Saturday, April 26, 2014

जहां तुम पहुंचे छलांगें लगाकर



रोजी कमाने के लिए निकले दो लोगों में से पीछे साईकिल वाला शायद मंजिल पर पहुंचकर कहे-

'जहां तुम पहुंचे छलांगें लगाकर,
वहां हम भी पहुंचे मगर धीरे- धीरे।'

पसंदपसंद · · सूचनाएँ बंद करें · साझा करें
  • अनूप शुक्ल

Post Comment

Post Comment

ठेले पर हिमालय नहीं भाई आलू



ठेले पर दो बोरा आलू जैसे पुस्तक मेले में विमोचन के लिए ले जाती दो किताबें। ऐसे ही एक बेतुकी सोच!
पसंदपसंद · · सूचनाएँ बंद करें · साझा करें

Post Comment

Post Comment

Google Analytics Alternative