Tuesday, June 15, 2010

…एक घंटे की हवाई यात्रा

http://web.archive.org/web/20140419214749/http://hindini.com/fursatiya/archives/1528

…एक घंटे की हवाई यात्रा

दिल्ली से की उड़ान सबेरे दस बजे थी। हम गेस्ट हाउस से आराम से चले ताकि हवाई अड्डे पहुंचते हुये हड़बड़ा सकें। इस हड़बड़काल में हमें अपने बगल से गुजरता हर व्यक्ति अपना रकीब सा लगा जो हमसे आगे निकलकर हमें यात्रा वंचित करना चाहता है। चेकइन होते ही हड़बड़ी विदा होने लगी। इसके बाद जब पता लगा उड़ान में डेढ़ घंटे की देरी है,हमारे चेहरे पंचशील बिखर गया।
मनोज कुमार साथ में जा रहे थे। उनसे काम भर की ब्लॉग चर्चा करने के बाद उनका लोटपोट खोला गया। वह पट्ठा खुल के नहीं दिया। कभी ये एरर कभी वो एरर। शायद टंकी पर चढ़ा हुआ था। पता चला बाद में देहरादून पहुंचते ही अपने आप चलने लगा। हमारे साथ की चीजें भी हमारी तरह सुविधाओं की आदी हो जाती हैं। अपनी मर्जी से ही चलती हैं।
हवाई जहाज जब पधारा तो हम उसमें विराजने के लिये चले। जहाज को देखने से लगा कि काफ़ी अनुभवी विमान है। छोटा सा । उड़ने के पहले की उसकी आवाजें सुनकर समझ तो नहीं पाये लेकिन अंदाजे से लगा कि जहाज शायद कह रहा हो- कित्ता हलकान करोगे हमको। कुछ तो हमारी बुढौती का लिहाज करो। जहाज के रंग-रूप,चाल-ढ़ाल, हाल-समाचार देखकर लगा जैसे किसी बड़े रूट ने अपनी उतरन इस छोटे रूट को दे दी हो। दिल्ली-देहरादून हालांकि दोनों राजधानी हैं लेकिन यात्रियों और देहरादून के हवाई अड्डे के लिहाज से शायद इस रूट के नसीब में उतरन-जहाज ही लिखे हों।
बकौल शरद जोशी एयर होस्टेस को देखने के पैसे टिकट में ही शामिल होते हैं। हमने भुगतान किये पैसों का उपयोग जहाज में घुसते ही करना शुरू कर दिया। सीट उनके काफ़ी पास होने की वजह से हम उनको देखने का काम बहुत जल्द खत्म करके उनके कार्य-कलाप देखने में लग गये। सीट बेल्ट बांधने का तरीका बताते समय जहाज के साथ-साथ जब वे लड़खड़ायीं तो हम अपनी सीट से उठंगे से हुये। दूरी और उनके संभल जाने के कारण उनको गिरने से बचाने के तुरंत बाद उनसे थैंक्यू सुनने की हसरत मन के डस्टबिन में फ़ेंककर हम सीट बेल्ट बांधने लगे।
हवाई जहाज उड़ते ही नाश्ता बंटने लगा। एक घंटे की यात्रा में उड़ने, उतरने, सीट बेल्ट बांधने, खोलने, इलेक्ट्रानिक उपकरण स्विच आन-ऑफ़ करने की हिदायतें देते हुये फ़टाफ़ट नाश्ता कराती एयर होस्टेस हमें किसी नर्सरी स्कूल की मैडमें लगें जो अपने हवाई किंडर गार्डन के बच्चों को मुस्कराते हुये सहेजती,संभालती रहती हैं।
एक यात्री डेढ़ घंटे हवाई जहाज का एयरपोर्ट पर इंतजार करता,हवाई जहाज में चढ़ते ही आंख मूंदकर अखबार बांचता रहा, जहाज उड़ने तक बेहरकत चुप बैठा रहा। एयरहोस्टेस ने जैसे ही नाश्ते की ट्राली फ़र्श पर टिकाई वह यात्री अचानक हरकत में आ गया। हरकत में आते ही एक्सक्यूज मीं बोलकर ट्वॉलेट की तरफ़ जाने के लिये कमरकस ली। एयरहोस्टेस ने कसमसाकर मुस्कराते हुये इधर-उधर होकर उसे जाने दिया। लौटने पर उससे ज्यादा मुस्कराकर कसमसाते हुये उसे वापस अपनी सीट तक पहुंचने दिया। यात्री ने उनको थैंक्यू बोलकर उनकी मुस्कान और अपनी नाश्ते की प्लेट ग्रहण की और खिड़की के बाहर का आसमान निहारने लगा।
जहाज के बाहर का आसमान खिला-खिला, खुला-खुला सा था। जहाज बादलों के ऊपर आ गया था। हवाई यात्रा करने वाले लोगों को बादल रुई के गोले, फ़ाहे, पहाड़ से लगते रहते हैं। लेकिन मुझे अपनी पहली ही यात्रा से बादलों को देखकर ऐसा लगा जैसे किसी ने बहुत बड़े टब में हजारों बाल्टी पानी में सैकडों बोरी सर्फ़ उड़ेलकर हिला दिया हो। बादल मुझे सर्फ़ के झाग से लगते हैं। एक बारगी तो यह भी लगा कि घर के तमाम धुलनशील कपड़े साथ में लेते आते। सर्फ़ के बादलों में डुबोये रहते। उतरकर पानी में हिलाकर निचोड़ लेते।
ऊंचाई बढ़ने के साथ तापमान कम होता जाता है। आजकल हर जगह तापमान कम करने की बात पर हल्ला मचा हुआ है। सारी दुनिया के लोग धरती का तापमान कम करने के लिये गर्म हो रहे हैं। अपने साथ धरती को भी गर्मा रहे हैं। ऊंचाई पर तापमान कम होने की बात ने एकबार फ़िर मेरे दिमाग में तमाम अटपटे विचार फ़ुदकने लगे। मुझे लगा कि:
  1. बिजली की कमी के चलते गर्माते लोगों को खुले हवाई जहाज में घुमाकर उनको कुछ राहत पहुंचाई जा सकती।
  2. दुनिया भर सारे कोल्ड स्टोरेज 20-25 हजार फ़ीट की ऊंचाई पर टांग दिये जायें। कोल्ड स्टोरेज की जगह पर कब्जा करके माल-साल और फ़ार्महाउस जैसी अन्य बुनियादी आवश्यकताओं के निर्माण करा दिये जायें।
  3. अपनी ऊंचाई से ज्यादा ऊंचे फ़्रिज रखने वाले लोग भी हवाई ऊंचाइयों पर अपना सामान रख सकते हैं। जब जरूरत हुई इशारा किया, सामान अवतरित हो गया।
  4. कार्यस्थल पर वातानुकूलित माहौल प्रदान करने वालों को काम करते समय हवाईयात्रा पर भेज दिया जाये। दिन में एकाध घंटे के लिये ऐसा करना कोई ज्यादा खर्चीला काम न होगा। रोज-रोज काम पर जाते रहने से वे सॉरी, थैंक्यू, एक्स्क्यूज मी के इत्ते आदी हो जायेंगे कि जिन्दाबाद-मुर्दाबाद सुनकर उसका मतलब समझने के लिये ट्रान्सलेटर प्लीज कहने लगेंगे।
  5. मिजाज से गर्म और ब्लडप्रेसर के आदती लोगों उनका पारा ऊपर उठने पर हवा में घुमाया जाये। जैसे ही उनका मिजाज और दबाब नीचे आये , उनको नीचे उतार दिया जाये।
इसके अलावा और भी कुछ अटपटे आइडिये आये मेरे दिमाग में लेकिन मैंने उन सबको चुप कर दिया यह कहकर कि बेट्टा ज्यादा उचको मत वर्ना कोई पेटेंन्ट कराकर धर देगा। सच तो यह है कि हमने खुद उनको पेटेन्ट कराने की सोची लेकिन उतनी ऊंचाई पर कोई संचार माध्यम न होने के कारण आइडियों को मन में समेटकर बैठे रहे। इस बीच नाश्ता भी आ गया। हमने सारे आइडियों को मन-मैदान पर उछलने-कूदने के लिये छोड़ दिया और नाश्तारत हो गये।
नाश्ता निपटाने के बाद प्लेटें समेटकर एयरहोस्टेस हमारे सामने की सीट पर आंख मूंदकर बैठ गयी। लेकिन तुरंत किसी ने पानी प्लीज कहकर उनको उठा दिया। इसके बाद किसी ने उनसे नेपकिन प्लीज भी मांग ली। हम उनसे हिन्दी का अखबार प्लीज जहाज उड़ने से पहले मांग चुके थे। अपनी हड़बड़ी पर एकबार फ़िर गुस्सा आया। उस समय हड़बड़ी न करते तो इस समय पच्चीस हजार फ़ीट की ऊंचाई पर हिन्दी पेपर प्लीज कहने के सुख लूटते।
हमको इस बीच यह भी लगा कि दुनिया भर में सबसे ज्यादा एक्सक्यूज मी,सॉरी,थैंक्यू हवाई यात्राओं में बोला जाता होगा। अगर ये न बोला जाये तो हवाई यात्रायें गूंगी-बहरी हो जायें।
इस बीच के बीच में हमने देखा कि एयरहोस्टेस के पीछे काकपिट की तरफ़ खुलने वाला दरवाजा बिना एक्सक्यूज मी कहे अंदर की तरफ़ खुल गया। दरवाजे के पीछे निवाड़ देखकर लगा कि कोई ढीली खटिया भी हवाई जहाज में लदी है। मैडम ने आहिस्ते से दुलराते हुये दरवाजे को बंद किया। दरवाजा बदमाश था,फ़िर खुल गया। मैडम ने फ़िर तेज दुलार के साथ उसे बंद किया। वह बेशरम फ़िर खुल गया। मैडम ने इस बार कस के झटके के साथ उसे बंद किया और देर तक पकड़े रहीं। जैसे कोई टीचर किसी शैतान बच्चे का कान देर तक पकड़े, ऐंठे रहती हैं। काफ़ी देर बाद उन्होंने आहिस्ते से उसे छोड़ा। छोड़ने के बाद कुछ देर तक दरवाजा शरीफ़ बना रहा। मैडम ने दो-तीन सुकून की सांसे तक ले डालीं। लेकिन चौथी सांस लेने के पहले ही दरवाजे का चौखट से गठबंधन सैद्धांतिक आधार पर फ़िर टूट गया। दरवाजा नठिया एकबार फ़िर खुल गया। मैडम उसको लंगर के प्रसाद की तरह हाथ में थामें कुछ सोचने लगीं। तक तक कुछ ही देर में हम देहरादून हवाई अड्डे पर उतरने वाले हैं की जहाजवाणी सुनकर मैडम ने जो सांस ली शायद उसे ही चैन की सांस कहा जाता होगा।
आसपास पहाड़ से घिरे देहरादून हवाई अड्डे को देखकर लगा कि शायद यह सोचा गया हो कि यहां पक्की सड़क बनाने के पहले देख लिया जाये कि अड्डा चलता भी है कि नहीं। हवाई अड्डे पर जिस तरह हमारा सामान कन्वेयरबेल्ट की जगह पर एअरपोर्ट कुली के सर पर लदकर आया और फ़र्श पर पटक दिया गया उससे एकबारगी लगा कि शायद हम रेल से आये हैं और किसी प्लेटफ़ार्म खड़े हैं। लेकिन जब कुली ने सामान लाने के पैसे नहीं मांगे तब हमें विश्वास हो गया कि यात्रा उड़नखटोले से ही हुई है।
हवाई अड्डे पर उतरने के बाद हम देहरादून की तरफ़ गम्यमान हुये।

51 responses to “…एक घंटे की हवाई यात्रा”

  1. स्वाति
    पुराने लेख संलग्न करने के लिए धन्यवाद.
    आपकी हवाई यात्रा के विवरण ने हमें तो आनंद दिया ही, किसी परिचारिका ने पढ़ा होगा तो वो भी खिल उठी होगी! लोगों के हिंदी अखबार प्लीज़ मांगने पर मन ही मन गाली देती होती- घर पर चाहे अखबार में मूंगफली खाते हों, हवाई जहाज में चढ़कर उसी एक घंटे में सारा ज्ञानवर्धन कर लेना चाहते हैं.
    और लिखते रहिये ‘प्लीज़’- हम जैसे नौसिखिये लेखक भी संभवतः कुछ सबक ले सकें.

Leave a Reply

Post Comment

Post Comment

Sunday, June 13, 2010

यात्राओं में बेवकूफ़ियां चंद्रमा की कलाओं की तरह खिलती है

http://web.archive.org/web/20140419214812/http://hindini.com/fursatiya/archives/1513

यात्राओं में बेवकूफ़ियां चंद्रमा की कलाओं की तरह खिलती है



कानपुर पिछड़ा शहर है:

मोहतरमा फ़ोन पर किसी को बता रहीं थीं- कानपुर पिछड़ा शहर है। मन तो किया कि उनकी बात का विरोध कर डालें लेकिन वो इतनी तल्लीनता से फ़ोनालाप में जुटीं थीं कि डिस्टर्ब करना उचित न लगा। फ़िर नहीं ही किया। अच्छा ही किया वर्ना वे किसी को फ़िर फोन करके बतातीं कि कनपुरिये बदतमीज तो होते ही हैं अंग्रेजी भी गलत बोलते हैं। इस बीच उनका बच्चा मेरे कन्धे से लगकर सो नींद में खो गया था। अपनी बात खत्म करके वे अपने बच्चे को देखकर मुस्कराईं भीं। अगर हम बहस का उद्घाटनिया फ़ीता काटते होते तो बच्चे की नींद टूट जाती और हम उस मुस्कान-दर्शन से वंचित रह जाते। एक बार फ़िर लगा कि बहस शुरू करने का आलस्य हमेशा सुकूनदेह होता है।

हवाई जहाज और गणित

अरे बात बीच से पकड़ ली हमने। शुरू भी तो कर लें। देहरादून जाने के लिये साधन तय करने में हवाई जहाज ने रेल के ऊपर जिन कारणों से बढ़त हासिल की वे इस तरह से थे:
  1. गर्मी के मौसम में देहरादून के लिये रेल में रिजर्वेशन कन्फ़र्मेशन किसी अंतहीन बहस से कोई निष्कर्ष निकलने की आशा तरह मुश्किल था।
  2. आजकल यात्रा के हर साधन असुरक्षा की एक समान गारंटी रहती है। हर यात्रा में सामान के साथ अब अपना दिल भी हाथ में लेकर चलना पड़ता है।
  3. दुर्घटना की स्थिति में हवाई जहाज में मुआवजा ज्यादा मिलता है।
हवाई जहाज से यात्रा करने की बात तय करके लखनऊ के कुछ काम भी तय कर लिये। सोचा निपटाते चलेंगे। लेकिन ऐन वक्त पर हमारे व्यक्तिगत सहायक ने काम में अडंगा लगा दिया। 12 बजे टिकट सौंपते हुये बताया – फ़्लाइट कानपुर हवाई अड्डे से शाम पांच बजे है। गाड़ी घर पर तीन बजे आ जायेगी।
अपने काम अधूरे रह जाने का शोक हम कायदे से मना भी न पाये थे कि मोबाइल पर मधुर आवाज में यह कर्कश सूचना मिली कि कानपुर से दिल्ली की उड़ान निरस्त है। हमें लखनऊ से दिल्ली भेजने का इंतजाम किया गया है। गाड़ी से लखनऊ भेजने का इंतजाम चकेरी एयरपोर्ट पर किया गया है। तीन बजे तक पहुंच जायें।
हम अपना दफ़्तर, घर और शहर जिस लगभग हालत में था उसई में छोड़-छांड़ के हवाई अड्डे की तरफ़ जिस तेजी से चले उत्ती तेजी अगर भगवान विष्णु ग्राह( मगर) के चंगुल से गज( हाथी) को बचाने के समय दिखाते तो उनको नंगे पांव न भागना पड़ना। उनके पास चप्पल पहनने का समय तो निकल ही आता। लेकिन अगर ऐसा होता तो उनकी भक्त वत्सलता की इमेज चौपट हो जाती। इससे मुझे लगता है जब गज ने भगवान को पुकारा होगा तो उन्होंने उसको बचाने के लिये निकलते समय चप्पल उतारने में समय लगाया किया होगा। इससे यह लगता है कि देवता गण अपनी छवि के प्रति कितने सजग और चौकन्ने होते थे।
कानपुर हवाई अड्डा पहली बार देखा। लगा किसी ने अपना बड़ा सा फ़्लैट खराब होने से बचाने के लिये किराये पर उठा दिया हो। सुरक्षा जांच में लगे और लगी लोगों को देखकर लगा कि छोटे हवाई अड्डों पर हवाई जहाज भले न आयें लेकिन लोगों पर काम का बहुत बोझ है। जिस महिला ने हमारे टिकट जांचे वही बाद में अखबार पढ़ने लगी इसके बाद अपने साथियों से बतियाने का और मुस्कराने का भी काम भी उसी को करना पड़ना। बिजली आने पर खुशी जाहिर करने काम से निच्चू होने के बाद उसी के जिम्मे अखबार झलते हुये कैंटीन वाले से यह कहने का काम भी आ पड़ा कि -भैया कोल्ड ड्रिंक पिलाओ जरा बहुत गर्मी है।
बड़े हवाई अड्डों में इस मामले में बड़ी आराम है एक व्यक्ति एक ही काम करता है।
पढ़ाई लिखाई का शटर गिराये सालों हो जाने के बावजूद हम गणित के सवाल सोचते रहते हैं। सवाल का मतलब सिर्फ़ सवाल से है। सही हल निकालने के चोचले न हमको तब आते न अब पसंद हैं। हवाई अड्डे जाकर जब पिछले कई दिनों के किस्से सुने तो यहां भी हमने गणित का एक सवाल सोच डाला कि कैसा रहे कि कानपुर हवाई अड्डे पर फ़्लाइट कैंसल न होने की प्रायिकता (प्रोबैबिलिटी, संभावना) निकाली जाये। सोचने को तो मैंने सोच डाला लेकिन अब लग रहा है कि ऐसा अहमक सवाल अगर इम्तहान में कोई पूछे तो चार-पांच साल बाद पूछे ताकि मेरा छोटा बेटा तसल्ली से अपनी स्कूली पढ़ाई निपटा ले। बीच में अगर किसी ने पूछ लिया तो वो ख्वामखाह हमें ही कोसेगा।
बहरहाल इसके बाद हमको एक-एक ठो छुटकी पानी की बोतल थमाकर राहत सामग्री की तरह थमाकर लखनऊ एयरपोर्ट रवाना कर दिया गया। कानपुर से निकलते ही मेरे साथ सफ़र कर रहीं मोहतरमा ने अंग्रेजी में बतियाते हुये किसी को एकदम साफ़ हिन्दी में(शायद मेरी समझ सुविधा का ख्याल रखते ) बताया कि कानपुर पिछड़ा शहर है।
मैंने अच्छा ही किया इस मसले पर उनसे कोई बेनतीजा बहस नहीं की। करता तो वे अहमदाबाद और गुजरात कि किस्से बताती (जहां की वे थीं) जिनको हम संजय बेंगाणी से बेहतर तरीके सुन चुके हैं।

आपका चश्मा दूसरे की आंख में चुभ सकता है:

लखनऊ में जहाज पर चढ़ के समय पर बैठ भी गये। इस बीच एक सीट के लिये झगड़ा करते हुये एक यात्री ने पहले तो बहुत सारी कड़ी अंग्रेजी में प्लेन के स्टॉफ़ को हड़काया। सारी अंग्रेजी खतम और बेअसर होने के उसने उसको हिंदी में सुनाया -चश्मा लगाये घूम रहे और सीट का निपटारा नहीं कर पाते। मुझे पहली बार लगा कि किसी की आंख का चश्मा दूसरे को कितना चुभ सकता है। यात्री को शायद यह लगता होगा कि चश्मे में सीट के निपटारे की ताकत होती है। बहरहाल बाद में जहाज स्टॉफ़ ने चश्मा उतारकर उनकी समस्या का समाधान किया और हवाई जहाज उड़ा। उड़ते समय जिस तरह की आवाज हुई मुझे लगा कि वह बता रही है कि हवाई यात्रा में दुर्घटना पर तगड़ा मुआवजा मिलता है।

चंद्रमा की कलाओं की तरह खिलती बेवकूफ़ियां

पहली बार देखा कि सीट के सामने टेलीविजन भी था। बटन दबाकर चैनल सेट करते रहे। हुआ नहीं। ज्यादा जोर से दबाने की सोची लेकिन यह सोचकर नहीं दबाया कि कहीं हवाई जहाज न नीचे चला जाये। बगल वाले से दांत चियारकर पूंछा। लेकिन वह जहाज में मौजूद और खूबसूरती निहारने में तल्लीन था। उससे रुखसत होकर उसने कुछ बताया लेकिन उससे भी कुछ हुआ नहीं। इसके बाद हमने अपनी तरफ़ से तमाम बेवकूफ़ियां की। उसई जगह मुझे एहसास हुआ कि यात्राओं के दौरान आपके अंदर छिपी बेवकूफ़ियां चन्द्रमा की कलाओं की तरह खिलती हैं। जब काम भर की बेवकूफ़ियां हो गयीं तो सब कुछ ठीक हो गया- हवाई जहाज ठीक से उड़ने लगा, टीवी चलने लगा, बगल के नेता जी अपने एक पार्टी से दूसरी पार्टी ज्वाइन करने के किस्से सुनाते-सुनाते सो गये। इस ठीक पने में रही बची कसर हवाई नास्ते ने पूरी कर दी।

भूख की समस्या से निपटने का एक अटपटा ख्याल

नाश्ते की बात पर मुझे एक और अटपटा ख्याल आया। अपने यहां अन्न भण्डार लबालब भरे होने के बावजूद लोग भूख से मरकर देश की बेइज्जती कराते हैं। मुझे लगा कि सरकार अगर इस तरह की कोई योजना चलाये जिसमें जिन लोगों की भूख से मरने की आशंका हो उनको मुफ़्त हवाई यात्रा की सुविधा प्रदान कर दे। भूखे लोग आये। डाक्टरी जांच करायें । भूख से आसन्न मौत का प्रमाणपत्र पायें। हवाई जहाज चढ़ जायें। भूख से मौत के डर से छुटकारा पायें। इस योजना के लागू होते ही हवाई कम्पनियों के घाटे की समस्या और गोदामों में अन्न सड़ने की समस्या एक झटके से निपट सकती है।
लेकिन इस अटपटी योजना के कार्यान्वयन में खतरा यही है कि अगर यह लागू हुई तो लोगों को खिला-पिलाकर, उनकी भूख मार कर वापस कर दिया जायेगा। जिद करने वालों दिल का दर्द, पेट दर्द, हार्नियां, कब्ज की शिकायत बताकर फ़र्जी यात्रा करने का मुकदमा ठोंक दिया जायेगा। वैसे अगर सच में यह योजना लागू हो जाये तो शायद आधा देश हवा में उड़ता ही रहे और शायद महानगरों की स्लम समस्या हमेशा की तरह निपट जाये।
लेकिन हम इस समस्या से निपटने की इस योजना का प्रारूप फ़ाइनल कर पायें तक तक जहाज दिल्ली में उतर गया। हम भी मन मारकर उतर गये। गेस्ट हाउस की तरफ़ बढ़ते हुये हमने विनीत और अमरेन्द्र को फ़ोनिया दिया कि हम दिल्ली में पधार चुके हैं। बताने की कोशिश मैंने अविनाश वाचस्पति जी को भी की लेकिन भाग्य और नेटवर्क हम लोगों का सहयोग कर रहा था। फोन मिला नहीं। जब मिला तब तक दूरी और देरी के लिहाज से मिलना कठिन हो चुका था। :)

आसन्न पीएचडी धारकों से बतकही

हमारे गेस्ट हाउस पहुंचने कुछ ही देर बाद अमरेन्द्र और विनीत पहुंच गये। रात का खाना खाते के बाद हम लोगों की बतकही का जो दौर चला वो रात दो बजे के बाद तक चलता रहा। बेचारे गेस्ट हाउस के जोशी जी लगातार चाय पिलाते रहे। विनीत और अमरेन्द्र ने अपने विश्वविद्यालयी अनुभव जो और जिस अंदाज में बताये उसके चलते मुझे लगा कि ये किस्से भी लिखे जाने चाहिये। विनीत से तो मैंने कहा भी कि इनको पॉडकास्ट करना चाहिये।
चार-पांच की घंटे की इस बतकही में बतकही ब्लॉग,ब्लॉगर और ब्लॉगिंग की बातें सिर्फ़ उतनी ही हुईं जितनी किसी संसद सत्र में काम की बातें होती होंगी। हमने उनको विदा करते समय काम भर का वहीं रुक जाने का भी इसरार किया। दोनों को विदा करने के बाद लगा कि इनको जबरिया रोकना चाहिये था। लेकिन सुबह जब हड़बड़ाते हुये एयरपोर्ट के लिये भागे तो लगा अच्छा ही हुआ दोनों बहादुर विद्वान बेहतर स्थिति में निद्रा मग्न होंगे।
हवाई जहाज में उड़ते ही हमने हिन्दी अखबार की मांग की । बीस हजार फ़ीट की ऊंचाई पर पहुंचने पर दिल्ली से निकलने वाले एक हिन्दी अखबार में विनीत कुमार के लेख का अंश देखकर लगा कि हिन्दी ब्लॉगिंग नई ऊंचाइयां छू रही है।
इन ऊंचाइयों में तेजी भी जुड़ गयी जब हमने देहरादून हवाई अड्डे पर उतरते ही अपने मोबाइल पर अविनाश वाचस्पति जी की पोस्ट देखी जिसमें उन्होंने दिल्ली में मिलने की बात लिखी थी।
ब्लॉगिंग की उंचाई, तेजी और आसन्न एतिहासिक मुलाकात के गठबंधन भाव की चपेट में आकर मेरा जी धक-धक करने लगा। :)
Ads by SmartSaver+ 8Ad Options

45 responses to “यात्राओं में बेवकूफ़ियां चंद्रमा की कलाओं की तरह खिलती है”

  1. Shashikantsuman
    Very descriptive writing about air travel ..I feel annoyed by sound of engine in air travel… at the time of lift off and landing I have very bad experience about chang of gravity or something like that..feeling like vomiting and sickness ……
    I preferred train travel.
    By the way Where is Amrendra ji blog is.. What is its address
    PS-hindi is not installed..in my PC. So I am writing in english.
    http://www.shashikantsuman.blogspot.com
  2. L.K
    aapne koun si drishti pai hai …itni bariki se dekhate hain . :-)
  3. काजल कुमार
    “कानपुर हवाई अड्डा पहली बार देखा। लगा किसी ने अपना बड़ा सा फ़्लैट खराब होने से बचाने के लिये किराये पर उठा दिया हो। ” हा हा हा…
    छुटभाइए नेताओं की ज़िदों के चलते उनकी कांस्टीचुएंसियों में बनी हवाई पट्टियों के किनारे इसकी तरह के फ़्लैट देश में जगह जहग बने हुए हैं जिनपर उतरने की कोशिशों में आए दिन हेलीकाप्टर गिरते रहते हैं.
  4. ई-स्वामी
    मजा नी आया!
  5. प्रमेन्‍द्र प्रताप सिंह
    कानपुर पिछड़ा शहर है……
    हाल मे कानपुर से लौटा बहुत ही अच्‍छा लगा, 18 सालो मे पहली बार कानपुर को इतनी नजदीकी से देखा, एक-एक बढ़कर एक मॉल और इमारते देखी।
    18 सालो मे पहली बार झकरकटी पुल के नीचे की ओर से सड़क जो मेरे घर की ओर जाती है उसे देखा तो पुल के उपर से कानपुर सेन्‍ट्रल की इमारत को, वकई याद ताजा हो गई। भोर 4 बजे सेंट्रल से पारेड तक पैदल चलना फिर दोपहर 1 बजे बड़े चौराहे से सिविल लाईन्‍स योग टावर तक की पद यात्रा, 1993 याद आ गया।
  6. भारतीय नागरिक
    मुझे भी लगता है कि हवाई सफर अपने परिवार को आर्थिक कठिनाई से बचाने में सहायक है. आप की आय तीन-चार लाख सालाना हो, बस में मरे – मिलेगा पचास हजार, ट्रेन में मरे – पायेंगे एक लाख और हवाई जहाज में मरे तो पचहत्तर लाख.
    लोग बाग आजकल भूख से नहीं मरते दर-असल यह साजिश होती है प्रदेश के मुख्यमन्त्री के खिलाफ. उन्हें बदनाम करने की योजना. भूख नाम की कोनो बीमारी है किसी इन्साइक्लोपीडिया में दर्ज.
    कानपुर पिछड़ा तो बिल्कुल भी नहीं. बल्कि प्रदूषण नियन्त्रण करने की एक नई तरकीब ईजाद की है जो कानपुर में सबसे अधिक कामयाब है. प्रदूषण नियन्त्रण वालों के मुताबिक विज्ञान का एक सिद्धान्त है कि जिस मशीन से घनघोर काला धुंआ निकलता हो यदि उसे हरे रंग से पेन्ट कर दिया जाये तो प्रदूषण होने का खतरा बिल्कुल खत्म हो जाता है. न माने तो आटो देख लें.
  7. अविनाश वाचस्‍पति
    धक धक मतलब दिल माधुरी दीक्षित हो गया
    शुकुल जी की करिए, जी की करिए
    तेजाब में अनिल कपूर थे
    यहां अनूप शुक्‍ल मौजूद रहे
    बेफुरसत वाले फुरसतिया बाबू।
  8. pankaj upadhyay
    लखनऊ हवाई अड्डे पर जब पहली बार उतरा था तो बाहर खडे लोगो को देखकर यही लगा था कि मै कोई वीआईपी हू… घर पर भी घरवाले और आस पास वाले पूछते नज़र आये कि हवाईजहाज कि यात्रा कैसी होती है? अच्छा!! खाना भी मिलता है? हवा मे कैसे बनाते है? कुछ जवान जहान लोगो ने सीधा ऎयर होस्टेसेस के बारे मे पूछ लिया और मेरे बिना बोले उत्तर भी देते रहे – ’किन्गफ़िशर मे अच्छी होती है’ ;)
    लखनऊ हवाईअड्डे पर एक नया किताबो का स्टाल लगा है, हिन्दी मे सिर्फ़ ओशो को रखता था नही तो शिव खेडा को.. अन्ग्रेज़ी की चन्द किताबे है लेकिन भारतीय लेखको की लिखी अन्ग्रेज़ी किताबो का अच्छा कलेक्शन है..
    कानपुर हवाई अड्डे के बारे मे कल्पना कर पा रहा हू और उस मल्टीटास्किग महिला की भी… :) यात्री थे? या वही आया जाया भी करती है? ;)
    चंद्रमा की कलाओं की तरह खिलती बेवकूफ़ियां :P …. अपनी बेवकूफ़िया तो अभी छुपा लेते है.. लास्ट टाईम का ही किस्सा है.. आगे वाली सीट पर बैठी हुयी एक आन्टी जी फ़ोन पर चिल्लाते हुये अन्ग्रेजी मे बतिया रही थी कि जोश मे आकर बोल गयी कि बस अभी अभी हम लोग ’ट्रेन’ मे बैठ गये है.. मैने दो बार प्लेन को देखा कि कही गलती से मै ट्रेन मे तो नही आ गया :) फ़िर देखा तो आस पास वालो को भी वैसी ही कन्फ़्यूजन है…
    आह.. वाह.. क्या पोस्ट है… विनीत और अमरेन्द्र तो एकदम स्कालर ही दिखते है :P.. उम्मीद है कि उनका चश्मा किसी को न चुभता हो ;)
    बगल वाले से दांत चियारकर पूंछा। लेकिन वह जहाज में मौजूद और खूबसूरती निहारने में तल्लीन था।
    जय हो!! :)
  9. अटपटानन्द

    फुरसतिया गुरु, ज़ाहिर सी बात है जो कुछ आपको अपने चश्मे से साफ़ साफ़ दिखता रहा, वह दूसरे भाई साहब को क्यों न दिखा ? और आपने भी उनकी कोई मदद न की, कुछ देर को अपना ही चश्मा दे देते.. बेचारा डाँट न खाता । जिसके अपने दीदों पर चश्में हों, वह दूसरे चश्मीश को बख़्स देते हैं, तड़ से इसी बात पर एक चश्माधारी सँगठन बना लिया जाये ।
    वईसे एक बात बताओ.. ई सब का खर्चा कऊन उठाइस ?
    फिर.. क्यों न आपको सरकारी खर्चे पर ब्लॉग-पोस्ट लिखने का आरोपपत्र दिया जाये ।
    आप तो एहिका ऍप्रूव कईन दिहौ, मुला बहुत त्रस्त हन !
  10. aradhana "mukti"
    हे भगवान ! पहली बात, तो ये कि कानपुर से देहरादून जाने के लिए पहले लखनऊ, फिर दिल्ली, खुदा खैर करे. दूसरी बात, वो महिला सही कह रही थीं… गुजरात के छोटे शहरों के मुकाबले यू.पी. के बड़े शहर भी घटिया हैं… आधारभूत सरंचना के मामले में… मैंने बरोड़ा (वडोदरा) का एयरपोर्ट देखा है और थोड़ा-बहुत शहर भी… इतनी अच्छी व्यवस्था और साफ-सफाई अपने प्रदेश के शहरों में नहीं मिलती.
    तीसरी बात, आपकी लेखन शैली का कोई सानी नहीं… व्यंग्य के साथ हास्य का भी पुट ( लोग ज्यादातर इसका उल्टा कहते हैं…मतलब हास्य के साथ व्यंग्य) इसकी बानगी—
    “बीस हजार फ़ीट की ऊंचाई पर पहुंचने पर दिल्ली से निकलने वाले एक हिन्दी अखबार में विनीत कुमार के लेख का अंश देखकर लगा कि हिन्दी ब्लॉगिंग नई ऊंचाइयां छू रही है।”
    आप धन्य हो गुरु ! :-)
  11. बवाल
    ११:१२ AM अनूप: namaste
    kaise haal?
    मुझे: नमस्ते जी
    हम तो जैसे थे…..
    ११:१३ AM अब भी वैसे हैं……
    आप कहिए…….
    अनूप: मर्द हाल हैं
    मेन्टेन किया है
    मुझे: मिज़ाज कैसे हैं…?
    अनूप: हम तो मजे में हैं
    घूम घाम के आये
    मुझे: खुशी की बात है
    कहाँ
    अनूप: और लिख डाला
    ११:१४ AM यात्राओं में बेवकूफ़ियां चंद्रमा की कलाओं की तरह खिलती है
    मुझे: क्या बात है वाह वाह
    अनूप: http://hindini.com/fursatiya/archives/1513
    मुझे: हम भी आज ही पूना से लौटे हैं
    अनूप: सही लगी बात?
    तब क्या?
    ११:१५ AM तब तो आप भी इस बात से सहमत होंगे
    मुझे: पहले पढ़ तो लें सर
    अनूप: ओके
    ११:१७ AM मुझे: पृष्ठ खोल लिया है और पढ़ना शुरू कर दिया है कानपुर पिछ्ड़ा शहर है ?
    अनूप: हां
    :(
    ११:१८ AM मुझे: बहस शुरू करने का आलस्य हमेशा सुकूनदेह होता है।
    सही कहा जी
    ११:१९ AM दुर्घटना की स्थिति में हवाई जहाज में मुआवजा ज्यादा मिलता है। हा हा मगर किसे ?
    ११:२० AM हर यात्रा में सामान के साथ अब अपना दिल भी हाथ में लेकर चलना पड़ता है। इस वाक्य में गूढ़ता निहित है।
    ११:२१ AM मोबाइल पर मधुर आवाज में यह कर्कश सूचना मिली
    अनूप: हां
    मुझे: हा हा अनूप जी आप भी ना….
    ११:२२ AM अनूप: मौज है :)
    मुझे: चकेरी एयरपोर्ट
    अनूप: कानपुर में है
    मुझे: अच्छा है वरना कहीं चकोरी होता तो
    ११:२३ AM अनूप: सही
    ११:२४ AM मुझे: चप्पल उतारने में समय लगाया हा हा…..
    ११:२५ AM कानपुर हवाई अड्डा पहली बार देखा। लगा किसी ने अपना बड़ा सा फ़्लैट खराब होने से बचाने के लिये किराये पर उठा दिया हो। हा हा हा हा बहुत ज़ोरदार
    ११:२६ AM अनूप: :)
    मुझे: अपने साथियों से बतियाने का और मुस्कराने का भी काम भी उसी को करना पड़ना। हा हा क्या बात है वाह वा
    ११:२७ AM पढ़ाई लिखाई का शटर गिराये सालों हो जाने के बावजूद हम गणित के सवाल सोचते रहते हैं। सवाल का मतलब सिर्फ़ सवाल से है। सही हल निकालने के चोचले न हमको तब आते न अब पसंद हैं। हा हा ये सब फ़लाने फ़लानों के चोचले हैं
    ११:२८ AM अनूप: हां सही
    ११:३० AM मुझे: आपका चश्मा दूसरे की आंख में चुभ सकता है:
    ठीक कहा जी हमारा चश्मा भी पिछ्ले दिनो………
    पचमढ़ी प्रवास के दौरान एक……..
    आगे पूछिए क्या..?
    अनूप: kyaa?
    ११:३१ AM मुझे: बन्दर की आँख में चुभ चुका है…………………
    और वो उसे लेकर यह जा वह जा भी हो चुका है
    अनूप: sahee
    ११:३२ AM मुझे: जिस चश्में ने सोलह साल हमार साथ दिया वही सर …..
    उसी दुख में तो हम ब्लॉग पर आ ही नहीं रहे कि बिना चश्में के
    ११:३३ AM इस बेरंग दुनिया के रंग कैसे देख पाएंगे
    अनूप: बड़े दुख की बात है
    ११:३४ AM मुझे: हा हा खै़र आप सबको ज़रूर बतला दीजिएगा यह बात के जब इस दुख से उबर जाऎंगे तो हम फिर नज़र आएँगे मगर हाँ बेचश्म.
    ११:३५ AM अनूप: सही
    बता देंगे
    अभी तो पोस्ट लिख कर पोस्ट कर चुके
    अब अगली पोस्ट में बता देंगे
    मुझे: हा हा हवाई दुर्घटना का तगड़ा मुआवज़ा सही कहा जी
    ११:३६ AM अगली पोस्ट में क्यूँ चिट्ठा चर्चा में भी चलेगा हा हा
    ये भी तो हवाई दुर्घट्ना ही थी हा हा
    अनूप: हां
    ११:३७ AM मुझे: चंद्रमा की कलाओं की तरह खिलती बेवकूफ़ियां
    बहुत ज़ोरदार कहा सर हा हा
    अनूप: अपने बारे में कहा
    लिखा
    ११:३८ AM सोचते हैं मुकदमा धांस दें खुद के ऊपर
    मुझे: लेकिन वह जहाज में मौजूद और खूबसूरती निहारने में तल्लीन था। हा हा गुप्त बात का ओपन ख़ुलासा
    ११:३९ AM अनूप: हां
    मुझे: अरे नहीं सर अपन आउट ऑफ़ कोर्ट सैटल्मेंट करवा देंगे
    मुकदमे की क्या ज़रूरत है ?
    अनूप: नोटिस भेज देंगे
    फ़िर सेटल मेंट कर लेंगे
    ११:४० AM घर का पैसा घर में रहेगा
    बचत होगी
    मुझे: हाँ जी इसमें कम-अज़-कम नोटिस की फ़ीस तो मिल ही जावेगी
    अनूप: हां
    ११:४१ AM इस जेब से उस जेब में चली जायेगी
    ११:४२ AM मुझे: हा हा ये पैरा बहुत मज़ेदार रहा सर काम भर की बेवकूफ़ियाँ हा हा
    ११:४३ AM भूख की समस्या वा़कई ख़याल अटपटा लगा
    अनूप: हां
    लिखना सार्थक हुआ :)
    ११:४४ AM मुझे: ब्लॉगिंग की उंचाई, तेजी और आसन्न एतिहासिक मुलाकात के गठबंधन भाव की चपेट में आकर मेरा जी धक-धक करने लगा।
    ……….
    ११:४५ AM बहुत सार्थक लिखा सर बहुत सार सहित
    अनूप: :)
    ११:४६ AM मुझे: कुछ देर के लिए सही …….
    ११:४७ AM हमें परसाई जी की याद तो दिला ही दी आपने
    आनन्द आ गया जी
    अनूप: शुक्रिया
    :)
    परसाईजी ग्रेट थे ,हैं और रहेंगे
    मुझे: जल्द मिलेंगे
    ११:४८ AM अनूप: सही है
    मुझे: आज स्टेशन से घर आते वक्त…..
    ११:४९ AM उनके घर के सामने से ही गाड़ि चली आती थी और उनके ख़याल आते थे के कैसे वो बच्चों को मीठी गोलियाँ
    ११:५० AM खाने को देते थे और हम कभी कभी तख़्त के पीछे से उनका झोला टटॊल लिया करते थे के नाना हमारा हिस्सा कहाँ है ?
    अनूप: वाह
    ११:५१ AM मुझे: क्या मालूम था कि अपना हिस्सा हमें आज उनके साहित्य मॆं नज़र आया करेगा
    ११:५२ AM अनूप: हां वो महान थे
    बहुत
    मुझे: जिसे हम भी कभी कभी अपनी बातों में ख़ुद और दूसरों को आनन्दित करने के लिए बाहक्क़ इस्तेमाल किया करेंगे है के नहीं सर जी
    ११:५३ AM अनूप: सही
    उनके संस्मरण लिखिये
    लिखने चाहिये आपको
    :)
    ११:५४ AM मुझे: बिल्कुल लिखेंगे सर आपने कह दिया अब ज़रूर लिखा जाएगा
    ११:५५ AM अनूप: सही
    ११:५६ AM मुझे: अब टिपियाने जा रहे हैं जी आपकी पोस्ट पर
    ११:५७ AM अनूप: वाह
    हमारी और फ़ुर्सतिया जी की बातचीत को ही हमारी टीप समझा जावे। हा हा।
  12. बवाल
    भूल सुधार :-
    गाड़ि को गाड़ी पढ़ा जावे
  13. बवाल
    आदरणीय अनूपजी,
    एक सुन्दर स्मरण-कथा के साथ मौज ही मौज वाली पोस्ट।
    आनन्ददायी
  14. ashish
    शुकुल जी, अगर हम आप की जगह होते तो उन महामाया को ये जरुर बताते की कानपूर पिछड़ा नहीं (कम से कम बोद्धिक स्तर पर) . अपन से अपने शहर की बुराई नहीं सुनी जाती, हा हा . वैसे चकेरी एअरपोर्ट के हमारे बहुत सारे खट्टे अनुभव रहे है , फिर भी मेरा कानपुर महान. झाडे रहो कलेक्टर गंज .
  15. Sanjeet Tripathi
    mast vivaran.
    vineet aur amrendra ji k sath hui baato ka aur vivaran rakhna tha ji, fursat ki kami ho gai ka?
    ;)
  16. dr anurag
    बन्दूक बेचने के गलत धंधे में पड़े हो जी….कहते है …..कुछ ही लोगो को भगवान् एक दम टिका के सेन्स ऑफ़ ह्यूमर देता है ……….ओर उसमे से भी फ़िल्टर करके ….कुछ ही लोगो को उसे कागज पे उतारने का भी……..
    वैसे एयर होस्टेस का सवाल आया था कहाँ से …हमें तो याद है ..एक बार पुणे से लौटते वक़्त एक साहब ने कहा ….खाना नहीं हमें तो प्लेट चाहिए…खाना तो हम घर से लाये है …..ओर पूरे ज़हाज़ में .खुशबु फ़ैल गयी…..आचार की …….
  17. rashmi ravija
    रोचक पोस्ट…वैसे हमारे पटना का एयरपोर्ट तो अच्छा है…शहर के बारे में भले ही बहस हो जाए.
  18. सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी
    आनन्द आ गया जी…। जय हो।
  19. हिमांशु
    गज़ब की प्रविष्टि ! कुछ पंक्तियाँ तो बहुत दिनों तक याद रहेंगी..गुदगुदायेंगी..कुछ दे जायेंगी – मसलन…
    ‌‍* “बहस शुरू करने का आलस्य हमेशा सुकूनदेह होता है।”
    * “मुझे पहली बार लगा कि किसी की आंख का चश्मा दूसरे को कितना चुभ सकता है।”
    * “मुझे एहसास हुआ कि यात्राओं के दौरान आपके अंदर छिपी बेवकूफ़ियां चन्द्रमा की कलाओं की तरह खिलती हैं।”
    आदि..आदि,, !
  20. वन्दना अवस्थी दुबे
    “अगर हम बहस का उद्घाटनिया फ़ीता काटते होते तो बच्चे की नींद टूट जाती और हम उस मुस्कान-दर्शन से वंचित रह जाते। एक बार फ़िर लगा कि बहस शुरू करने का आलस्य हमेशा सुकूनदेह होता है।”
    मतलब इसके पहले भी आपको ऐसा लग चुका है :)
    “इससे यह लगता है कि देवता गण अपनी छवि के प्रति कितने सजग और चौकन्ने होते थे।”
    सही है. तमाम पौराणिक कथाएं इस बात को सिद्ध करतीं हैं. :)
    “बगल वाले से दांत चियारकर पूंछा। लेकिन वह जहाज में मौजूद और खूबसूरती निहारने में तल्लीन था।”
    येल्लो!!!! और आपने बेवकूफ़ियों में वक्त जाया कर दिया :(
    “बीस हजार फ़ीट की ऊंचाई पर पहुंचने पर दिल्ली से निकलने वाले एक हिन्दी अखबार में विनीत कुमार के लेख का अंश देखकर लगा कि हिन्दी ब्लॉगिंग नई ऊंचाइयां छू रही है।”
    अरे!!!!! आपकी सोच और कलम भी तो उतनी ही ऊंचाइयों को छू रही है सर जी…. कब क्या प्रयोग कर डालेंगे पता नहीं. आनन्ददायक पोस्ट.
  21. nitin
    मज़ा नी आया, सुकुल टच मिसिंग है।
  22. प्रवीण पाण्डेय
    बहुत ही सुन्दर संस्मरण । हवाई यात्रा का वर्णन पढ़कर आनन्द आ गया ।
    कानपुर के बारे में कुछ भी कह देने में शान्ति भंग होने का खतरा बना रहता है घर में ।
  23. aradhana "mukti"
    एक और सूचना—यहाँ विनीत तो पूरे आलसी लग रहे हैं… इनकी पीएच डी. पूरी होने में कोई व्यवधान नहीं क्योंकि इसके लिए जितने आलस तत्व की आवश्यकता है, उनमें उपस्थित है. अमरेन्द्र थोड़े ऐक्टिव लग रहे हैं… इनको थोड़ा और आलसी होना होगा…:-)
  24. Ram
    ये हवाई यात्रा भी बढ़िया रही ….ग्वालियर एअरपोर्ट का भी यही हाल है लगभग …
    अपने हर किस्से को नायब तरीके से परोसा है ….
  25. Shiv Kumar Mishra
    अद्भुत!
    हमेशा की तरह डमप्लास्ट पोस्ट. एक से बढ़कर एक बढ़िया पंक्तियाँ और घटनाएं. यात्रा संस्मरण इस तरह से भी लिखा जाता है. वाह ही वाह.
    विनीत जी और अमरेन्द्र जी की बतकही के बारे में ज़रूर लिखें. अविनाश जी से आपके मिलन की प्रतीक्षा थी. उनके साथ मिलन के बारे में भी लिखें.
  26. shefali pande
    maza aa gaya ji ….ek se badhkar ek panch lains hain …
  27. अल्पना
    सौ बातों की एक बात लगी –
    बहस शुरू करने का आलस्य हमेशा सुकूनदेह होता है!
    ………….
    संस्मरण रोचक लगा.
  28. anitakumar
    आपकी लेखन शैली का कोई सानी नहीं…simply great post……
  29. Stuti Pandey
    अब मेरी हवाई यात्रा के बारे में आप सबसे क्या छुपा है… आप सब जानते ही हैं!
    “यात्राओं में बेवकूफ़ियां चंद्रमा की कलाओं की तरह खिलती है” टाईटिल ने ही जान ले ली. :D
    लेकिन हाँ, जैसे जैसे चन्द्रमा अग्रसर होता है और पूरनमासी के दिन पूरा खिल जाता है, उसका ठीक उल्टा, मनुष्य की बेवकूफियां उसके पहली यात्रा में ही खिल के निखर जाती हैं! :D
  30. विवेक रस्तोगी
    जबरदस्त अपनी यात्राओं की याद हो आई :)
    सारे एयरपोर्ट नजरों के सामने घूम गये जिन पर अभी तक हो आये हैं :)
  31. satish saxena
    मस्त यात्रा का मस्त हाल …आपके साथ साथ हमें भी मज़ा आया !
  32. बेचैन आत्मा
    वाह ! मजा आ गया !
    धीरे-धीरे हम आपके ‘पंखे’ होते जा रहे हैं मेरा मतलब है ‘फैन’ होते जा रहे हैं. आपके इर्द-गिर्द घूमना पड़ेगा ..शायद कुछ हवा क्रिएट हो..! पहले सोचा कि कुछ अच्छी पंक्तियाँ कट पेस्ट करते हैं…वैसे ही जैसे जोशी जी को पढ़ते वक्त रेखांकित करते थे पेन्सिल से ..और जबरदस्ती सुनाते थे उसे भी जो सिर्फ मेरे सुनाने के हाव भाव को देखकर खुश होता था. फिर देखा अरे..! यह तो बहुत लम्बी हो जायेगी..किस को छोड़े किसे उतारें..! फिर सब मिटार दिया ..!
    बेवकूफियाँ चंद्रकलाओं की तरह खिलती हैं…यात्राओं के दौरान ही क्यों, इस जैसी किसी अच्छी पोस्ट पर तारीफ़ करते वक्त भी तो..! पहने-पहने, नाक-कान दुखने लगा और लोग हैं कि चश्में से जलते है ..! अब नहीं पढेंगे ..धन्यवाद.
  33. dhiru singh
    गांव से एक बारात गई थी कानपुर चकेरी . लड्की का भाई चकेरी हवाई अड्डे पर तैनात था . बारात का स्नान हवाई पट्टी पर ही हुआ . सीढी जिससे हवाई जहाज पर चढ्ते है उस पर बैठ कर खूब नहाये थे . करीब २० साल पहले की बात है . ऎसा सिर्फ़ कानपुर मे ही हो सकता है शायद
  34. …एक घंटे की हवाई यात्रा
    [...] दिल्ली से की उड़ान सबेरे दस बजे थी। हम गेस्ट हाउस से आराम से चले ताकि हवाई अड्डे पहुंचते हुये हड़बड़ा सकें। इस हड़बड़काल में हमें अपने बगल से गुजरता हर व्यक्ति अपना रकीब सा लगा जो हमसे आगे निकलकर हमें यात्रा वंचित करना चाहता है। चेकइन होते ही हड़बड़ी विदा होने लगी। इसके बाद जब पता लगा उड़ान में डेढ़ घंटे की देरी है,हमारे चेहरे पंचशील बिखर गया। [...]
  35. Abhishek Ojha
    कानपुर और कनपुरियों के बारे में बहुत लोग ऐसा ओबजर्व करते हैं ;) इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि कई बार लोग मुझे भी इस श्रेणी में काउंट करते हैं. बाकी आपकी नजर के तो हम वैसे ही कायल हैं.
  36. manoj kumar
    बेहतरीन यात्रा संस्मरण।
  37. sushila puri
    हर यात्रा में सामान के साथ अब अपना दिल भी हाथ में लेकर चलना पड़ता है।
    ……….ऐसा अब आप पुरुषों के साथ भी होने लगा ? शुक्र है जमाना तो बदला !
  38. amrendra nath tripathi
    अच्छा तो यह पहली किस्म की हवाई – उड़ान थी !
    मुझे तो लगता था कि ब्लॉग-नभचर फ़ुरसतिया जी
    अधिकांश यात्रा वायुयान से ही करते हैं ! आपके बहाने
    हमने भी उस माहौल को अनुभूता जिससे जाने कब
    बाबस्तगी हो ! खूबसूरत प्रविष्टि !
    और , जब किसी की बेवकूफियां चन्द्रकला सी खिल
    रही हों तो आसपास कुमुदनियों का खिलता जाल
    न बने तो मजा कहाँ ! कुछ खिली थीं ? हाँ नहीं सो !
    @ मुक्ति जी ,
    अस न कहिये , नहीं तो आलसी के पेटेंट धारी गिरिजेश
    राव साहब कोर्ट कचेहरी घसीट ले जायेंगे ! :)
  39. सतीश पंचम
    ई बताईये, अगर वह शख्स चश्मा निकाल कर अपनी सीट के लिए झगड़ता तब भी क्या वह उतना ही विद्वान लगता ?
    आप नाहक एक चश्मुद्दीन के पीछे पड़ गए….
    मैं भी चश्मा लगाता हूँ और कल को मैं अगर हवाई जहाज में जा कर सीट के लिए झगडने लगूंगा तो झगड़ने से पहले आस पास देख लूंगा कि कोई अनूप शुक्ल टाईप बंदा तो नहीं बैठा है :)
    मजेदार पोस्ट है….दनदनाती हुई।
    दोनो आसन्न पीएचडी धारकों के अनुभव लिखे जांय……क्योंकि उन अनुभवों में मुझे पीएचडी करवाने वाले प्रोफेसरों वगैरह के घरेलु मुश्किलें आसान करवाने की बू आ रही है….मसलन जसपाल भट्टी टाईप…… जिसमें कि पीएचडी करवाने के एवज में अपने मातहत एक छात्र से प्रोफेसर महोदय अपनी साली का विवाह करवाने पर तुल जाते हैं। क्या पता विनीत और अमरेन्द्र भी इसी जुगाड में हो :)
  40. jyotisingh
    इसके बाद हमने अपनी तरफ़ से तमाम बेवकूफ़ियां की। उसई जगह मुझे एहसास हुआ कि यात्राओं के दौरान आपके अंदर छिपी बेवकूफ़ियां चन्द्रमा की कलाओं की तरह खिलती हैं।
    अगर हम बहस का उद्घाटनिया फ़ीता काटते होते तो बच्चे की नींद टूट जाती और हम उस मुस्कान-दर्शन से वंचित रह जाते। एक बार फ़िर लगा कि बहस शुरू करने का आलस्य हमेशा सुकूनदेह होता है।
    waah kya kahne ?maza hi aa gaya wo bhi bharpoor ,aapki rachna to mood hi badal deti hai ,kai din se vandana se kah rahi thi ki shirshik itna prabhavshali hai ki padhne ki utsukta bani hui hai .aur aaj jaakar main ise shant kar pai .man nahi bhara ek baar me ab dobara aaungi ,mast zabardast …..
  41. K M Mishra
    पहली बार देखा कि सीट के सामने टेलीविजन भी था। बटन दबाकर चैनल सेट करते रहे। हुआ नहीं। ज्यादा जोर से दबाने की सोची लेकिन यह सोचकर नहीं दबाया कि कहीं हवाई जहाज न नीचे चला जाये।
    अच्छा ही किया । जो जोर से न दबाया । आजकल हवाई हादसे बहुत हो रहे हैं ।
    जिनको मजा नी आया वो अगला अंक भी पढ़े । शायद मजा आ जाये । हमे तो जोरों का आया ।
    चंद्रमा की कलाओं की तरह खिलती बेवकूफ़ियां
    एक बार बहुत दिनों के बाद चढ़े जहाज पर । हवाई एटिकेट्स तब कम आते थे । जहाज के टेक आफ होते ही एयर होस्टेस एक प्लेट में कान में ठूंसने के लिये रूई लिये ठुमकती आयी । हम सोचे की कोई खाने की चीज होगी । मुट्ठी भर कर उठा लिये । होस्टेस ने मुस्कुरा कर देखा । बाद में हम भी अपने बांगड़ूपर पर मुस्कुराते रहे रास्ते भर ।
  42. अजीत कुमार मिश्रा
    भई यात्रायें तो मैने भी कई की है। पर व्यवस्था की मन ही मन मां बहन एक करने के सिवा एक अक्षर भी न लिख सके पर आपकी कलम को तो चूमने को मन करता है। कहां है?
  43. रेल,सड़क और हवाई सफ़र के दौरान इधर-उधर की
    [...] [...]
  44. फ़ुरसतिया-पुराने लेख
    [...] [...]
  45. दिनेशराय द्विवेदी
    अच्छा ही हुआ हम अभी तक हवाई जहाज में न बैठे। पता नहीं हमारा बेवकूफियों का पिटारा वहाँ कैसे खिलता या खुलता ही नहीं।

Post Comment

Post Comment

Google Analytics Alternative