Monday, July 09, 2012

बरसात की सुबह और नाके पर बादल

http://web.archive.org/web/20140420082214/http://hindini.com/fursatiya/archives/3112

बरसात की सुबह और नाके पर बादल

सुबह जगे तो बाहर से पानी बरसने की आवाज सुनाई दी। आंख मूंदे हुये ही उठे। सोचा बरामदे में चलकर बादल- मुआयना किया जाये। सोच के साथ अलसाई आवाज में ’चाय ले आओ भाई’ कहने का खुफ़िया प्लान भी नत्थी था। दरवाजे तक पहुंचने के पहले ही जो हुआ उससे मुझे बत्तीस साल पहले की अपनी कक्षा ग्यारह की अंग्रेजी कक्षा की याद आ गयी।

बत्तीस साल पहले की अंग्रेजी कक्षा में हुआ यह कि गुरुजी ’वर्षा का एक दिन’ पर अंग्रेजी में निबन्ध लिखवा रहे थे। हम हाई स्कूल में पोस्टमैन, भारतीय किसान, गाय आदि के निबन्ध रट के आये लोग क्लास में तुरंत कैसे लिख डालते लेख ’वर्षा का एक दिन’ पर। इसके बाद गुरुजी ने लिखवाना शुरु किया। पहली बार पता चला कि मूसलाधार बारिश के लिये ’कैट्स एंड डाग’ कहा जाता है। फ़िर एक जगह बारिश के चलते कीचड़ में फ़िसलकर गिरने का किस्सा था। हमें लगा कि शायद ’स्लिप्ड एंड फ़ेल डाउन’ जैसा कुछ लिखायेंगे लेकिन गुरुजी ने फ़िर हमें चौंकाया और कहा लिखो-’फ़ेल डाउन विद अ थड’। हमको उस समय भी लगा कि ’भड़ से गिरा’ की जगह जबरियन गुरुजी ने अंग्रेजी लिखायी है। लेकिन हम कुछ कह नहीं सकते थे काहे से कि सवाल वहां अंग्रेजी में नहीं करते तो क्लास-हंसाई होती और जित्ती देर में सवाल की अंग्रेजी होती उत्ती देर में उत्सुकता, आत्मविश्वास और पीरियड तीनों निपट जाते।

अब आपको अंग्रेजी कक्षा की अंग्रेजी याद आने का कारण पता चल ही गया होगा। मतलब जैसे ही दरवज्जे के पास पहुंचे वैसे ही बरामदे से अनधिकृत रूप अंदर आये पानी पर पैर पड़ा। पानी पर पैर पड़ते ही हाईस्कूल में पढ़े घर्षण के सिद्धांत के अधीन हमारे और जमीन के बीच के घर्षण कम हो गया और हम भड़ से जमीन से जुड़ गये। जमीन से जुड़ते ही पहले तो हड्डियों की चिंता की। वे सलामत थीं। फ़िर पसली देखी। वह भी ठीक थी। लेकिन पीठ में भयंकर खिंचाव महसूस हुआ। बहुत देर बिस्तर पर लेटे रहे। लेकिन दर्द बोला हम आपको अकेले छोड़कर न जायेंगे। एकाध दिन साथ देंगे। हमने भी मान ली उसकी बात। सोचा कन्हैयालाल बाजपेयी गलत नहीं कहते थे:
संबध सभी ने तोड़ लिये,
चिंता ने कभी नहीं तोड़े,
सब हाथ जोड़ कर चले गये,
पीड़ा ने हाथ नहीं जोड़े।
तो उसी दर्द को साथ लिये-लिये धीमें-धीमें कांखते हुये बाहर बारिश का मुआयना किया। देखा बादल झमाझम बरस रहे थे। पानी सड़क पर गिर रहा था। बूंदे सड़क पर टकराने के बाद थोड़ा उचक फ़िर गिर रही थीं। लगा कि शायद धरती बादल से कह रही हो कि हमें नहीं चाहिये तुम्हारा पानी ले जाओ यहां से। लेकिन बादल फ़िर धरती के आंचल में पानी डाल देता हो। धरती पहले उसको सड़क पर फ़िर सरकाकर किनारे नालियों में सहेज लेती हो।

सुबह तक तो पानी बरसते हुये कई घंटे हो गये थे। क्या पता जब बादल ने सबसे पहली खेप पानी की गिरायी हो तो धरती ने जमकर अपना गुस्सा जाहिर किया हो बादल के देरी से आने से। उसके गुस्से से पानी की शुरुआती बूंदे धरती के तवे पर छन्न सी गिरकर वापस हुईं हों। धीरे-धीरे धरती का गुस्सा शान्त हो गया हो और वह बादल अपना पूरा पानी उड़ेलने लगा हो।

क्या पता धरती ने जब बादल को देरी के लिये कसकर हड़काया हो तो बेचारा सिटपिटाया सा बोला हो कि क्या करें हम तो कब के पानी लिये खड़े थे लेकिन आने के लिये कोई ट्रेन ही न मिली। सब फ़ुल थीं। तत्काल तक में रिजर्वेशन न मिला। आज भी किसी तरह ले-देकर आ पाये हैं। सब जगह दलालों का कब्जा है।

हो तो यह भी सकता है कि धरती ने किसी बदली का नाम लेकर ताना भी मारा हो कि जल्दी कैसे आते उससे बतियाने से फ़ुर्सत मिले तब न! इस पर शायद बादल ने किसी मल्टीनेशनल कम्पनी के मुलाजिमों की तरह मिमियाते हुये मल्टीनेशनल कम्पनियों वाले बहाने बताये हों- तुम तो हमेशा शक करती हो। वहां इत्ते बादल और बदलियां काम करती हैं। सबके प्रोफ़ेशनल रिश्ते हैं। इसके अलावा सब तुम्हारे दिमाग की उपज है। इस पर शायद धरती ने कुछ और कड़क कहा हो जिसको अनदेखा करके बादल पानी बरसाकर धरती को ठंडा करने में जुट गया हो।

वैसे हो यह भी सकता है कि बादल ने कहा हो कि मैं शहर के नाके पर तो समय पर पहुंच गया था लेकिन नाके पर सिपाही ने रोक लिया। बोला अभी ’नो इंट्री’ है। इस पर बादल ने कहा होगा कि काहे की नो इंट्री भाई हमारी फ़र्म के सब बादलों की मंथली रकम आर.टी.ओ. के यहां जमा करा दी गयी है। इस पर नाके के सिपाही ने रकम जमा कराने के बाद बताया जाने वाला ’कोड वर्ड’ पूछा होगा जो धरती की याद में डूबे बादल को बिसरा गया होगा। इस पर उसे नाके पर ही रोक लिया गया हो। हफ़्ते पर बाद किसी तरह से उसका संपर्क अपनी कंपनी के हेडक्वार्टर से हुआ होगा इसके बाद कोड बताकर वह आगे निकल पाया होगा।

धरती की तरह पानी जब नदी में सीधे वर्षा होगा तो शायद नदी ने बारिश की बूंदों को कसकर डांटा हो। कहां आवारगी करके आयी हो। भेजा था साफ़-सुथरा, पवित्र। आई हो तो कहां-कहां की गंदगी लपेटे, मटमैली। बूंदे सहम कर नदी की गोद में सिमटकर गयी हों शायद- मम्मी बहुत गंदगी है बाहर! नदी ने फ़िर प्यार से अपने आंचल में समेट लिया होगा शायद।

इस समय बाहर झींगुर कीर्तन कर रहे हैं, दादुर टर्रा रहे हैं। कुछ लय-ताल में लग रहा है मामला। क्या पता कि वे कोई कविता सुना रहे हों आपस में एक दूसरे को। वाह-वाह, वल्लाह-सुभानल्लाह कर रहे हों। कविता की बात सोचते ही याद आया कि कविता के लिये तो दर्द चाहिये होता है, पीड़ा का इंतजाम होना चाहिये। ये बारिश के मौसम में झींगुरों, कीड़े-मकोंड़ों के पास दर्द कहां से आया। पहले तो मन किया कि निकल कर पूछें लेकिन फ़िर निकला नहीं कमरे से। यह भी डर था कि कहीं कोई झींगुर बयान न जारी कर दे:

हम तो आपके दर्द को अपना स्वर दे रहे हैं।

यह सोचते ही हमारा दर्द बढ़ गया। हमें लगा कि दुनिया बड़ी जालिम है। दर्द तक लूट के ले जाती है।
इससे अच्छा तो अपना दर्द फ़ेसबुक अकाउंट में जमा करा दिया होते। अब तक दूना रिटर्न मिल जाता। :)

लेकिन अब पछताये होत क्या जब दर्द गया है फ़ूट! :)

मेरी पसंद

बिन बरसे मत जाना रे बादल!
बिन बरसे मत जाना।

मेरा सावन रूठ गया है
मुझको उसे मनाना रे बादल!
बिन बरसे मत जाना!

झुकी बदरिया आसमान पर
मन मेरा सूना।

सूखा सावन सूखा भादों
दुख होता दूना
दुख का
तिनका-तिनका लेकर
मन को खूब सजाना रे बादल!

बिन बरसे मत जाना!
एक अपरिचय के आँगन में
तुलसी दल बोये
फँसे कुशंकाओं के जंगल में
चुपचुप रोए
चुप-चुप रोना भर असली है
बाकी सिर्फ़ बहाना रे बादल!
बिन बरसे मत जाना।

पिसे काँच पर धरी ज़िंदगी
कात रही सपने!

मुठ्ठी की-सी रेत
खिसकते चले गए अपने!

भ्रम के इंद्रधनुष रंग बाँटें
उन पर क्या इतराना रे बादल!

बिन बरसे मत जाना!
मेरा सावन रूठ गया है
मुझको उसे मनाना रे बादल!

बिन बरसे मत जाना!
कन्हैयालाल नंदन

26 responses to “बरसात की सुबह और नाके पर बादल”

  1. काजल कुमार
    दि‍ल्‍ली में तो पहले दि‍न ही जम के बरस गया बादल, तब से इंतज़ार कर रहा है कि‍ पहले का ही चारों ओर लबालब भरा पानी सैट हो ले तो फि‍र बरसे :)
  2. संतोष त्रिवेदी
    अब यही बाकी रह गया है कि बादल भी ‘कोडवर्ड’ लेकर एंट्री करेंगे…!
    धरती,बादल,नदी,बूँद ,हड्डी-पसली,झींगुर,मेढक कुल मिलाकर बारिश में पूरा महाभारत का इंतजाम कर दिया है,बड़े दिनों बाद सो के उठे हो !
    बाजपेईजी और नंदन जी दोनों की कविता अच्छी लगी !
    …अबकी बार बारिश में बाहर निकलना तो पूरे शरीर पर लोहे का हेलमेट ओढ़ लेना,पसली चटकने का डर नहीं रहेगा !
    संतोष त्रिवेदी की हालिया प्रविष्टी..प्रणय-गीत
  3. संतोष त्रिवेदी
    ..लगता है हमारा कमेन्ट भी किसी ‘कोडवर्ड’ के बिना एंट्री नहीं पाया !
    अभी इत्ता बड़ा लिखा था,गायब हो गया न जाने कहाँ ?
    संतोष त्रिवेदी की हालिया प्रविष्टी..प्रणय-गीत
  4. हरभजन सिंह बडबोले
    ऐसे आँखें मूंदे-मूंदे न चला कीजिये सुकुल जी :( हड्डी-वड्डी चली जाती तो हम सब का कित्ता नुक्सान होता??
  5. प्रवीण पाण्डेय
    बादलों को पानी का लिया उधार देर से लौटाने का कारण तो बताना ही पड़ेगा, बहाना चलेगा नहीं, देर बहुत की है।
    प्रवीण पाण्डेय की हालिया प्रविष्टी..त्याग भोग के बीच कहीं पर
  6. सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी
    काहें खामखा डरा रहे हैं। आजकल गिरने पड़ने का खतरा बढ़ता ही जा रहा है।
    ऊपरी माले पर रहने का एक फायदा है कि कीचड़ सने पैर घर तक आते-आते कुछ साफ हो जाते हैं।
    गनीमत है कि भड़ से गिरने का कार्यक्रम कानपुर में बना जहाँ जमीन से ऊपर उठाने के लिए दो हाथ मिल गये होंगे। कहीं यह भौतिकी जबलपुर में घटित हुई होती तो न्यूटन के दूसरे नियम के अनुसार जहाँ जुड़े थे वहीं जुड़े रह जाते जबतक कि अपने हाथ पैर खुद‍ई न चलाते।
    मजा आ गया वर्षा का एक दिन देखकर।
    सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी की हालिया प्रविष्टी..मत तोल! बस बोल बच्चन…
  7. संजय अनेजा
    और पंगे लेयो आप, और खुरपेचियाँ करो, हो गया न ’फ़ेल डाउन विद अ थड’?
    करनी भरनी यहीं है जी :)
    आह से उपजा होगा गान से आगे बढ़कर ‘आह से उपजा व्यंग्य’ यानी आह से अहा तक ..
    संजय अनेजा की हालिया प्रविष्टी..सड़क पार
  8. sanjay jha
    नो एंट्री का कोड वर्ड भी दे देना था न????
    प्रणाम.
  9. मनोज कुमार
    @ भेजा था साफ़-सुथरा, पवित्र। आई हो तो कहां-कहां की गंदगी लपेटे, मटमैली। बूंदे सहम कर नदी की गोद में सिमटकर गयी हों शायद- मम्मी बहुत गंदगी है बाहर!
    कितना विशाल हृदय है नदी का। हर गंदी, मटमैली, मैली-कुचैली को अपने दामन में सहेज कर न सिर्फ़ रखती है बल्कि उसकी गंदगी भी दूर कर देती है।
    इस को पढ़कर लगा – अनूप शुक्ल इज़ बैक!!
    आलेख के व्यंग्य के पीछे का दर्शन खुल कर नीचे दिए नंदन जी की कविता में स्पष्ट होता है –
    एक अपरिचय के आँगन में
    तुलसी दल बोये
    फँसे कुशंकाओं के जंगल में
    चुपचुप रोए
    चुप-चुप रोना भर असली है
    बाकी सिर्फ़ बहाना रे बादल!
    मनोज कुमार की हालिया प्रविष्टी..ज़ुलू-विद्रोह घायलों की सेवा
  10. shikha varshney
    “नदी ने बारिश की बूंदों को कसकर डांटा हो। कहां आवारगी करके आयी हो। भेजा था साफ़-सुथरा, पवित्र। आई हो तो कहां-कहां की गंदगी लपेटे, मटमैली। बूंदे सहम कर नदी की गोद में सिमटकर गयी हों शायद- मम्मी बहुत गंदगी है बाहर! नदी ने फ़िर प्यार से अपने आंचल में समेट लिया होगा शायद।”
    कहाँ से आते हैं आपको ऐसे जबरदस्त ख़याल..
  11. anitakumar
    भड़ से गिरे और दर्द सने सारी अंग्रेजी याद करा दी…सावन का सुहाना मौसम मुबारक हो…सोचा ये आंगन में सूखते कपड़ों को जरा तस्वीर बड़ा कर देखा जाये पर तस्वीर पर किल्क करते ही आंगन दूसरी तस्वीर में बदल जाता है। सब बादलों की माया है।
  12. ashish kanpuria
    अरे शुकर मानिए की सब कुछ सही सलामत है . नहीं तो चित्रकूट एक्सप्रेस में तत्काल बुकिंग करनी पड़ती .वो भी दलाल के माध्यम से . मस्त टाइप लिखे है जी . एज यूजुवल ..तब का …
  13. धीरेन्द्र पाण्डेय
    ये बताएं कि चाय मिली या नही | या हल्दी वाला दूध |
  14. देवेन्द्र पाण्डेय
    मस्त पोस्ट। अंग्रेजी के मामले में अपनी भी यही हाल था/है।
  15. Abhishek
    घर्षण और भड से गिरना… बेहतरीन. :)
    Abhishek की हालिया प्रविष्टी..हनी जैसी स्वीट, मिर्ची जैसी हॉट (पटना १४)
  16. आशीष श्रीवास्तव
    “भड़ से जमीन से जुड़ गये।”
    जमीन से जुड़े रहना अच्छी बात है! जमीन से जुड़ा लेखक और जमीन से जुड़ा लेख!
    आशीष श्रीवास्तव की हालिया प्रविष्टी..हिग्स बोसान मिल ही गया !
  17. देवांशु निगम "चाय वाले"
    यहाँ तो एकै दिन बारिश हुई तबसे आगे के दरवाजे से बादल आ रहे हैं, उपस्थित लगा रहे हैं और बिना लेक्चर ख़तम किये पीछे के दरवाजे से कट ले रहे हैं वैसे जैसे हम लोग बारहवीं कक्षा में करते थे अंग्रेजी के लेक्चर में…
    एक कालजाई कविता लिखी जा सकती है…(आदत से मजबूर)
    कारे बदरा आय गए , सबके मन को भाय गए !!!!
    झींगुर बोले मस्ती में, मेढक भी टर्राय गए |
    बिजली कड़की, पानी बरसा, और छा गया अँधेरा,
    पकोड़े छान कर चाय के संग , हम सब कुछ गटकाय गए !!!! (ज़हर है भाई ज़हर है)
    अच्छा अगर बारिश मूसलाधार न हो तो क्या उसे बोलेंगे… It’s raing “ants and mice” ??? बोले तो चींटी चूहों की बारिश :) :) :)
    देवांशु निगम “चाय वाले” की हालिया प्रविष्टी..मेलोंकॉली
  18. डियर बादल! तुम आये इतै न कितै दिन खोये
    [...] देश में बादल झलक दिखला के फ़ूट लिये हैं। सब लोग उसका इंतजार कर [...]
  19. फ़ुरसतिया-पुराने लेख
    [...] बरसात की सुबह और नाके पर बादल [...]
  20. देवांशु निगम
    पोस्ट की रिठेल हुई है, कमेन्ट की भी रिठेल की जा सकती है क्या ?
    देवांशु निगम की हालिया प्रविष्टी..तुमि तो ठेहेरे परदेसी , साथि क्या निभावोगे…
  21. Ajit gupta
    धोनी इसिलए ही खेल पाएगा आज।
  22. shefali
    रीठेल भी हुई है तो भी आनंद आया …..
  23. you could try this out
    It seems like there is blogging and websites devoted to most physical activities, these kind of tv, your favourite music, day-to-day lives of models, and many more.. . However very is unable to purchase online pages and information sites specialized in going through, regretably an afterthought concerning pastimes.. . Individuals know some very widespread and magnificent versions? Original and the latest literature are both popular with me, since I view at the same time.. . Thanks a bunch much! =o).
  24. eco friendly disposable cutlery
    All you need to have to know about News data to you.
  25. home
    I’m searching for some very good market blogging to include in my search engines viewer which happens to be rewarding keeping with with an recurring schedule. Is it possible to make and ideas? We have Seth Godin’s pretty much. Many thanks! . . It could even be good as soon as you advised me why you loved these information sites..
  26. helpful site
    Mine almost always rests at the end of your report and does not catalog as i put up want it does for some, even though on my friend’s web logs they may have added in me in their blogging site rolls. Could this be a atmosphere that I have to replace or possibly is this a choice they have constructed? .

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative