कल्पना करने में ही परेशान हो जायें। :)
गुस्से में आदमी चाहे जौन सी भाषा बोले समझ में नहीं आती। लेकिन भारत में लोग गुस्सा करते समय और प्यार जताते समय अंग्रेजी बोलने लगते हैं। ऐसा शायद इसलिये होगा कि जो भाषा समझ में न आये उसमें अटपटी बातें बेझिझक कही जा सकती हैं।
मुझे तो यह भी लगता है कि शायद भारत की भाषा नीति भी गुस्से के कारण बनी। आजादी के बाद लोग अंग्रेजों से बहुत खफ़ा रहे होंगे। अब अंग्रेज तो हमारी भाषायें सीखने से रहे। (जब हम ही नहीं सीखते तो वे क्या सीखेंगे? ) इसलिये उनके प्रति गुस्सा जाहिर करने के लिये लोगों ने अंग्रेजी का प्रयोग शुरू किया। सोचा होगा दस बीस साल में जब सारा गुस्सा खतम हो जायेगा तब अपनी भाषायें अपना लेंगे। लेकिन अंगेजी अब काफ़िर की तरह मुंहलगी होगी। कम्बख्त छूटती ही नहीं।
गुस्से में अंग्रेजी के महत्व का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जब साहब तेज आवाज में अंग्रेजी बोलने लगें तो समझा जाता वे गुस्से में हैं। लेकिन इसे गुस्सामीटर की तरह मानना जल्दबाजी होगी। होता दरअसल यह है कि गुस्सा करने का वाले का दिमाग पटरी से उतर जाता है। सो भाषा को भी अपनी पटरी बदलनी पड़ती है। इसलिये देशज भाषायें बोलने वाला अंग्रेजी बोलने लगता है, अंग्रेजी जानने वाला फ़्रेंच बोलने लगता है, फ़्रेंच जानने वाला फ़्राई होकर लेटिन बोलने लगता है। मतलब जो जिस भाषा में सहज होता उससे अलग दूसरी भाषा का दामन पकड़ लेता है ताकि असहज लगे। लोगों को पता लगे कि अगला गुस्से में है। यही नहीं भाषा के अलावा लोग दूसरे प्रशाधन भी इस्तेमाल करते हैं। बड़बोला मौन हो जाता है, मितभाषी बड़बोला हो जाता है। धीमे बोलने वाला चिल्लाने लगता है। चिल्लाने वाला चिंघाड़ने लगता है। चिंघाड़ते रहने वाला हकलाने लगता है। हकलाते रहने वाले के मुंह में ताला पड़ जाता है।
गुस्सा करने वाले के दुख एक गुस्सा करने वाला ही जानता है।
क्या आपको गुस्सा आ रहा है? :)

24 responses to “….गुस्से के पाले में कबड्डी”

  1. Manoshi
    ” गुस्से में आदमी चाहे जौन सी भाषा बोले समझ में नहीं आती। लेकिन भारत में लोग गुस्सा करते समय और प्यार जताते समय अंग्रेजी बोलने लगते हैं। ”
    :-) सहमति । और सामने वाला भी उसी भाषा को समझता है। :-)
  2. गिरिजेश राव
    मुझे गुस्सा आ रहा है।
    यह रीठेलन पहले क्यों नहीं किए?
    @
    गुस्से में साहब के मुंह से निकलने वाले बड़े-बड़े शब्द आपस में टकरा-टकरा कर चकनाचूर हो रहे हैं। बाहर निकलने तक केवल अक्षर दिखाई देते हैं। लेकिन वे जिस तरह से बाहर टूट-फ़ूट कर बाहर सुनायी देते हैं उससे पता नहीं लगता कि अक्षर बेचारा किस शब्द से बिछुड़कर बाहर अधमरा गिरा है। ‘ह‘ सुनाई देता तो पता नहीं लगता कि ‘हम‘ से टूट के गिरा है ‘हरामी’ से। हिम्मत खानदान का है या हरामखोर घराने का! अक्षरों का डी.एन.ए. टेस्ट भी तो नहीं होता।

    मैं इस ह-कार पर खूब हँ-सा।
  3. दिनेशराय द्विवेदी
    इसे पढ़ कर तो गुस्सा बिलकुल न आया। हाँ यह जरूर याद आया कि आप लगातार इस तरह गद्य क्यों नहीं लिखते।हम पाठक तो तरसते रहते हैं।
  4. nirmla.kapila
    हमारे लिये तो ये भी नयी पोस्ट है ।हमे तो गुस्सा नहीं आता जी। बहुत बडिया लगे रहिये शायद आज कर ब्लाग्ज़ पर गुस्से की लहर चल रही है।
  5. विवेक सिंह
    इतनी छोटी पोस्ट लिखेंगे,
    मैंने कभी न सोचा,
    पब्लिश बटन दबा गुस्से में?
    आखिर क्या है लोचा?
    फुरसतिया जी गुस्सा थूकें,
    यही हमारी राय,
    हमको डर है गुस्से में ना,
    लें कानपुर उठाय.
    उठा कानपुर कहाँ रखेंगे,
    पहले लेना सोच,
    खूब दण्ड-बैठक कर लेना,
    ना आ जाये मोच.
    गुस्से में यह लिखी टिप्पणी,
    इसीलिए है छोटी,
    बहुत प्यार से लिखी गई है,
    इसे न समझें खोटी.
    मेजर गौतम राजरिशी की जय
  6. ताऊ रामपुरिया
    यही नहीं भाषा के अलावा लोग दूसरे प्रशाधन भी इस्तेमाल करते हैं। बड़बोला मौन हो जाता है, मितभाषी बड़बोला हो जाता है। धीमे बोलने वाला चिल्लाने लगता है। चिल्लाने वाला चिंघाड़ने लगता है। चिंघाड़ते रहने वाला हकलाने लगता है। हकलाते रहने वाले के मुंह में ताला पड़ जाता है।
    वाह वाह…हकलाने का राज अब समझ आया. अति सुंदर पोस्ट.
    रामराम.
  7. संजय बेंगाणी
    जब साहब तेज आवाज में अंग्रेजी बोलने लगें तो समझा जाता वे गुस्से में हैं।… हा हा ही ही क्या बात कह दी….
    वैसे किस बात पर गुस्सा हैं जो गुस्से पर पोस्ट उतारी…. :)
  8. विनोद कुमार पांडेय
    बहुत बढ़िया आपने तो गुस्से पर पूरा निबंध लिख डाला..एक बार गुस्सा
    करने वाले भी रुक जाएँगे..और सोचेंगे यार कही मेरा स्टाइल वैसे तो नही मिल रहा है जैसा आपने चर्चा किया यहाँ..मजेदार ढंग से….बहुत बहुत धन्यवाद..
  9. अर्कजेश
    मैनें सुना है कि बंगाली लोग गुस्से में हिन्दी बोलने लगते हैं और देशी हिन्दी बोलने वाले खडी हिन्दी बोलने लगते हैं ।
    एकदम ताजा सप्लाई है गुस्सा वर्णन की ।
  10. बी एस पाबला
    एक गुस्सा करने वाला ही दूसरे के गुस्से को समझ कर वर्णन कर सकता है :-)
  11. वन्दना अवस्थी दुबे
    ऐसा गुस्सा-वर्णन तो गुस्सा करने वाला या गुस्सा झेलने वाला ही कर सकता है (!)
  12. कुश ' पैदायशी विनम्र '
    गुस्सा थूक दीजिये जी..
    अब कहा थूकना है ये भी हम बताये क्या..?
  13. kavya
    लगता है कि कोई गुस्से वाला आपसे टकरा गया था।
    ह ह हा।
    वैज्ञानिक दृ‍ष्टिकोण अपनाएं, राष्ट्र को उन्नति पथ पर ले जाएं।
  14. Abhishek Ojha
    गुस्सा आ रहा होता तो अंग्रेजी में नहीं लिखते :)
  15. arvind mishra
    …….तो अब नयी बोतल में पुरानी शराब परोसी जा रही है !
  16. हम्मैसा नाख़ुश

    ह्न्ब क्रेत पत्तेर बाल्केयाँ ओं ओं हुप्र्प्र्प्र्प्रट मुह्राय्तेर ब्जोला हे कौर्राइफ़ ऊँक ऊँक उयेरावदन हो हौ हः हः हः हाऽऽहः हःत्त !!

    मेरे को भी सुबू से गुस्सा सता रैये थो । आप्का लेखाँ ने इनकू ठँडी किये अण हमीं के इतना बोलेइच गाएब होते पड़े ।
    आपने मेरे गुस्से को अभिव्यक्ति का माध्यम दिया, भाव मेरे शब्द तेरे टाइप का मुख से जो भी प्रक्षेपित होता भया, यहाँ लिख दिया जी ।
    इनका मोटा मोटी मतलब यही कि हम क्रोधाभिव्यक्त हो हलके हो लिये ।
    आगे इसके हवाल से इस मूँ से कुछ झाग वाग निकला जी,
    पर मोडरेशन में आप न पोंछेंगे, यह मान मैंनें निगल लिया जी ।
    हैप्पी गुस्सैइँग !
  17. dr anurag
    पुरानी शराब जितनी पुरानी हो उतना ही मजा देती है …
  18. सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी
    सुना है गुस्से में आदमी विवेक खो देता है। लेकिन आपने ‘विवेक’ को पा लिया है इससे सिद्ध होता है कि आप गुस्से वाले नहीं है।
    विवेक को थोड़ा-मोड़ा पाने की कोशिश में हम भी है।
  19. समीर लाल 'उड़न तश्तरी वाले'
    Original पोस्ट पर कमेंट कर दिया था, कृप्या उसे अब भी मान्य माना जाये.
  20. shefali pande
    वाह ….बहुत मजेदार विश्लेषण ….बिलकुल कनपुरिया स्टाइल ….
  21. चंद्र मौलेश्वर
    गुस्सा जब नीचे घुटनों की ओर उतरने लगे तो मुँह तक पहुँचते ही थूक देना चाहिए… तब ही तो मौज कर सकते हैं, मस्त रह सकते हैं:)
  22. Anonymous
    vandana ji bahut sahi kahi aur vivek ji ki rachana bhi jordar hai .
  23. मीनाक्षी
    लोगों के गुस्से के दौरान निकलने वाली ऊर्जा को बिजली में बदला जा सके तो तमाम घरों की बिजली की समस्यायें दूर हो जायें। —- सरकार को यह आइडिया दिया कि नहीं…. बहुत बढिया उपाय है गर्मी को गर्मी से मारने का…. ..
  24. फ़ुरसतिया-पुराने लेख

Post Comment

Post Comment

Google Analytics Alternative