Tuesday, October 09, 2007

चीयरबालायें क्रिकेट में

http://web.archive.org/web/20140419215532/http://hindini.com/fursatiya/archives/350

चीयरबालायें क्रिकेट में


कल भारत ने आस्ट्रेलिया को हरा दिया।
लेकिन आलोक पुराणिक का मानना है कि बिना चीयरलीडरानियों के गाड़ी बहुत दिन तक खिंचेगी नहीं।
अगर लगातार जीतना है तो चीयरलीडरानियों की सेवा सेवा लेनी ही पड़ेगी।
अब ये कह रहे हैं तो मानना ही पड़ेगा और आज नहीं तो कल मैच के लिये चीयरलीडरानियां अपरिहार्य हो जायेंगी।
उनका रूप कैसा होगा हमें पता नहीं लेकिन हमें कल्पना के घोड़े दौडाने से कौन रोक सकता है।
किसी क्रिकेट मैच के पहले टीम की घोषणा होगी तो आलोक पुराणिक की पार्टी के लोग कहेंगे- हमें खिलाड़ी में इंटरेस्ट नहीं है। चाहे पोवार को लो या हरभजन को।हमें ये बताओ कि चीयर कौन करेगा? कायदे का चीयर न हुआ तो समझ लो गया मैच हाथ से।
क्रिकेट की कमेंट्री के साथ-साथ चीयरलीडरानियों की भी कमेंट्री होने लगे शायद। कमेंट्रटर चीयरिंग अप का आंखो देखा हाल सुनाते हुये बोले-
—-अब मैच शुरू होने वाला है। गेंदबाज रन अप पर। बल्लेबाज क्रीज पर। चीयरलीडरानियां तैयार। चीयरलीडरानियों के वर्णन के लिये रीतिकाल विशेषज्ञ आने ही वाले हैं। तब तक हम शुरू होते हैं।
—- चीयर बाला ने तीन ठुमके बायीं तरफ़ की पब्लिक की तरफ़ लगाये। जनता चौथे ठुमके की आशा में थी लेकिन उसने चौथा बार रिवर्स ठुमका लगा दिया है और ये दायीं तरफ़ की जनता के कलेजे के पार।
—- ये बहुत सीनियर चीयरबाला हैं। सालों तक क्रिकेट की सेवा की है। कई बार इनके उत्साही ठुमकों कारण क्रिकेट की टीम बची है। कभी-कभी लोग कहने लगते हैं कि इनको जो करना था कर चुकीं लेकिन अभी भी इनके अन्दर दो तीन साल के ठुमके बचे हुये हैं। जब जरूरत नहीं होती तब वे अपना शानदार ‘चीयर’ निकाल के सामने दिखा देती हैं।
—-युवराज सिंह बल्लेबाजी ठीक से कर नहीं पा रहे हैं। उन्होंने चीयरलीडरानियों के कप्तान को इशारा को किया है। चीयरबालाओं का स्थान परिवर्तन हो रहा है। वही कम्बीनेशन जमा दिया गया है जिसको देखते हुये पिछ्ले मैच में उन्होंने धुआंधार बल्लेबाजी की थी। और ये छ्क्का।
—-पहला पावर प्ले शुरू होने वाला है। युवा चीयरबालाऒं को स्टैंड के सामने से हटाकार ठीक बैटसमैन के सामने लगा दिया गया है। बल्लेबाज को बहुत सावधान होकर खेलना होगा। जरा सी चूक होते ही वे विकेट के नजदीक से हटकर चीयरबाला के नजदीक से होते हुये पवेलियन तक् तक जा सकते हैं।
—-चीयरबालाओं के चेहरे पर आत्मविश्वास। पिछला मैच उन्होंने जो कि भारत की टीम लगभग हार चुकी थी केवल अपनी चीयरिंग से जितवा दिया था। उनको देखकर खिलाडियों की सांसे सेन्सेक्स की तरह ऊपर-नीचे हो रही हैं।
—- ये एकदम साफ़ मामला था। अम्पायर एकदम पास में खड़े थे।लेकिन चूंकि उनका ध्यान चीयरग्रुप की तरफ़ था इसलिये वे खेल को देख नहीं पाये। उन्होंने तीसरे अम्पायर की सेवा लेने का फ़ैसला लिया है। लेकिन अफ़सोस कि वहां से भी कुछ पता नहीं चला पाया क्योंकि सभी कैमरे भी चीयरग्रुप के ऊपर लगे हुये थे। आखिर में दोनों कप्तानों की सहमति से खिलाड़ी के आउट/नाटआउट होने का निर्णय टास उछाल कर किया जा रहा है।
आउट होने पर खिलाड़ी उछलता हुआ बाहर चला जायेगा। आने वाले खिलाड़ी का मुंह लटका होगा। उसकी चीयर-चेन जो टूट गयी है।
चीयरबालाओं की तर्ज पर महिला खिलाडियों के मैच में चीयरबालकों की मांग होगी। कुछ दिन में मिक्स चीयरग्रुप होंगे।
तब मजे रहेंगे। बारिश के कारण मैच रद्द हो जायेगा लेकिन चीयरग्रुप का कार्यक्रम चालू रहेगा। लोग मैच के पहले हवन वगैरह करेंगे- हे भगवान आज पानी बरसा दो। टिकट का पूरा मजा लेने दो। खेल तो देखते ही रहते हैं। आज जी भर के चीयरिंग हो लेन दो।
खिलाड़ी भी कामना करेंगे- काश पानी बरस जाये तो पवेलियन में टांग पसार के चीयरफ़ुल हो जायें।
खिलाड़ियों के काम्बिनेशन से ज्यादा चीयरग्रुप का काम्बिनेशन मायने रखेगा। उनके चयन में सिर फ़ुटौव्वल होगी। बचे हुये कपड़े तक फ़ाड़े जायेंगे।
खिलाड़ी जैसे आजकल अपना बल्ला बदलते हैं, ग्लाब्स बदलते हैं वैसे ही कल को कहेंगे- फ़लानी वाली चीयरबाला को इधर लगाओ, इनको उधर करो। साइड स्कीन की तरह वे उनको इधर से उधर खिसकवाते रहेंगे।
होने को हो तो यह भी सकता है कि कल को चीयरबालायें और चीयरबालको का ही जलवा हो सकता है। यह जलवा इतना तक हो सकता है कि वे कहें – इन खिलाडियों को रखो, इनको बाहर करो तभी हम चीयर करेंगे। अगर ये कम्बीनेशन रखेंगे तभी हमारा चीयरइफ़ेक्ट काम करेगा।
पता लगा कि अच्छा खासा रन बनाता खिलाड़ी अपना मुंह बनाता हुआ मैच से बाहर। कोई हल्ला नहीं कोई टेंशन नहीं। मैच चीयर हो रहा है आराम से। कोई पूंछेगा भी नहीं कि पिछले मैच का हीरो कहां चला गया।
आपको शायद यह मजाक लग रहा होगा कि खिलाड़ी से ज्यादा उनका हौसला बढ़ाने वाले की औकात कैसे हो जायेगी। क्रिकेट है तो चीयरबालायें /चीयरबालक हैं। क्रिकेट ही नहीं होगा तो बालायें क्या करेंगी?
मजाक तो हम कर ही रहे हैं। लेकिन लगता है कि यह हो भी सकता है। जब क्रिकेट में जीत हार को देश की जीत-हार मान लिया जाये। क्रिकेट में जीत गये तो मानो दुनिया जीत गये। सारा देश क्रिकेट के पीछे पगलाया घूमता है। इसके ग्लैमर के नशे में टुन्न । तो यह भी काहे नहीं हो सकता है। आखिर यह भी तो ग्लैमर है। ये चीज बड़ी है मस्त-मस्त।

13 responses to “चीयरबालायें क्रिकेट में”

  1. संजय बेंगाणी
    कमाल है, और हमने चीयरानियों को कभी ‘सिरयशली’ लिया ही नहीं.
  2. alok puranik
    भईया भौत भढ़िया,
    अब तक हमारी गलतफहमी थी कि हमारी बातों से हमारे स्टूडेंट लोग ही बिगड़ते है। वा बेट्टा आलोक पुराणिक तेरी बातों से तो बड़े-बड़े बिगड़ रैले हैं। भईया हमरा लिखना तो सार्थक हो गया जी।
    क्या बात है, सारा डिस्कशन सिर्फ चीयरलीडरानियों पर हो लिया, और इससे धांसू किरकिट क्या होगाजी।
  3. आलोक
    यह तो भारत की प्राचीन परंपरा है। महाभारत युद्ध के पहले भी चीर हरण हुआ था।
  4. Sanjeet Tripathi
    हा हा!! गज़ब है आप तो पुराणिक जी से भी आगे निकले जा रहे हो!!
  5. arvind chaturvedi
    बहुत खूब. आप तो अच्छा किरकिटिया लिये. पूरा ‘चीयरहरण’ कर दिया .लेख पूरी तरह चीयर् कुट पने से टपकाय्मान हो रिया है
  6. बोधिसत्व
    हम तो सिर्फ तमाशाई हैं भाई …..वाह और आह के अलावा क्या कर सकते हैं….
  7. प्रतीक पाण्डे
    बढ़िया… हो सकता है नहीं, ऐसा ही होगा भविष्य में। आप तो भविष्यदृष्टा टाइप इंसान जान पड़ते हैं। जन्म-कुण्डली वगैरह भी देखते हैं क्या?
  8. समीर लाल
    सही है. ऐसा ही किरकिट होना चाहिये.खेल में तो अब देखने जैसा कुछ बचा नहीं. यही सही.
    तीन-चार दिन बाहर था. अब आपकी इस बीच आई पोस्ट भी जल्द ही देखते हैं. :)
  9. ज्ञान दत्त पाण्डेय
    तो आप भी गये पुराणिक जी की ***टोली में। :-)
    सीरियस ब्लॉगर तो बचेंगे ही नहीं!
  10. उन्मुक्त
    :-)
  11. ज्योति
    कहीं ऎसा तो नहीं कि इन्हीं “चीयरलीडरानियों” को देख कर धोनी के धुरंधरों, खास कर युवराज को जोश आया था:) और अब “चीयरलीडरानियों” के विरह में खेला नहीं जा रहा….
  12. फ़टाफ़ट क्रिकेट और चीयरबालायें
    [...] प्रमुखता हासिल कर लें। दो साल पहले लिखा यह लेख इसी बहाने दुबारा ठेला जा रहा [...]
  13. : फ़ुरसतिया-पुराने लेखhttp//hindini.com/fursatiya/archives/176
    [...] चीयरबालायें क्रिकेट में [...]

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative