Saturday, September 04, 2010

…. एक बीच बचाव करने वाले से बातचीत

http://web.archive.org/web/20140209181457/http://hindini.com/fursatiya/archives/1661

…. एक बीच बचाव करने वाले से बातचीत

बहुत दिन तक लोग ब्लॉगिंग को हल्की विधा बता-बताकर इसका कद छोटा बताने की साजिश करते आ रहे थे। लेकिन हाल के दिनों में ब्लॉगिंग में हुये अभिनव प्रयोगों ने इसे नयी ऊंचाई दी है। छीछालेदर के जिन आयामों को ब्लॉगिंग ने इस बीच छुआ है उससे लगता है कि साहित्य भी इसके सामने कुच्छ नहीं। जितनी तेजी से चरित्र-फ़रित्र यहां हनित होने लगे हैं , उतनी स्पीड की साहित्य में कल्पना भी नहीं की जा सकती। मैगी प्रसंशको की संख्या में विकट इजाफ़ा हुआ है। आज वाह-वाह, अश-अश, क्या बात है, क्या कहने और कल ही थू-थू, शर्म-शर्म, हाय-हाय। एक ही तरह की बात पर धुर-विरोधी बातें देखकर लगता है ब्लॉग-जगत बहुत डायनामिक है। विकट परिवर्तनशील है।
फ़ूल
परिवर्तन के इस दौर में नये-नये तरह के काम के अवसर पैदा हुये हैं। इसमें से एक काम है-विवाद निपटाने का। अलग-अलग तरह के विवाद-निपटान केन्द्र खोल रखे हैं लोगों ने। कुछ लोगों का तो फ़ुल-टाइम पेशा ही है विवाद का निपटारा। विवाद न हों तो उनके हाथ का काम सा छिन जाता है। ऐसे ही एक ब्लॉगर फ़ुरसतियाजी एक विवाद निपटाते हुये पकड़े गये। उनको पकड़कर उनके मुंह में माइक सटाकर उनका इंटरव्यू ले लिये गया। उसकी कुछ झलकियां भी देख लीजिये सवाल-जवाब के रूप में।
सवाल: आप क्या काम करते हैं फ़ुरसतियाजी?
जवाब: करना क्या है जी! ब्लॉग लिखता हूं, टिपियाता हूं, चर्चियाता हूं। देश के बारे में चिन्तित होता हूं। इसके बाद जब कोई काम नहीं रहता- तो झगड़े निपटवाता हूं।
सवाल: ये झगड़े निपटवाने का काम कब से करते आ रहे हैं?
जवाब: मुझे खुद ही पता नहीं। लेकिन क्या इसे काम की मान्यता मिल गयी? लोग तो इसे बेवकूफ़ी ही मानते आये हैं आज तक और सच पूछा जाये तो है भी।
सवाल: वैसे आपकी याद में पहला झगड़ा आपने कब निपटवाया?
जबाब: मुझे याद है जब मैं बहुत छोटा था। एक बार क्रिकेट खेलते समय गेंद ऐसी जगह चली गयी जहां दो लोग बड़े मन से झगड़ा कर रहे थे। मैं फ़ील्डिंग कर रहा था। बल्लेबाज दौड़ के रन बनाये डाल रहे थे। मैं उनको रनआउट करने के लिये गेंद उठाने झुका तब तक दोनों झगड़ा करने वालों के एक-एक कंटाप उनके ऊपर से फ़िसलकर मेरे ऊपर पड़ा। मैं वहीं बेहोश हो गया। वे दोनों अपना झगड़ा भूलकर हमको होश में लाने की कोशिश में जुट गये। तब से लोग यह मानने लगे कि मैं झगड़ा निपटवाने में काम आ सकता हूं।
सवाल: क्या आप फ़ुल टाइम झगड़ा निपटवाते हैं? आप किस लेवल के झगड़े निपटवाते हैं?
जवाब: फ़ुल टाइम जब लोग झगड़ा नहीं करते तो निपटवागे कौन? झगड़े का कोई लेवेल नहीं देखते। जहां दिख जाये झगड़ा वहां निपटवाने लगते हैं।
सवाल: कैसे करवाते हैं यह काम? बहुत मेहनत लगती होगी।
जवाब: अरे काहे की मेहनत? जहां झगड़ा देखा दस-पन्द्रह ज्ञान की बातें फ़टकार दीं। भाईचारे का छिड़काव कर दिया। शांति की धूप-बत्ती जला दी। हाथ जोड़ कर वापस आ गये। इतने में ज्यादातर झगड़े निपट जाते है।
सवाल: लेकिन इतना भाईचारा कहां से लाते हैं आप? शांति की धूप-बत्ती बहुत खप जाती होगी।
जवाब: अरे भाईचारे की कोई कमी है ब्लॉगजगत में? जिधर देखो उधर भाईचारे के झरने बहते दिखते हैं। शांति का भी हर तरफ़ हल्ला मचाते रहते हैं लोग। सब इफ़रात में है यहां। वहीं से उठा लाते हैं और छिड़क देते हैं झगड़े वाली जगह में।
सवाल: और ज्ञान की बातें किधर मिलती हैं?
जवाब: अरे कहां का ज्ञान और कैसा ज्ञान? झगड़ा निपटाने वाला बेवकूफ़ी की बातें करता तो लोग उसको ज्ञान की बात मानकर ग्रहण कर लेते हैं। वैसे मानस है, गीता है, नीत्से है, शेक्सपियर है, ईलियट हैं, रूसो हैं ये हैं वो हैं न जाने कौन-कौन है। किसी के भी नाम से कुछ भी ठेल दो लोग सच मानकर सहम जाते हैं झगड़ा निपटवाने वाले से। ज्ञान में थ्री डी इफ़ेक्ट डालने के लिये कभी-कभी संस्कृत, लेटिंन, फ़्रेंच, अरबी का लेप लग देतें हैं तो ज्ञान चमकने लगता अल्युमिनियम फ़्वायल की तरह। कभी-कभी शेरो शायरी भी ठेल देते हैं झगड़ा करने वालों के बीच। वे अचक्के में झगड़ा करना भूलकर वाह-वाह करने लगते हैं ।
सवाल: किस तरह के शेर आम तौर पर ठेलते हैं? कुछेक उदाहरण बतायें!
जवाब: प्रेम-मोहब्बत, भाईचारे के शेर ही काम आते हैं ऐसे मौके पर ज्यादातर। जैसे ये कुछ ध्यान आ रहे हैं:
मोहब्बत में बुरी नीयत से कुछ भी सोचा नहीं जाता ,
कहा जाता है उसे बेवफा, समझा नहीं जाता.(वसीम बरेलवी)

ये जो नफरत है उसे लम्हों में दुनिया जान लेती है,
मोहब्बत का पता लगते , जमाने बीत जाते है.
अगर तू इश्क में बरबाद नहीं हो सकता,
जा तुझे कोई सबक याद नहीं हो सकता. (वाली असी)

और ये तो सदाबहार है, जहां मन आये ठेल देते हैं:
दुश्मनी जमकर करो लेकिन ये गुंजाइश रहे,
फ़िर कभी जब दोस्त बन जायें,शर्मिंदा न हो। (बशीर बद्र)

सवाल: क्या हासिल होता है झगड़ा निपटवाने में आपको?
जवाब: मिलता तो कुछ नहीं है सिवाय गालियों के लेकिन हम कहते यहीं हैं कि इससे हमें सुकून मिलता है। झगड़ा भले निपटे या बढ़ जाये लेकिन भले आदमी का प्रमाणपत्र तो कहीं गया नहीं। भले आदमी की इमेज कितनी काम देती इसके बारे में आपको क्या बताना? एक बार इमेज बन गयी तो आप तमाम चिरकुटैयां बेखटके कर सकते हैं। कोई माई का लाल टोकने की हिम्मत नहीं कर सकता। टोके तो डपट दो- ऐरा-गैरा मत समझना, भला आदमी हूं। जितना कभी रामगढ़ वाले गब्बर सिंह से डरते थे उससे ज्यादा आजकल लोग भले आदमी से डरते हैं-न जाने कब भलेपन पर उतर आये।
सवाल: क्या समस्यायें आती हैं इस काम में? किस तरह की तकलीफ़ें आती हैं?
जवाब: असल में झगड़ा निपटवाने में सबसे अहम बात है झगड़ा निपटवाने का समय तय करना। एक बार आपको सही समय अंदाजा हो गया तो आप कभी असफ़ल नहीं हो सकते! जब झगड़ा करने वाले थक जाते हैं। उनके सारे तर्क-तीर समाप्त हो जाते हैं तो वे बड़ी बेकरारी से ताकते हैं कि कोई आये और उनको झगड़े से निजात दिलाये। परेशानी तब आती है जब दोनों का मन भरा नहीं होता है झगड़ा करने से। तब अगर कोई उनका निपटारा करने जाये तो दोनों अपना झगड़ा छोड़कर निपटारा करने की कोशिश में लगे व्यक्ति को दौड़ाकर निपटाने में लग जाते हैं। उनके झगड़ानन्द में दखल उनको बर्दाश्त नहीं होता।
सवाल: झगड़ा करते समय लोग आपस में कैसा बर्ताव करते हैं?
जवाब: मत पूछिये। महिमा बरनि न जाये टाइप। उस समय तो कुछ लोग इत्ता गुस्साये रहते हैं कि शब्द झाग की तरह निकलते हैं। हिंदीभाषी लोग अंग्रेजी में बोलने लगते हैं। अंग्रेजी वाले फ़ारसी। वाचाल गुस्से के मारे हकलाने लगते हैं। एक-एक शब्द ऐसे टाइप करते हैं जैसे तारे जमीन का हर्षिल हो (डिक्लेक्सिया का मरीज)। हर नहले पर दस-बीस दहले मारने लगते हैं। झगड़ते समय मारे गुस्से के उनके सौंन्दर्य दस बारह चांद लग जाते हैं। अक्सर यह भी होता है वे अपने-अपने महापुरुषों की अच्छाइयां नोचकर अपने ऊपर और नीच पात्रों की बुराइयां अगले पर सटा देते हैं। महापुरुष बेचारे अपनी अच्छाइयां नुच जाने घायल हो जाते हैं।
सवाल: ऐसा भी होता है कि झगड़ा करने वाले झगड़ा निपटवाने के बाद फ़िर भिड़ जायें?
जवाब: हां अक्सर होता है। जैसे अपने यहां जिन्दगी भर असफ़ल रहने वाले क्रिकेट खिलाड़ी में भी बहुत सारी क्रिकेट बची रहती है या फ़िर कब्र में पांव लटकाये जनसेवक अंदर भी बहुत सारी देश सेवा की भावना जमी रहती है वैसे ही कई झगड़ा करने वालों के अंदर में झगड़ा निपटने के बाद भी बहुत सारा झगड़ा बचा रहता है। उसको खर्च करने के लिये वे फ़िर लड़ने लगते हैं।
सवाल: लेकिन ऐसा कैसे होता है कि झगड़ा निपटने के तुरंत बाद फ़िर लोग झगड़ने लगते हैं!
जवाब: अरे भाई बताया न! लोग अपना झगड़ा खर्चने के लिये बेताब रहते हैं। बहुत से कारण हैं फ़िर झगड़ा करने के। किसी को वीरता का दौरा पड़ जाता है, किसी को सत्य का। कोई अस्मिता की लड़ाई ठान लेता है, कोई अस्तित्व की। जैसे कोई एंटीबॉयटिक का कोर्स पूरा न लिया जाये तो बीमारी फ़िर से जकड़ लेती है वैसे ही झगड़ा पूरा न किया तो फ़िर से ज्यादा जोर से होने लगता है।
सवाल: लोगों क्या सोचते हैं आपकी इस हरकत के बारे में?
जवाब: आपने हरकत कहकर खुद बयान कर दिया। लोगों को जो समझ में आता है बोलने लगते हैं। अक्सर लोग नाराज होते हैं कि झगड़ा खतम होने से उनका मनोरंजन खतम हो जाता है। पिछली बार तो यह भी सुनने में आया कि हमने झगड़ा खत्म करवा कर जो पाप किया है उसके लिये इतिहास बहुत कड़ी सजा सुनायेगा। माफ़ नहीं करेगा।
सवाल: इस पर हमारी क्या प्रतिक्रिया है?
जबाब:अरे बाप रे! झगड़ा निपटवाने वाला कोई प्रतिक्रिया दे सकता है भला। लोग दौड़ा लेंगे। झगड़ा निपटवाने वाला और कुछ भी कर सकता है प्रतिक्रिया नहीं व्यक्त कर सकता। करेगा तो उसका झगड़ा हो जायेगा। फ़िर दूसरे उसका झगड़ा निपटवाने दौड़े आयेंगे। बड़ी ब्लॉगहंसाई की बात है। इसलिये ऐसी बातों को इस्माइली :) मारकर अनसुना कर दिया जाता है!
सवाल: आपकी स्थिति कैसी है झगड़ा निपटवाने वालों की जमात में? आपसे भी बड़े लोग हैं झगड़ा निपटवाने वाले कि आप ही सबसे महान हैं?
जबाब: मन तो खुद को ही सबसे बड़ा झगड़ा निपटारक कहने का हो रहा है। लेकिन सच यह है कि हमसे बड़े-बड़े दिग्गज हैं यहां। हम तो केवल समय मिलने पर यह काम करते हैं। कुछ भाई लोगों का फ़ुल टाइम काम है यह। वे इतने एक्सपर्ट हैं झगड़ा निपटवाने में कि जहां जाते हैं झगड़ा निपटवाने लगते हैं। वहां तक झगड़ा निपटवा देते हैं जहां झगड़े का ’झ’ तक नहीं होता। एक बार दो दोस्त उनके सामने गर्मजोशी से गले मिले और आपस में धौल-धप्पा करने लगे। एक भाईजी ने देख लिया और फ़ौरन उनको हड़का कर उनका झगड़ा निपटवा दिया। इत्ती कसकर हड़काया कि बेचारे बहुत दिन तक गुमसुम बने रहे।
सवाल :आपका झगड़ा निपटवाने वालों के लिये कोई संदेश है क्या?
जवाब: संदेश कुछ नहीं है। सुझाव है कि झगड़ा निपटवाने में सुरक्षा उपाय की अनदेखी नहीं करनी चाहिये। जिस समय झगड़ा निपटवाने लगे उस समय झगड़ारत चिरकुट से चिरकुट ब्लॉगर को भी समझदार, धीर-गंभीर ब्लॉगर बताये। हो सके तो उसी के ब्लॉग पर लिखे अच्छे आदर्श वाक्यों के एनेस्थीसिया से उसके झगड़े की भावना को सुलाने का प्रयास करे।
सबसे जरूरी सलाह मैं यह देना चाहूंगा कि कोई भी झगड़ा निपटते ही झगड़ा स्थल फ़ूट ले। पता नहीं कब दोनों का बचा हुआ झगड़ा उभर आये और वे फ़िर झगड़ने पर आमादा हो जायें। ऐसे में दोनों मिलकर पहला हमला झगड़ा निपटवाने वाले पर करते हैं!
इसके बाद एक और सवाल के लिये संवाददाता ने माइक फ़ुरसतिया की तरफ़ किया तबतक उन्होंने वे गर्दन उचकाकर अपने लैपटाप की तरफ़ देखा और बुदबुदाये- लगता है यह झगड़ा भी अब पक गया। इसको अब निपट जाना चाहिये। इसके बाद वे अपने लैपटाप पर झुककर तमाम आदर्श वाक्य कट-पेस्ट करके झगड़ा निपटवाने में लग गये थे।

मेरी पसंद

मैं अब कुछ कर दिखाना चाहता हूं
तुम्हारा अनहुआ झगड़ा निपटाना चाहता हूं।
जब भी भिड़्ना मुझे बताकर भिड़ना ,
झगड़ते समय तुम्हारे बीच आना चाहता हूं।
कुछ नहीं रखा मेल-मिलाप की दुनिया में
मैं झगड़े का सेन्सेक्स उठाना चाहता हूं।
बहुत सारी सूक्तियां भनभनाती हैं जेहन में,
वो सभी मैं तुमको सुनाना चाहता हूँ.
भिड़ना तो अकल को अलग करके भिड़ना,
मैं तुमको अकल की बातें बताना चाहता हूं।
अनूप शुक्ल

49 responses to “…. एक बीच बचाव करने वाले से बातचीत”

  1. Khushdeep Sehgal, Noida
    नारायण…नारायण…(नारद स्टाइल)
    महागुरुदेव, बड़े दिनों बाद किसी पोस्ट पर कमेंट कर रहा हूं, शुरुआत आप से करना मंगलकारी है…
    नारायण…नारायण…
    जय हिंद…
    Khushdeep Sehgal, Noida की हालिया प्रविष्टी..बताइए कल अच्छा था या आजखुशदीप
  2. manoj kumar
    आज का आलेख ज़बर्दस्त पंच से शुरु हुआ है
    “छीछालेदर के जिन आयामों को ब्लॉगिंग ने इस बीच छुआ है उससे लगता है कि साहित्य भी इसके सामने कुच्छ नहीं। ”
    ठीक ही कह रहे हैं।
    manoj kumar की हालिया प्रविष्टी..फ़ुरसत में …! कुल्हड़ की चाय!
  3. jandunia
    nice
  4. manoj kumar
    जो गुरु ते झगड़ा न मिटे, रगड़ा न जिसका जाय ।
    सो गुरु झूठा जानिये, त्यागत देर न लाय ॥
    इस आलेख के ज़रिए समकालीन ब्लॉग साहित्य पर अच्छा प्रकाश डाला गया है । साहित्य समाज का दपर्ण है । पर यदि दर्पण मटमैला है तो व्यक्ति या समाज का क्या दोष?
    किन लफ़्ज़ों में इतनी कड़वी, इतनी कसैली बात लिखूं
    शेर की मैं तहज़ीब निभाऊं या अपने हालात लिखूं
    manoj kumar की हालिया प्रविष्टी..फ़ुरसत में …! कुल्हड़ की चाय!
  5. प्रवीण शाह
    .
    .
    .
    फुरसत में लिखा गया झगड़ा-निपटावन-पुराण,
    वैसे यह ‘झगड़ा’ कोई ब्लॉगर तो नहीं…जिसे निपटाना है/निपटाने की जरूरत है … ;))
    आभार!
    प्रवीण शाह की हालिया प्रविष्टी..देखो कौन कह रहा है आज कि- किसी ऊपर वाले ने नहीं बनाई यह दुनियायह तो खुद ही बनती और खत्म होती रहती है !!!
  6. विवेक सिंह
    झगड़ा निपटाने की कला तो हमें आती नहीं . हाँ अगर आल्हा फाल्हा लिखवाना हो तो याद करियेगा .
  7. महफूज़ अली
    गुरूजी…
    प्रणाम…
    आज के कमेन्ट का आग़ाज़ आप से शुरू कर रहा हूँ…. गुरूजी आप का जवाब ही नहीं है…. एक बात तो है…ब्लॉग्गिंग का छीछालेदर देख कर मन तो खिन्न ही हो गया है… आरोप- प्रत्यारोप की हाईट यहीं देखी है… कितना टाइम है यहाँ लोगों के पास… मैं यही सोचता हूँ… और लोग भी बिना किसी को जाने , मिले कितना खराब लिख देते हैं… बिना एप्लीकेशन ऑफ़ माइंड के… पर एक बात तो है…झगडे में कई लोगों का फ़ोकट में एंटरटेनमेंट तो ही जाता है… वक्ती तौर पर…. पता नहीं कोई फिल्म देखी थी ….उसमें किसी कॉलेज का सीन था… सीन में यह था कि कॉलेज के दो गैंग में झगडा हो जाता है… और सब बुरी तरह से मारपीट करते हैं… गाली-गलौज करते हैं… और थोड़ी ही दूरी पर सड़क पर दो देसी कुत्तों को भौं-भौं कर के झगड़ते हुए दिखाते हैं…. उस वक़्त मुझे वो सीन बहुत सिम्बौलिक लगा था….कुल मिलकर बहुत अच्छी पोस्ट….
  8. महफूज़ अली
    गुरूजी …. आजकल मैं कुछ ज्यादा ही उर्दुआ गया हूँ…. बताइए…. आग़ाज़ के साथ शुरू भी लिख रहा हूँ… इसे ही कहते हैं…पढ़ा लिखा अनपढ़. ….
  9. anitakumar
    कुछ नहीं रखा मेल-मिलाप की दुनिया में
    मैं झगड़े का सेन्सेक्स उठाना चाहता हूं।….:)
    मजेदार कविता
    क्या बड़िया ज्ञान दिया है झगड़ा निर्मूलन का, कब बीच में कूदें, क्या डालें और कब फ़ूट लें वहां से।
  10. sanjay
    जनाब,
    एक क्लेमर बनवा कर जगह जगह कॉपी पेस्ट करना चाहिये था, कि
    “यहाँ हर प्रकार के झगड़े बाजार से सस्ते दामों पर तसल्लीबख्श तरीके से निबटवाये जाते हैं।”
    संक्रांति काल की बेला में देशसेवा, समाजसेवा और हिन्दीसेवा का पुण्य तो मिलता ही, ब्लॉगर्स निश्चिंत होकर झगड़ने के पुनीत कर्म में रत हो सकते कि निपटवाने के लिये शुक्ल जी आते ही होंगे।
    sanjay की हालिया प्रविष्टी..बिछड़े सभी बारी बारी-३
  11. स्वामी झड़गड़ानन्द

    नोटिस : अनूप शुक्ला कनहापुर

    चिरन्जीवी शकुनीसौरभ के सूत्रों से आपके द्वारा लिखित पोस्ट का सँज्ञान लिया गया,
    प्रथम दृष्टया विवेचना से यह अनुभव हुआ है कि, ” हमार कोऊ का करिहे ” की भावना में मदान्ध हो आप अपने को स्वयँभू झगड़ाधीश घोषित करने का षड़यन्त्र रच रहे है ।
    अतएव सूचित किया जाता है, बालक कि जिन महान-आत्माओं नें झगड़ा करने की दीक्षा तक मुझसे नहीं ली है, उन्हें भी आप झगड़मठ से बिना अनुमति लिये शिक्षित करने में प्रयासरत दिखने का दोषी पाये जाते है ।
    अतएव दण्डस्वरूप आपको झगेड़पीठ द्वारा आगामी 101 दिनों तक निम्न मन्त्र का सार्वजनिक रूप से पाठ करने का आदेश दिया जाता है..
    बड़ी बहिनिया यहि मांगै दान,
    लड़ाई झगरा मॉ मोर बढ़ही मान.

    इसकी अवहेलना होने की दशा में आपको आगामी कार्तिक मास के अड़े-फँसे दीक्षान्त आयोजन में भाग लेने से वँचित किया जा सकता है । कृपया नोट करें इस दशा में आप झगेड़ू-दमकल की उपाधि पाने की पात्रता से च्युत कर दिये जायेंगे । आपकी पोस्ट से प्रभावित होते हुये भी झगेड़पीठ आपकी सहायता में असमर्थ होगी ।
    आज्ञा से – बखेड़ू-शिरमौर

    डिसक्लेमर :
    “जेकर पेट पिराय ऊ दू रोटी जेदा खाय
    बतावा माई उहाँ मोर-तोर का जाय ”
  12. shikha varshney
    बढ़िया काम है ये भी :) एक झगडा निबटाओ आन्दोलन भी चलाना चाहिए :) ..कविता जबर्दस्त्त है.
    shikha varshney की हालिया प्रविष्टी..दो दिन- स्कॉटस और बैग पाइप
  13. Abhishek
    ब्लॉगिंग के हालिया घटनाओं का ठीक-ठीक पता नहीं है. और इस बात की बहुत खुशी है :) लेकिन इतना पता है कि एक नयी ऊँचाई छुई है इसने इसी बीच. झगड़ा निपटाने में दुई-चार कंटाप तो लगते ही रहता है !
    Abhishek की हालिया प्रविष्टी..नंगे गायब !
  14. Shiv Kumar Mishra
    फुरसतिया जी का इंटरव्यू बहुत बढ़िया.
    हमारी तो यही कामना है कि उन्हें वर्ष २०११ के लिए सर्वश्रेष्ठ झगड़ा निपटावन ब्लॉगर का सम्मान मिले…:-)
    इसी विषय पर सुकरात का एक शेर अर्ज करूंगा और कहूँगा कि;
    झगड़े में क्या रखा है कुछ भी तो नहीं यार
    झगड़ा करे जो ब्लॉगर वो इंसान नहीं है
    एक दोहा महान नीत्शे का भी लीजिये
    ब्लॉगर जो झगड़े यहाँ एक अपील लगाय
    झगड़ा यूं सुलझाय दो वो अपने ठौरे जाय
    इसी विषय पर अरस्तू ने एक शेर मारा था…खैर जाने दीजिये..फिर कभी.
    Shiv Kumar Mishra की हालिया प्रविष्टी..सेलिंग वुवुज़ेला थ्रू पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम
  15. arvind mishra
    शेर अच्छे हैं -
    मगर इसे सुधार लीजिये -
    दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुंजाइश रहे जब कभी हम दोस्त हो जाएँ तो शर्मिन्दा न हों .
  16. Sanjeeva Tiwari
    जय हो गुरूदेव,
    शिब भाई क टिपनी हमरी भी मानी जावे.
    Sanjeeva Tiwari की हालिया प्रविष्टी..निवेदक – ऐसे भी
  17. dr.anurag
    हमारा तो इस बात पे विश्वास ओर पुख्ता हुआ है जी………के ……..”.उम्र ओर डिग्री का समझदारी से कोई सम्बन्ध नहीं है ”
    dr.anurag की हालिया प्रविष्टी..चिरकुटाई की डेमोक्रेसी
  18. मृगांक अग्रवाल
    बहुत अच्छा लेख है ,यदि सभी इसी तरह करने लगें तो झगडे ख़तम हो जाये (हों ही नहीं ).लेख के लिए और लेखक के लिए साधुवाद .
  19. sangeeta swarup
    व्यंग के माध्यम से अच्छा सन्देश दिया है …अच्छी प्रस्तुति
    sangeeta swarup की हालिया प्रविष्टी..वो चिंदिया वो खटोला
  20. aradhana
    बहुत दिनों से ब्लॉगजगत से दूर होने के कारण झगड़ा-पुराण के विषय में देर से पता चला.पर झगड़ा सुलझावनहार श्री फुरसतिया जी महाराज का इंटरव्यू बहुत भाया…खासकर ये
    “जहां झगड़ा देखा दस-पन्द्रह ज्ञान की बातें फ़टकार दीं। भाईचारे का छिड़काव कर दिया। शांति की धूप-बत्ती जला दी।”
    बात इस्माइली के साथ संक्षेप में समाप्त करती हूँ क्योंकि माहौल अभी गर्म है :-)
  21. गौतम राजरिशी
    कितने “पिन” छुपा के रखे हैं आपने अपने तरकश में…जाने कितने गुब्बारे धराशयी हुये इसी बहाने!
    इस साक्ष्ताकारकर्ता का नाम चाहिये, तनिक दो-तीन इंटरव्यु हमको भी देना है।
    फिलहाल अगले दो-एक हफ़्ते तक ये शेर सबको मारने वाला हूँ-
    “अगर तू इश्क में बरबाद नहीं हो सकता,
    जा तुझे कोई सबक याद नहीं हो सकता”
    गौतम राजरिशी की हालिया प्रविष्टी..दबी होती है चिंगारी- धुँआ जब तक भी उठता है
  22. shefali
    पहली बात …. लगे हाथ इसे भी सुधार लें ….
    कहा जाता है उसे बेवफा, बेवफा समझा नहीं जाता….बेवफा कहा जाता है समझा नहीं जाता….
    अक्सर लोग नाराज होते हैं कि झगड़ा खतम होने से उनका मनोरंजन खतम हो जाता है। पिछली बार तो यह भी सुनने में आया कि हमने झगड़ा खत्म करवा कर जो पाप किया है उसके लिये इतिहास बहुत कड़ी सजा सुनायेगा। माफ़ नहीं करेगा।
    ये क्या किया आपने ?
  23. रचना
    सवाल: लोगों क्या सोचते हैं आपकी इस हरकत के बारे में?
    जवाब: आपने हरकत कहकर खुद बयान कर दिया। लोगों को जो समझ में आता है बोलने लगते हैं। अक्सर लोग नाराज होते हैं कि झगड़ा खतम होने से उनका मनोरंजन खतम हो जाता है। पिछली बार तो यह भी सुनने में आया कि हमने झगड़ा खत्म करवा कर जो पाप किया है उसके लिये इतिहास बहुत कड़ी सजा सुनायेगा। माफ़ नहीं करेगा।
    ————————————————–
    नहीं जो मैने कहा था वो ये हैं (चैट पर सुरक्षित हैं !!!!}
    “कल आप ने एक और लड़की को दब्बू बनने के लिये प्रेरित किया हैं इतिहास आप को इसके लिये शायद ही माफ़ करे .”
    मै अपनी बात पर आज भी कायम हूँ . हाँ डिलीट की हुई सब पोस्ट एक छोड़ कर मेरे पास सुरक्षित हैं जो पढना चाहे ईमेल से प्राप्त कर सकते हैं .
    मुझे एक मान हानि का दावा करना हैं अभी ये विचारगत प्रक्रिया हैं उसके लिये क़ानूनी साक्ष्य जुटा रही हूँ . और वो पोस्ट इसमे सहायक होगी .
    रचना की हालिया प्रविष्टी..चंद्र्नखा से सुपनखा तक कुछ चित्र
  24. वन्दना अवस्थी दुबे
    पिछले दिनों मची बमचक के बाद उम्मीद थी कि गुरु जी ऐसा ही कुछ पढने को मजबूर करेंगे :) बढ़िया आपबीती.
    वन्दना अवस्थी दुबे की हालिया प्रविष्टी..रक्षा सूत्र कैसे-कैसे
  25. काजल कुमार
    ब्लाग की दुनिया के झगड़ा-निपटइय्ये तो सही, इसी तरह के लोग गली मोहल्लों में भी खूब मिलते हैं और इनकी कोशिश होती है कि किसी सामरिक जगह पर कुर्सी डाल ली जाए जहां से हर कोने पर नज़र रखी जा सके ताकि मौक़े-बेमौक़े सलाहबाज़ी तो की ही जा सके (अगर सुलह सफाई की ज़रूरत न ही पड़े तो).
    अगर कहीं इन लोगों को किसी बहुमंज़िला अपार्टमेंट टाइप जगह रहना पड़ जाए तो मानो इनका दम ही घुट जाता है. ऐसे में इनकी कोशिश होती है कि चौधराहट बनाए रखने के लिए किसी तरह कोई पदाधिकारीपना कर लिया जाए. और अगर यह जुगत न भी बैठे तो ये प्राणी मेन गेट के चौकीदारों के पास बस यूं ही डोलने फिरते हैं, आने-जाने वालों पर नज़र रखते हुए…
  26. पं.डी.के.शर्मा "वत्स"
    :)
    झगडा निपटावन ब्लागरों के अधिकारों की रच्छा के लिए एक “झगडा निपटावनहार एसोसियसन” भी अब जरूर बनाई जानी चाहिए……
    पं.डी.के.शर्मा “वत्स” की हालिया प्रविष्टी..इन्सान कर्मों के इस चक्र में किस कारण से उलझता है
  27. प्रवीण पाण्डेय
    पोस्ट तो पढ़ ली पर झगड़ा हुआ क्यों था?
  28. प्रशान्त (PD)
    हम जाते हैं कहीं झगडा करने..
    गर कोई ना मिला तो आप हैं ही. :)
    वाह वाह.. ये तो कविता बन गई.. कोई नीचे एक लाइन जोड़ दे तो त्रिवेणी बन जायेगी.. :D
    प्रशान्त (PD) की हालिया प्रविष्टी..क्यों पार्टनर- आपकी पोलिटिक्स क्या है
  29. Sanjeet Tripathi
    क्या लपेटा है बॉस उधर विभूति प्रकरण से लेकर इधर ब्लॉगजगत में……… प्रकरण को…..
    ;)
    एकदम धांसू, मजा आ गया. ना केवल मजा आ गया बल्कि सोच रहा हूँ की इस मुद्दे पर भी कुछ सिखा जाए….
    Sanjeet Tripathi की हालिया प्रविष्टी..स्वागत कार्टूनिस्ट निशांत का
  30. amrendra nath tripathi
    लग रहा है हमहू को कि कुछ झगडा टाइप का हुआ था . हम तो उस बीच जे.एन.यू. चुनाव के रोक के विरुद्ध वास्तविक लड़ाई में ज्यादा व्यस्त रहते थे व अभी भी हैं , इस बीच एकाध घंटा देखते थे तो आभासी सेन्सेक्स की उछाल मजा ही देती थी … का कुछ होने वाला है हियाँ से , ऊधो का लेना न माधो का देना …. आल इज वेल ! ….बढियां बत-झकाती पोस्ट !
    amrendra nath tripathi की हालिया प्रविष्टी..बजार के माहौल मा चेतना कै भरमब रमई काका कै कविता ध्वाखा
  31. samvedana ke swar
    खबरिया चैनलों के बाद यह फुरसतिया चैनल का ताजा साक्षात्कार बहुत मज़ेदार लगा!
    कविता ने तो इसे सही मुकाम पर पहुचा दिया!
    लपेटे में कौन कौन है? ढूढ्ते हैं कुछ देर और!!
  32. भाई कुश भाई जयपुर वाले
    कोई शेर बचा नहीं वरना हम भी सुधार देते..
    अभी के लिए मशहूर कवि भाई कुश भाई जयपुर वाले का एक शेर
    दूध से जलकर भी छाछ को फूंकता नहीं..
    झगडा निपटावन बंदा कभी रूकता नहीं..
    रुक जाए जो करवाके सरेआम अपनी ठुकाई
    उसे भला फिर कौन कहेगा अपना बड़ा भाई..
    बाकी के शेर आप हमारी पुस्तक में पढ़ सकते है… नाम है “सिमटे कंकर”
    भाई कुश भाई जयपुर वाले की हालिया प्रविष्टी..ज़िन्दगी के सबसे मुश्किल पलो में प्यार मिठास घोल देता है
  33. kanchan
    हम कौन ख़ामख़ाह….
    सवाल: झगड़े निपटाते ही है या लगाते भी हैं ?
    जवाब:
    एक और सवाल है, वो चैट पर पूछूँगी…..
  34. Anonymous
    पता नहीं हम जिससे जो मिलता है उससे वैसा ही ख्वाहिश करते हैं
    या फिर जैसा ख्वाहिश करते है उससे वैसा ही उससे मिलता है
    इसे कहते हैं अत्म्प्रछालन ………
    दुसरे पे तो सभी ऊंगली उठाते हैं खुद पे ……. उठाने वाले ……ओ भी हास्य के लस्सी पे व्यंग की मलाई मर के
    आप को पढने का इंतजार हमेश लम्बी…..बहोत लम्बी लगती है …..लेकिन …. जो मिलता है ओ इंतजार का फल मीठा होने के सामान
    अप्पके इस साफगोई पर बलिहारी जाऊं ……
    हार्दिक प्रणाम
    शैलेन्द्र (चंडीगढ़)
  35. anupam agrawal
    वाकई डिग्री ले रखी है आपने .
    एक थीसिस लिखें कि कितने तरह के झगडे होते हैं और आप कितने तरह के निपटा सकते हैं.
    बहुत रोचक पोस्ट.
    anupam agrawal की हालिया प्रविष्टी..शमशान के सन्नाटे में
  36. शरद कोकास
    बेहतरीन व्यंग्य रचना ।
    शरद कोकास की हालिया प्रविष्टी.. लिखो ! न सही कविता – दुश्मन का नाम – लीलाधर मंडलोई की एक कविता
  37. manoj kumar
    मनुष्‍य को दो चीजों के लिए ही याद किया जाता है, वे समस्‍याएं, जिनका वह समाधान करता है , या वे समस्‍याएं जिन्‍हें वह पैदा करता है। यह हम पर निर्भर करता है कि हम किस चीज के लिए याद किए जाएं।
    manoj kumar की हालिया प्रविष्टी..गीली मिट्टी पर पैरों के निशान
  38. Saagar
    आपके लेख के बाद अव्वल तो कुछ बचता नहीं, दूसरा कुछ सूझता नहीं जो बात कमेन्ट करने के लिए मन में आता है वो कहीं ना कहीं पहले ही कह दिया गया होता है… यही एक जगह है पुरे ब्लॉग पर जहाँ मैं बेबस हूँ.
    Saagar की हालिया प्रविष्टी..बालिग़ बयान
  39. Saagar
    अब आप यहाँ से कोई हास्य फुहार या व्यंग निकाल देंगे :) कोई बात नहीं चाहता हूँ, चाहता हूँ लड़ी लगाये रखिये
    Saagar की हालिया प्रविष्टी..बालिग़ बयान
  40. Pankaj Upadhyay
    :-)
  41. Ranjana
    यूँ तो रस से सराबोर कर रखा है आपने is साक्षात्कार को …पर यहाँ आकर तो अटक ही गयी…माने बहुत जोर से डूब गयी इसमें..
    “असल में झगड़ा निपटवाने में सबसे अहम बात है झगड़ा निपटवाने का समय तय करना। एक बार आपको सही समय अंदाजा हो गया तो आप कभी असफ़ल नहीं हो सकते! जब झगड़ा करने वाले थक जाते हैं। उनके सारे तर्क-तीर समाप्त हो जाते हैं तो वे बड़ी बेकरारी से ताकते हैं कि कोई आये और उनको झगड़े से निजात दिलाये। परेशानी तब आती है जब दोनों का मन भरा नहीं होता है झगड़ा करने से। तब अगर कोई उनका निपटारा करने जाये तो दोनों अपना झगड़ा छोड़कर निपटारा करने की कोशिश में लगे व्यक्ति को दौड़ाकर निपटाने में लग जाते हैं। उनके झगड़ानन्द में दखल उनको बर्दाश्त नहीं होता। “
  42. Pankaj Upadhyay
    वाह वाह!
    “कुछ नहीं रखा मेल-मिलाप की दुनिया में
    मैं झगड़े का सेन्सेक्स उठाना चाहता हूं।”
    क्या बीच-बचाव भरी पोस्ट है… लग रहा है घूमने-घामने में कुछ मिस कर दिया मैंने :-)
    Pankaj Upadhyay की हालिया प्रविष्टी..जाने कैसी कैसी आवाजें!
  43. chandra mouleshwer
    “धुर-विरोधी बातें देखकर लगता है ब्लॉग-जगत बहुत डायनामिक है। ”
    डायन नामिक से रूह कांप जाती है :)
    chandra mouleshwer की हालिया प्रविष्टी..कामनवेल्थ खेल का बहिष्कार – चेतन भगत
  44. श्रीश पाठक
    सागर की तरह मै भी लाचार हूँ…यह पोस्ट तो नही भाई अपन को..कांटेक्स्ट सोचता हूँ, तो रोयें खड़े हो जाते हैं..आप हर चीज की मौज कैसे ले सकते हैं..अभिनय कमाल का रहा..! मंत्रमुग्ध हूँ..!
    Disclaimer : मैंने आपके अंदाज में मौज लेने की सोची है . इसका किसी जीवित व्यक्ति से साम्य पाया जाना महज संयोग कहा जायेगा..:)
  45. : …टिप्पणी बंद करने के साइड इफ़ेक्ट
    [...] पिछली पोस्ट में रचना सिंह जी की एक टिप्पणी थी- “कल आप ने एक और लड़की को दब्बू बनने [...]
  46. K M Mishra
    अनुप जी को सादर प्रणाम । झगड़ा निपटवाने का काम कब से शुरू कर दिया गुरूदेव आपने । बड़ा झंझटिया काम है । वैसे ब्लागिंग की दुनिया में खूब मौके हैं झगड़ा निपटाने के ।
    जबरदस्त पोस्ट । झगड़ा निबटावन की कला इतने बारीकी से कभी नहीं पढी थी । आनंद आ गया ।
  47. सतीश पंचम
    अमरेन्द्र द्वारा पिछली पोस्ट पर दिये लिंक से इस पोस्ट का ताला खुला और क्या खूब खुला। पढ़ा तो इसे पहले भी था लेकिन सतीश सक्सेना जी पर आई झगड़ा निपटाऊ पोस्ट के आलोक में इस पोस्ट का आनंद दुगुना हो गया :)
    सतीश पंचम की हालिया प्रविष्टी..नये बादल बिन पिये ही धीरे धीरे सिप लेने का आनंद देती मोहक कृतिसतीश पंचम
  48. आशीष श्रीवास्तव
    आपकी साक्षी भाव से लिखी हुई पोस्ट बहुत कमाल की होती है,
    अद्भुत है इतना गहरा उतर जाना वो भी झगडा निपटाने के विषय पर ………
    चारो शेर भी गज़ब है
    आशीष
  49. फ़ुरसतिया-पुराने लेख
    [...] …. एक बीच बचाव करने वाले से बातचीत [...]

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative