Thursday, August 04, 2011

अमल के इंतजार में आइडिये….

http://web.archive.org/web/20140419214617/http://hindini.com/fursatiya/archives/2161

अमल के इंतजार में आइडिये….

आइडिये
एक दिमाग में अनगिनत आइडिये रहते थे। समय के साथ आइडियों की संख्या भी बढ़ती रही। शुरुआत में तो आइडिये भारत की जनसंख्या की तरह बढ़े। इसके बाद आइडियों के बढ़ने की दर तेज होती गयी। पहले तो वे देश में जातिवाद/भाई- भतीजावाद की दर से बढ़े। फ़िर सांसदों के वेतन भत्ते पास होने की गति से। इसके बाद उनके बढ़ने की दर उदारीकरण के बाद के घपलों-घोटालों की गति से बढ़ने लगी।
किसी भी आइडिये में क्रांतिकारिता की मात्रा उसके द्वारा प्रदर्शित चिरकुटई के समानुपाती होती है।
हर आइडिया अपने को खास मानता। हर आइडिया सोचता कि उस पर सबसे पहले अमल होना चाहिये। जो आइडिया जितना बड़ा चिरकुट होता वह अपने को उतना ही क्रांतिकारी समझता। कुछ पढ़े-लिखे विचारक टाइप के आइडियों ने तो नियम तक बना दिया था- किसी भी आइडिये में क्रांतिकारिता की मात्रा उसके द्वारा प्रदर्शित चिरकुटई के समानुपाती होती है। बनते ही यह नियम आइडियों का सार्वभौमिक नियम के रूप में मशहूर हो गया।
अपने देश में किसी बच्चे का होशियार होने का मतलब उसकी गणित अच्छी होना और स्मार्ट होने का मतलब उसकी अंग्रेजी अच्छी होना होता है।
इस नियम के अनुपालन में अच्छे-भले शरीफ़ टाइप के आइडिये भी चिरकुटई का अभ्यास करते दिखते। कुछ ने चिरकुटई की कोचिंगें भी ज्वाइन कर ली। उनको लगता कि आइडिये का अंतिम लक्ष्य क्रांतिकारी दिखना होता है। यह कुछ ऐसा ही है जैसा कि अपने देश में किसी बच्चे का होशियार होने का मतलब उसकी गणित और स्मार्ट होने का मतलब उसकी अंग्रेजी अच्छी होना माना जाता है। बड़े होने पर होशियारी का मतलब दुनियादारी का गणित अच्छी होना और स्मार्टनेस का मतलब अंग्रेजी का फ़र्राटेदार (गलत हो तो सोने में सुहागा) होना हो जाता है।
होते-होते आइडियों की संख्या इतनी अधिक हो गयी कि दिमाग आये दिन गठबंधन सरकार के मुखिया की तरह हलकान रहने लगा। हर आइडिया दिमाग को धमकी देता कि उस पर फ़ौरन अमल किया जाये। कोई -कोई आइडिया अनशन पर चले जाने की धमकी देने लगे। कोई चेतावनी देता कि उस पर ध्यान नहीं दिया गया तो वो दूसरे के दिमाग में चला जायेगा। एक आइडिये ने तो सूचना के अधिकार का उपयोग करके निम्न जानकारियां मांग लीं :
आइडिये
१. कृपया पिछले पांच वर्ष में जिन आइडियों पर अमल किया गया उनकी पैदाइश और अमल की तारीख सूचित करें।
२. कृपया उन आइडियों की सूची प्रदान करें जिन पर एक से अधिक बार अमल हुआ।
३.कृपया उन आइडियों की सूची प्रदान करें जिन पर एक बार भी अमल नहीं हुआ।
४. कृपया ऐसे आइडियों की सूची प्रदान करें जो अपने पर अमल न होने का सदमा बर्दास्त न कर पाने के चलते असमय मौत का शिकार हो गये।
५.कृपया ऐसे आइडियों की सूची प्रदान करें जो अमल में न आने की झल्लाहट के चलते दूसरे लोगों के दिमागों में चले गये।
कोई आइडिया अगर सारी बोलने से रह गया तो अगली बार टकराने पर तीन बार सारी बोले दे रहा है। एक बार पिछली टक्कर का, एक इस टक्कर का और अगली टक्कर का एडवांस में।
कुल मिलाकर दिमाग में आइडियों की हालत ऐसी हो गयी जैसे कि गैसों में अणुओं की ब्राउनियन गति होती होगी। हर आइडिया दूसरे से टकरा रहा है। टकराने पर सारी कह रहा है। एक्सक्यूज मी भी बोल रहा है। टेक केयर भी धांसे दे रहा है। कोई आइडिया अगर सारी बोलने से रह गया तो अगली बार टकराने पर तीन बार सारी बोले दे रहा है। एक बार पिछली टक्कर का, एक इस टक्कर का और एक अगली टक्कर का एडवांस में। किसी-किसी की तो टक्कर भी नहीं होती तब भी वो एक्सक्यूज मी बोल देता है। इस पर किसी आइडिया के बाप तो पीट देते हैं कि एक ठो सारी बेकार कर दिया। वहीं किसी आइडिया की मम्मी लहालोट होकर अपने उनसे कहती हैं -देखते हो आइडिया के बाबू जी, अपना बच्चा एक बार टकराने पर दो-बार सारी बोला। बहुत होशियार है।
आखिर में दिमाग को कुछ समझ नहीं आया तो उसने फ़ूट डालो और राज करो की नीति का अनुसरण करते हुये उन्हीं आइडियों में से एक चिरकुट से दिखने वाले आइडिये को ( जो कि मरियल सा भी था ) उन आइडियों का नेता मनोनीत कर दिया। चिरकुट आइडिये को चुनते समय दिमाग ने आइडियों के सार्वभौमिक सिद्धांत ( किसी भी आइडिये में क्रांतिकारिता की मात्रा उसके द्वारा प्रदर्शित चिरकुटई के समानुपाती होती है।) को और चिरकुटों में मरियल से आइडिये को चुनने में गांधी जी के दुविधा उन्मूलन सिद्धांत का सहारा लिया ( अगर तुमको कोई निर्णय लेने में दुविधा हो तो समाज के आखिरी व्यक्ति के बारे में सोचो कि तुम्हारे निर्णय से उसको क्या फ़ायदा होगा)।

नेता चुने जाते ही आइडिये की चिरकुटई तो और बढ़ गयी लेकिन उसकी कमजोरी उसी तरह सर पर पांव रखकर फ़ूट ली जिस तरह किसी फ़टेहाल नेता की गरीबी चुनाव जीतते ही गो-वेंट- गान हो जाती है।
नेता चुने जाते ही आइडिये की चिरकुटई तो और बढ़ गयी लेकिन उसकी कमजोरी उसी तरह सर पर पांव रखकर फ़ूट ली जिस तरह किसी फ़टेहाल नेता की गरीबी चुनाव जीतते ही गो-वेंट- गान हो जाती है। मतलब वह अधिक क्रांतिकारी और ताकतवर हो गया। ताकतवर होते ही उसने सारे चिल्ल पों मचाने वाले आइडियों की सभा बुला ली और कुर्सी पर बैठकर उनकी फ़रियाद सुनने लगा। सारे आइडिये सामने दिमाग-जमीन पर प्रजा सरीखे उकड़ूं बैठे अपने-अपने बारे में बढ़ा-चढ़ाकर बताने लगे।
एक आइडिया बहुत भन्नाया हुआ था। चेहरे-मोहरे, अकड़-धकड़ से लग रहा था कि कोई ईमानदार आइडिया था। वह शुरु से ही नेता आइडिया को हड़काने लगा कि हम पर फ़ौरल अमल किया जाये। आप हमारे सेवक हैं। अगर हम पर अमल न हुआ तो हम फ़ौरन अनशन पर बैठ जायेंगे। आमरण अनशन कर देंगे।
आइडिये
इस पर नेता आइडिया ने उसको समझाया – भाई साहब, आप पर तो अमल जब होगा तब होगा फ़िलहाल आपको हमारी सलाह है कि आप टेलीविजन पर सिर्फ़ समाचार मत देखा करें। न जाने कितने चैनलों और भी बेहूदे कार्यक्रम आते हैं। उनको भी देख लिया करें। सिर्फ़ समाचार देखने के चलते ही आप दिमाग को भी संसद समझने लगे हैं। आपको समझना चाहिये कि आपके ज्यादा हल्ला मचाने से दिमागजी को कहीं कुछ हो गया तो हम सब बेमौत मारे जायेंगे।
एक और आइडिया बहुत शराफ़त से बोला कि साहब जी, हम चाहते हैं सब तरफ़ भाई चारा फ़ैले। आपस में प्रेम बना रहे।
इस पर नेता आइडिये ने उससे दुगुनी शराफ़त और चार गुनी विनम्रता से उसको सूचित किया -भाई जान, आपका इरादा बहुत नेक है। लेकिन हम मजबूर हैं कि हमको भाईचारा और प्रेम मोहब्बत केवल भाईसाहब ब्रांड की पसंद आती है। इसलिये आप पर अमल करना संभव नहीं हो सकेगा। हां, अगर आप उचित समझें तो अपने को थोड़ा माडीफ़ाई करके अपने को अमन का पैगाम बना लें और मन करे तो थोड़ी मोहब्बत भी मिला लें। इस काकटेल आइडिये पर फ़ौरन अमल हो जायेगा। आप सोच लीजिये फ़िर बताइये।
वो आइडिया बेचारा असमंजस में पड़ गया। बोला – जरा अपने यार-दोस्तों से गुफ़्तगूं कर लूं फ़िर बताता हूं।
एक आइडिया बुजुर्गों की हालात पर चिंता करने वाला था। उसने विस्तार से बताया कि अगर उस पर अमल में लाया गया तो दुनिया के सारे बुजुर्गों के हालत सुधर जायेंगे। उनकी इत्ती सेवा होने लगेगी कि जवान लोग बूढ़े होने के लिये मचलने लगेंगे। अमल के पहले और अमल के बाद की स्लाइडें दिखाते हुये उसने बताया कि अभी दुनिया में बुजुर्गों की हालत कित्ती खराब है। जिस बुजुर्ग को देखो उसके बच्चे धोखा दे रहे हैं, उनका ख्याल नहीं रख रहे हैं। एक दम नरक बना हुआ है बुजुर्गों का हाल। आइडिये पर अमल होते ही बुजुर्ग लोगों के हालत तड़ से सुधर जायेंगे। बुजुर्गों का हालिया दुर्दशा बयान करते-करते वो आइडिया रोने तक लगा। इस पर कुछ आइडियों ने अपनी पैंटें ऊंची कर लीं और कुछ मादा आइडियों ने छतरियां तान लीं। कुछ नौजवान आइडिये रेन डांस का मन बनाने लगे।
नेता आइडिया ने उससे सवाल किया कि उसने कितने बुजुर्गों की संगत की है। जितने की भी की है क्या उनमें से कोई सुखी नहीं दिखा? किसी के बच्चे उनकी सेवा नहीं करते? कोई बुजुर्ग हंसते-खिलखिलाते नहीं दिखा उसको आजतक?
इस पर वह आइडिया बोला – देखिये साहबजी! हम बुजुर्गों को आजतक दुखी समझते आये हैं। बताते आये हैं। अब आपके कहने से हम अपनी धारणा नहीं बदलने जा रहे हैं कि दुनिया में कुछ बुजुर्ग सुखी भी रहते हैं। आपको हम पर अमल करना हो तो करिये , न करना हो तो न करिये। लेकिन आपके कहने से हम बुजुर्ग सर्वेक्षण करने न जायेंगे। इत्ते समय में तो हम दस-बीस गजलें निकाल लेंगे। यह कहकर वह आइडिया नयी गजल गुनगुनाने लगा।
इसके बाद तो न जाने कितने आइडिये उछल-उछलकर अपने पर अमल में लाने के लिये प्रस्ताव पेश करने लगे। शुरु में तो सभ्यता का चोला धारण किये रहे। फ़िर बहस करने लगे, चिल्लाने लगे। इसके बाद गाली-गलौज और हाथापाई का माहौल बन गया।
नेता आइडिया ने झल्लाकर कहा कि अरे भाई! दिमाग को संसद में मत बदलो। जरा तमीज से पेश आओ।
इस पर मादा आइडियों ने एतराज किया- आपने अपने संबोधन में सब आइडियों को भाई कहकर संबोधित किया। हम आपकी इस मर्दवादी सोच की निंदा करते हैं।
नेता आइडिया ने अपने संबोधन में अरे भाई के साथ अरी बहनों भी जोड़कर संबोधन देकर मामल रफ़ा-दफ़ा करना चाहा। लेकिन बात उलझती गयी। किसी मादा आइडिये ने कहा कि उसको लेडीज फ़र्स्ट के नियम के अनुसार पहले महिलाओं को संबोधित करना चाहिये था। वहीं कुछ का मानना था कि भाई/बहन कहकर नेता आइडिये ने बातचीत में जबरियन घरेलूपन घुसेड़ने की कोशिश की। यह आधुनिकता विरोधी कदम है। इस पर किसी ने पीछे से सुझाया -आधुनिकता विरोधी के साथ प्रतिगामी और जोड़ दे री लगेगा कि अपुन को हिन्दी भी आती है!
नेता आइडिया बेचारा मादा आइडियों को समझाने में तल्लीन च पसीने-पसीने हो ही रहा था कि कुछ दबंग टाइप मर्द आइडियों ने उसकी खिल्ली उड़ानी शुरु कर दी कि वह मादा आइडिया तुष्टी करण अभियान चला रहा है। खिल्ली उड़ाने से पहले मर्द आइडियों ने अपने काले चश्में पीछे गरदन की तरफ़ कालर पर लगा लिये ताकि उनके दबंग के साथ बदतमीज दिखने में किसी को कोई सुबहा न रहे।
अभी बेचारा नेता आइडिया मर्द आइडियों की खिल्ली से उबरा ही न था कि कुछ बोल्ड टाइप के मादा आइडियों ने उस पर कुछ मादा आइडियों की तरफ़ जरूरत से ज्यादा नर्म व्यवहार करने का आरोप लगाते हुये उसके व्यवहार को छद्म मादा आइडिया तुष्टी करण अभियान कहते हुये उसकी लेहो-लेहो करना शुरु कर दिया।
सोते-सोते भी उसने हाईकमान के चरण चांप लिये ताकि जब वह जगे तब भी हाईकमान के श्रीचरणों पर उसके मत्थे के अलावा और को मत्था न कब्जा कर ले।
इस बीच दिमाग जिस शरीर में रहता था उसने अपना रात का खाना खा लिया था। खाने के बाद दिमाग को संकेत मिलने लगे कि अब बहुत हआ जी, सो जाओ। सुबह फ़िर उसी राग-ताग से जूझना है। दिमाग ने सारे आइडियों को भी अच्छे आइडियों की तरह सो जाने के लिये कहा। नेता आइडिये ने फ़ौरन दिमाग की आज्ञा को हाईकमान का आदेश मानते हुये अपने जेब से पहले से टाइप किया हुआ इस्तीफ़ा निकालकर उसके श्रीचरणों में फ़ूल की तरह चढ़ा दिया। इसके बाद दिमाग के सामने मत्था टिकाते हुये देर तक दण्डवत किया। धक्कम-मुक्की में आगे की तरफ़ गिरने को भी हुआ लेकिन संभल गया। वह दिमाग के श्रीचरणों में ही सर धरे-धरे निद्रालीन हो गया। सोते-सोते भी उसने हाईकमान के चरण चांप लिये ताकि जब वह जगे तब भी हाईकमान के श्रीचरणों पर उसके मत्थे के अलावा और को मत्था न कब्जा कर ले।
बाकी आइडिये भी मन मारकर ऊंघने लगे। लेकिन एक कवि टाइप के आइडिये ने, जो कि हर मौके पर हास्य के नाम हास्यास्पद तुकबंदी करने में माहिर था जिसको कि उसके साथी आइडिये सामने आशु कवि और पीठ पीछे आंसू कवि कहते थे , दिमाग से बिना अनुमति मांगे ही उसको एक ताजी कविता की दो लाइनें झेला दीं:
नर्म बिस्तर , ऊंची सोचें
फ़िर उनीदापन।
दिमाग के खर्राटों को कवि टाइप के आइडिये ने दाद समझकर फ़िर-फ़िर ये लाइने दोहरायीं। यह क्रम चलता ही रहा जब तक कि वह खुद निद्रागति को प्राप्त नहीं हो गया।
यह किसी शरीर में निवास करने वाले वाले एक दिमाग में एक दिन उत्पन्न आइडियों की कथा है। आपको पता ही होगा कि धरती पर में करीब सात अरब लोग रहते हैं। इसके बाद हमारी धरती जैसी न जाने कितने ग्रह अपनी आकाशगंगा में हैं। और उसके आगे अपनी आकाशगंगा जैसे न जाने कितनी आकाशगंगायें इस
डम्पलाट दुनिया में हैं।
अब आप आइडिया लगा सकते हैं कि इस अखिल ब्रम्हांड में न जाने कितने आइडिये अपने पर अमल के इंतजार में कतार में होंगे। :)
Ads by SmartSaver+ 8Ad Options

52 responses to “अमल के इंतजार में आइडिये….”

  1. आशीष 'झालिया नरेश' विज्ञान विश्व वाले
    व्हाट इ आइडीया सर जी !
    आशीष ‘झालिया नरेश’ विज्ञान विश्व वाले की हालिया प्रविष्टी..ब्रह्माण्ड मे पृथ्वी की स्थिति
  2. arvind mishra
    आईडिये से एक आईडिया दिमाग में आया -सादा जीवन और उच्च विचार का आईडिया अच्छा है या फिर उच्च जीवन और सादे विचार का -आपका क्या आइडिया है ?
  3. Amit kumar Srivastava
    सलमान खान ,अभिषेक से :क्या ऐश्वर्या पेट से है ?
    अभिषेक : नो आइडिया, …
    सलमान : गेट आइडिया ……..
    Amit kumar Srivastava की हालिया प्रविष्टी.."रिश्तों" में भी "गुठली" होती है शायद….
  4. Amit kumar Srivastava
    अरे आप तो सीरयसली ले लिये ..
    हम तो ऐसे ही लुढका दिये थे ,एक ठू आइडिया वह भी सुना सुनाया…
    Amit kumar Srivastava की हालिया प्रविष्टी.."रिश्तों" में भी "गुठली" होती है शायद….
  5. प्रवीण पाण्डेय
    आइडियों की दुर्गति देखकर आजकल आइडिये दुबे छिपे घूम रहे हैं, पता नहीं भूत के भूत पीछे लग जायें।
  6. रचना
    सबसे पहले आप ये बताये ये इंग्लिश का idea हैं या हिंदी का आईडिया ?? उसके बाद ही कुछ विचार किया जा सकता हैं
    रचना की हालिया प्रविष्टी..ब्लॉग जगत के मेरे पाठक और मेरे आलोचक और मेरे दोस्त बस थोड़ा इंतज़ार और
  7. sanjay jha
    इसके बाद उनके बढ़ने की दर उदारीकरण के बाद के घपलों-घोटालों की गति से बढ़ने लगी.
    किसी भी आइडिये में क्रांतिकारिता की मात्रा उसके द्वारा प्रदर्शित चिरकुटई के समानुपाती होती है.
    अरे भाई! दिमाग को संसद में मत बदलो। जरा तमीज से पेश आओ.
    नर्म बिस्तर , ऊंची सोचें
    फ़िर उनीदापन।
    ‘फुल पैक – हास्य” …… “फॅमिली पैक – मौज” ……………………..
    प्रणाम.
  8. आशीष श्रीवास्तव
    क्या बात है , बहुत कुछ कवर हो गया आइडिया के नाम पर ………
    आइडियों के विभिन्न प्रकार भी समझ में आये …..नेता आइडिया ,कवि आइडिया, मादा आइडिया,नौज़वान आइडिया
    “सिर्फ़ समाचार देखने के चलते ही आप दिमाग को भी संसद समझने लगे हैं। ” और फिर
    “इत्ते समय में तो हम दस-बीस गजलें निकाल लेंगे।”
    दिमाग महाराज अनुरोध करते रह गए और आईडिया भाई लोगो ने उन्हें संसद बना दिया ,
    सॉरी और एक्सक्यूज मी का भंडार इकट्ठा हो गया संसद में …..
    वैसे पोस्ट का आईडिया बढ़िया था |
    आशीष
  9. sunil patidar
    बहुत ही खुबसूरत आइडिया है …….पढ़कर मज़ा आया लेख का प्रवाह गज़ब का है और अंत तक आते आते एक परिणाम हमें मिलता है …………..जो है सब आइडिया है सो सोचते रहे और आइडिया भेजते रहे ……..
  10. Gaurav Srivastava
    जबरदस्त पोस्ट
    सुपर हिट :-) :-)
    किस किस लाइन की तारीफ की जाय , हर एक लाइन अपने आप में कुछ कहती है .

    किसी भी आइडिये में क्रांतिकारिता की मात्रा उसके द्वारा प्रदर्शित चिरकुटई के समानुपाती होती है।
    अपने देश में किसी बच्चे का होशियार होने का मतलब उसकी गणित और स्मार्ट होने का मतलब उसकी अंग्रेजी अच्छी होना माना जाता है।
  11. शशि सिंह
    तभी कहूं वोडाफोन के आगे आइडिया की ऐसी दुर्गति क्यों है!
  12. वंदना अवस्थी दुबे
    उनको लगता कि आइडिये का अंतिम लक्ष्य क्रांतिकारी दिखना होता है। यह कुछ ऐसा ही है जैसा कि अपने देश में किसी बच्चे का होशियार होने का मतलब उसकी गणित और स्मार्ट होने का मतलब उसकी अंग्रेजी अच्छी होना माना जाता है।
    :) :) :)
    “कोई चेतावनी देता कि उस पर ध्यान नहीं दिया गया तो वो दूसरे के दिमाग में चला जायेगा।”
    एक नंबर की धमकी :) बहुत पसंद आई :)
    पाँचों प्वाइंट एकदम सही मांग कर रहे हैं. ये सूचना का अधिकार भी न…..
    आइडियों का टकराना और सॉरी बोलना…मजेदार है.
    “ताकतवर होते ही उसने सारे चिल्ल पों मचाने वाले आइडियों की सभा बुला ली और कुर्सी पर बैठकर उनकी फ़रियाद सुनने लगा। सारे आइडिये सामने दिमाग-जमीन पर प्रजा सरीखे उकड़ूं बैठे अपने-अपने बारे में बढ़ा-चढ़ाकर बताने लगे।”
    आप भी न, ऐसा चित्र खींचते हैं, कि मुझे तो सारे आइडिये उकडूं बैठे दिखाई देने लगे’ :)
    इस पर वह आइडिया बोला – देखिये साहबजी! हम बुजुर्गों को आजतक दुखी समझते आये हैं। बताते आये हैं। अब आपके कहने से हम अपनी धारणा नहीं बदलने जा रहे हैं…………………..
    आइडिये का ग़ज़ल गुनगुनाना…..:) :)
    “इस अखिल ब्रम्हांड में न जाने कितने आइडिये अपने पर अमल के इंतजार में कतार में होंगे। ”
    अखिल ब्रह्माण्ड तो ठीक है, अभी आपके ही दिमाग में पता नहीं कितने आइडिये कूद-फंड रहे होंगे, ज़रा जल्दी-जल्दी अमलाइये उन्हें :) बहुत दिनों के बाद आपकी अपनी शैली दिखाई दी….मतलब फुरसतिया शैली. बधाई.
    वंदना अवस्थी दुबे की हालिया प्रविष्टी..ठंडा मीठा बरियफ़…….
  13. सलिल वर्मा
    ऋषिवर एक संदेह इस क्षुद्र प्राणी के मस्तिष्क में भी है, कृपया संदेह का समाधान करें:
    ‘सब टीवी’ के एक सीरियल एफ.आई.आर. में चंद्रमुखी चौटाला का आइडिया मुलायम सिंह गुलगुले के दिमाग में आता है. ये किस प्रकार का “ब्राउनियन मोशन” है जो एक दिमाग से निकलकर दूसरे दिमाग में प्रवेश कर जाता है. साथ ही यह भी बताएं कि किस “टिंडल बोक्स” के माध्यम से इस प्रकार के मोशन देखे जा सकते हैं.
    सलिल वर्मा की हालिया प्रविष्टी..सेलेब्रिटी
  14. सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी
    खिल्ली उड़ाने से पहले मर्द आइडियों ने अपने काले चश्में पीछे गरदन की तरफ़ कालर पर लगा लिये ताकि उनके दबंग के साथ बदतमीज दिखने में किसी को कोई सुबहा न रहे।
    दबंग‍ई कैसी जो जबरिया दिखती न हो…? बदतमीजी भी जुड़ जाय तो सोने में सुहागा।:)
    सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी की हालिया प्रविष्टी..‘निर्वासन’ में स्त्री विमर्श – प्रेमचंद
  15. Dr.ManojMishra
    पूरी पोस्ट मस्त है.
    भाई जी वही चिरकुटिया आइडिया आज शिखर पर है,आभार.
    Dr.ManojMishra की हालिया प्रविष्टी..महामहोपाध्याय प्रो.वाचस्पति उपाध्याय :अश्रुपूरित श्रद्धांजलि .
  16. काजल कुमार
    आइडिये का चिरकुटिया होना ही अपने आप में ठसाठस आइडिया है :)
  17. dr.anurag
    मादा आइडिया ?
    क्या वर्गीकरण है जी !!
    पर आपका फोन सरकारी आइडियो को तवज्जो देता है .तभी तो “आईडिया ‘ न होकर बी एस एन एल है जी…सेफ प्ले है शुक्ल जी !
    dr.anurag की हालिया प्रविष्टी..उस जानिब से जब उतरोगे तुम !!
  18. अल्पना
    ‘आइडिये’ इतने अधिक हो गए कि उनकी अच्छी खासी दुनिया ही बस गयी..और उस का खूब जीवंत चित्रण यहाँ देखने को मिला.
    पोस्ट पढ़कर आनंद आया लेकिन आयडिया कोई नहीं आया .
  19. GGShaikh
    आइडिया का पोस्ट-मोर्टेम काफी
    घुमावदार, पेचीदा और लबालब रहा… प्रभावित करनेवाला…
  20. ePandit
    इस पोस्ट का आइडिया आपके दिमाग में से कब से अमल के इन्तजार में था?
    वैसे पोस्ट जबरदस्त है, आप ये ऍलिस इन वंडरलैंड सरीखे किस्से कैसे सोच लेते हैं?
    ePandit की हालिया प्रविष्टी..किसी वेब पेज या ब्लॉग पोस्ट में पेज जम्प कैसे लगायें
  21. सतीश पंचम
    इतने अच्छे अच्छे आइडिये आने पर कहीं आइडिया वाले आपको सम्पर्क न कर लें कि होलसेल आइडियावाले भाई साहब थोड़ा आइडियों के छींटे इधर भी पड़ने दो :)
    मस्त राप्चिक पोस्ट।
    सतीश पंचम की हालिया प्रविष्टी..रिस्से-सन…..रिस्से-सन
  22. mayank singh
    साहित्यिक सोंदर्य
    १- आईडिया का सुंदर मानवीकरण किया गया है.
    २- कठिन शब्दों का अर्थ स्पष्ट करने के लिए उचित लिंकों का समावेश है.
    भाषा – कठिन , अव्याव्हारिक , कानपुरिया खड़ी बोली , आंग्ल भाषा का विचित्र प्रयोग , उर्दू शब्दों की अधिकता
    शैली – बकवासात्मक , काव्यात्मकता की सम्भावना
  23. भारतीय नागरिक
    इसे पढ़कर तो कादर खान का बोला गया एक डायलाग याद आ गया -”आइडिये-खोपड़ी का कमाल”.
    यह कमाल का आइडिया है या फिर आइडिये का कमाल – पता नहीं. लेकिन कुल मिलाकर इसके बहाने बड़ी दूर दूर तक तीर चला दिये हैं शिरिमान जी..
  24. : …कुछ बेसिर-पैर की बातें
    [...] पिछली पोस्ट पर मयंक सिंह की बड़ी सार्थक टिप्पणी आयी है। उन्होंने लिखा है: साहित्यिक सोंदर्य १- आईडिया का सुंदर मानवीकरण किया गया है. २- कठिन शब्दों का अर्थ स्पष्ट करने के लिए उचित लिंकों का समावेश है. [...]
  25. संतोष त्रिवेदी
    ई वाला आइडिया तो 3G के बाद वाला है जी! मगर ‘मादा-आइडिया’ तो सबसे ‘नर-आइडिया’ रहा.आपसे बाबा रामदेव ये ‘मंतर’ ले लेते तो उनको अपने नारी-वेष’ वाले आइडिये का खमियाजा न भुगतना पड़ता व अन्नाजी ले लेते तो उन्हें फिर से ‘जंतर-मंतर’ की शरण में न जाना पड़ता !
    कई लोग अंतरजाल पर अपनी-अपनी ‘स्पीड’ और ‘स्पेक्ट्रम’ के मुताबिक हिस्सा हथियाए हुए हैं,कहीं उनमें से कुछ को आपने तो आइडिया देकर ‘भरम’ में नहीं रखा है ?
    वैसे काबिल-ए-तारीफ़ था ये आइडिया !
    संतोष त्रिवेदी की हालिया प्रविष्टी..जनलोकपाल,मीडिया और सरकार
  26. : …एक ब्लागर की डायरी
    [...] बताता है। हर आइडिया कहता है हम पर अमल करो। उनमें आपस में धक्का-मुक्की तक भी हो [...]
  27. चंदन कुमार मिश्र
    इसको ठीक नहीं पढ़ पाए…क्यों इस पर तुरन्त नए लेख में लिखते हैं…आइडियों का यह अमूल्य मंत्र या षडयंत्र जो भी है मीडिया ओ दे देते तो कितना अच्छा होता…अन्ना, क्रिकेट के बाद कुछ कमी नहीं है वहाँ?
    चंदन कुमार मिश्र की हालिया प्रविष्टी..इधर से गुजरा था सोचा सलाम करता चलूँ…
  28. देवांशु निगम
    व्हाट एन आइडिया सर जी!!!
    जय बोलो आइडियाज़ की !!!!
    आइडियाज़ की संसद में सभा मुल्तवी की जाती है :) खर्राटों के बम ब्लास्ट से तो सब डरते हैं !!! आइडियाज़ की क्या बिसात :) :)
    देवांशु निगम की हालिया प्रविष्टी..हाँ!!!वही देश, जहाँ गंगा बहा करती थी…
  29. फ़ुरसतिया-पुराने लेख
    [...] अमल के इंतजार में आइडिये…. [...]
  30. देवेन्द्र पाण्डेय
    आइडिया वाली इतनी बढ़िया पोस्ट पढ़ने से कैसे रह गई थी!(:
  31. बस बेतरतीब सा कुछ ऐसे ही
    [...] जाकर बैठ जाता है। अब किसी आइडिये को अमल में आने के इंतजार का धीरज नहीं है। फ़ेसबुक हर तरह का कचरा [...]
  32. जबलपुर में मौसम स्विटजरलैंड हो रहा है
    [...] लिखकर नये साल का फ़ीता काटें। लेकिन सब आइडिया लोग छुट्टी पर निकल गया लगता है। जो [...]
  33. राजेन्द्र अवस्थी
    वाह सर जी वाह…आखिर आइडिया पर लिखने का आइडिया आपके मश्तिष्क में आया कैसे?मेरा आइडिया वहाँ तक पहुँच ही नही पा रहा है, बहुत ही रसीला,चुटीला,और कंटीला लिखा है आपने…..वाह वाह वाह।
  34. अनूप शुक्ल
    किसी भी आइडिये में क्रांतिकारिता की मात्रा उसके द्वारा प्रदर्शित चिरकुटई के समानुपाती होती है।

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative