Wednesday, September 05, 2012

इस्कूल पढ़न गये मुन्नाभाई

इस्कूल पढ़न गये मुन्नाभाई। उसका हाल लिखौं का भाई॥
दिन भर खेलैं गुल्ली डंडा । नित-नित पावैं जीरो अंडा ॥

होमवर्क नहि कबहूं करहीं। जब देखो तब करत बतकही॥
फ़िरि इम्तहान के दिन आये। मुन्ना-सर्किट के होश उड़ाये॥

अपन हाल डैडिहिं बतलावा। डैडी ने गुरुको काल कराया॥
सी द केस मोरे बेटवा केरा। करहु नीडफ़ुल फ़ौरन सेरा॥


नहिं विलंबु केहु कारण कीजै। करके फ़ौरन निज सेलरी लीजै॥
जौ रिजल्ट कुछ होय खराबा। सेलरी फ़िरि न मिलिहै बाबा॥


सुनि प्राब्लम चेलाराज की , गुरुवर भये फ़ौरन ही हलकान।
दूध मंगाया पाव भर, पिया बिद चम्मच भर कम्प्लान॥

कम्प्लान बाद कान्फ़िडेंस आवा। उसके साथ आइडिया आवा॥
दोनों से फ़िर गुरुजी बतियाये । कैसे लौंडे को पास करावैं॥

चर्चा करत करत दिन बीता। लंच डिनर का लगा पलीता॥
सब शार्टकट गुरुवर सोचा । सबमें मिला कछु न कछु लोचा॥

सोचा मोबाइल एक दिलवावैं। इम्तहान में नकल करवावैं॥
कीन्हा डेमो औ मिली निराशा। न मिला कनेक्शन न कोई आशा।

चिट जौ उनका कौनौ दिलवैहैं। लिखि-लिखि कविता पुनि-पुनि गैंहैं।
गुरुजी चर्चा दिन करके हारे। थक हारि के चिंतन कक्ष पधारे॥

-कट्टा कानपुरी

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative