Thursday, February 19, 2009

बेटी को वाणी से संवार दे ओ वीणापाणि

http://web.archive.org/web/20140419212817/http://hindini.com/fursatiya/archives/589
rowse: Home / पुरालेख / बेटी को वाणी से संवार दे ओ वीणापाणि

37 responses to “बेटी को वाणी से संवार दे ओ वीणापाणि”

  1. anil pusadkar
    आपको बहुत-बहुत बधाई और भतीजी को आपसे बहुत ज्यादा शुभकामनाएँ।ईश्वर उसे सदा सुखी रखे,उसकी हर मनोकामना पूरी करे।
  2. विनय
    वाह जी, आपसे तो काफ़ी शिक्षाएँ मिल रही हैं। अच्छा तो आप लिखते हैं इस बात को लिखने से कोई फ़र्क़ पड़ता है क्या?

    गुलाबी कोंपलें
    चाँद, बादल और शाम
  3. Tarun
    आपको और सुधा को मंगलकामनायें हैं लेकिन ये फर्जीपना २४ नंबर से कैसे शुरू पहले के २३ आप हड़प गये क्या
  4. दिनेशराय द्विवेदी
    जै हो! यानी हर हाल में ब्लागिंग जारी रहे!
  5. बवाल
    हा हा फ़ुरसतिया साहब, आप जब तक जबरिया लेने की सोचेंगे, हम अपनी प्यारी बिटिया सुधा को अपनी शुभ-मंगलकामनाएँ प्रेषित भी कर चुके होंगे। और वो जबरिया नहीं होंगी। हा हा ।
    बहुत बहुत आशीर्वाद सुधा बिटिया को उसके सुन्दर और सुखद वैवाहिक जीवन के लिए।
  6. seema gupta
    आपकी छोटी भतीजी सुधा जी के विवाह पर आपको बधाई और सुधा जी को सुखमय जीवन की शुभकामनाये और ढेर सारा आशीर्वाद….”
    regards
  7. roushan
    ब्लोगिंग में एक बार जो कूद गया वो ब्लोगिंग से दूर नही जा सकता चाहे कितनी भी कोशिश कर ले
    मंगलकामनाएं आप ले ही चुके हैं हम स्वीकृति दे देते हैं ढेर सारी बधाइयाँ
  8. डा. अमर कुमार

    भाई जी, लाख टके की पोस्ट है..
    मेरी दुखती कमर पर जैसे आयोडेक्स !
    मैं तो कई बार जुतियाये जाने की कगार तक पहुँच कर लौट आया ।
    पर बेइज़्ज़ती ख़राब होने को परिभाषित न कर पा रहा ।
    जहाँ हर कृत्य आभासी हो, गाली ससुरी कैसे वास्तविक लगने लगती है ?
    नारद तक तो चलेगा.. पर् मँथरा नहीं..
    वह् एकता कपूर् की है ।
    मैं स्वयं ही ” यावत् जीवेत् हँसत् जीवेत् – पादुका खावत् मौज़म् लीवेत् ” के टैग का अनुगामी हूँ :)
  9. Dr.anurag
    जब तक बोतलों के ढक्कन सलामत हैं!
    जाओ नहीं पढ़ते क्या कल्लोगे?
    ऐसा लगा एक लाइना का पैकेज एक साथ बाजार में डाल दिया है ..ओर ऐसा डाला है की हिट हो गया है .सुबह सुबह आपने डोज दे दी है….जब भी जूही चावला का कुरकुरे वाला एड देखता हूँ “पिंटू थोड़ा टेडा लागे है “…कसम से सोचता हूँ..की कही आपने तो नही लिखा ?या किसी कानपुर वाले ने ….जे हो शुक्ल जी की…….
  10. डा. अमर कुमार

    अउर बधावा तो रहिये गया था ।
    वहू लेयो.. अउर हमार बायना भेजना न भेजना ।
    पर, निश्चित तिथि की सूचना जरा फोनिया देना,
    पहुँचता हूँ, बिना स्पर्श किये आभासी आशीर्वाद तो मैं नहिंये देता हूँ ।
  11. कविता वाचक्नवी
    प्रिय सुधा को नव दाम्पत्य की इस मंगल परिणय वेला में अनन्त शुभाकांक्षाएँ। उसका वैवाहिक जीवन सुख ,परितोष, समृद्धि और सौभाग्य से भरा रहे। समस्त प्रकार से मंगलमय जीवन हो।
    दम्पति को स्नेहाशीष व आप परिवारीजनों को हार्दिक बधाई!
  12. कुश
    हमार शुभकामनाए तो है ही जी… किंतु आप कमाल है.. लोग वहाँ आपको ढूँढ ढूँढ कर हलकान हुए जा रहे है.. और आप यहाँ बैठे बिलागिंग कर रहे है.. जल्दी जाइए सब चिल्ला रहे है.. चाचा जी को बुलाओ..
  13. Gyandutt Pandey
    जीतेन्द्र चौधरी हिन्दी ब्लॉग जगत के दैदीप्यमान रत्न हैं। उनसे कोई “मौज” न ली जानी चाहिये।
    बाकी आप जबरी मंगलकामनायें क्यों ले रहे हैं – हम सहर्ष दे रहे हैं!
  14. Abhishek Ojha
    हमारी मंगलकामनाएं तो हमेशा ही हैं !
  15. kanchan
    बेटी की शादी….! बहुत सारे भाव कुछ इसी तरह के मेरे मन में भी चल रहे हैं आजकल…! यूँ अभी बस बाते हीं चल रही हैं, भांजी की शादी की, लेकिन कल रात ही गुनगुना रही थी
    राज की बात बताएं, ये पूँजी जीवन की,
    शोभा आज से है ये आपके आँगन की

    और आँखें नम होने लगी…!
    ईश्वर करे बिटिया जहाँ जाये वहाँ से सिर्फ खुशियाँ पाये और खुशियाँ लुटाये और हमें भी वहाँ से खुशियाँ लौटाये…!
  16. ताऊ रामपुरिया
    बीटिया को मंगलमय दाम्पत्य जीवन की बहुत शुभकामनाएं.
    और ब्लांगिंग भी अजीब है साब. उधर बारात वाले काका ससुर को ढूंध कर हल्कान हुये हारहे हैं और वो यहां बैठे बिलगिया रहे हैं.:)
    बहुत बधाई हो. सब आनन्द मय और मंगल मय हो.
    रामराम.
  17. SHUAIB
    हे चुप ख़ामूश और ख़बरदार !
    ये ऊपर वाली लाईन मैं अपने आप से बोल रहा हूं :)
    क्या बोलें ?
    और क्या बोलें ?
    जीतू भाई और आप दोनों को सलाम
  18. SHUAIB
    और हां
    ख़ामूश हिन्दी चिट्ठाजगत को हंसाने और जगमाने के लिए आप दोनों को बधाई
  19. डा. अमर कुमार

    ठहरिये, मैं सिफ़ारिश लगाता हूँ…
    जरा हमारे गुरुवर ज्ञानदत्त जी की भी सुनी जाये,
    उनका एतराज़ है, कि जब तलक मौज़ लिये जाने योग्य एक देदीप्यमान रत्न उनमें छिपा है ।
    तब तक श्री दे.र. जितेन्द्र चौधरी को न डिस्टर्ब किया जाय ।
    वल्लाह.. इस सादगी पर कौन न मर मर जाये !!

    दे.र. = देदीप्यमान रत्न
  20. विवेक सिंह
    शुभ विवाह के अवसर पर समस्त शुक्ल परिवार को ढेरों बधाइयाँ !
    आज तो मैंने सोचा था आप कुछ नहीं लिखोगे शायद . हाँ अगले कुछ दिनों में आप अवश्य झिलाते ! कल की पोस्ट पर लड्डू का फोटू अवश्य लगना माँगता है :)
  21. विवेक सिंह
    एक बात पूछना भूल गए . ये बच्चा कौन है ऊपर ? आपका बचपन का फोटू लगता है मुझे !
    क्या ? मैं पहेली जीत गया ?
  22. Arvind Mishra
    भतीजी को आशीष ! आपने यह नही बताया की आखिर इतने बहाने गढे क्यों जा रहे हैं ? क्या ब्लॉग्गिंग की निरर्थकता पर मुहर लग गयी !
  23. archana
    “खुशी-खुशी कर दो बिदा तुम्हारी बेटी राज करेगी” अनेक शुभकामनाएँ ।
  24. समीर लाल
    सुधा के शुभ विवाह के अवसर पर मंगलकामनाऐं एवं नव दंपत्ति को आशीष.
    नंदन जी रचना विशेष तौर पर पसंद आई. बहानेबाजी तो खैर है ही टॉप पर. :) जय हो!!
  25. Smart Indian
    जबरदस्त बहानों का लाजवाब जवाब! [कौन सा अलंकार हुआ?]
    नंदनजी का छंद बहुत अच्छा लगा. आपको बधाई और भतीजी को शुभकामनाएँ!
  26. Manoshi
    आपकी भतीजी को हमारी ओर से बहुत बहुत शुभकामनायें।
  27. Indra Awasthi
    Bahut bahut mangal kaamanaayen!
    Baat karte hain zaldi
  28. उन्मुक्त
    बेटी सुधा को नये जीवन में पदार्पण करने की शुभकामनायें।
  29. anupam agrawal
    बधाईयाँ और ढेर सारी शुभकामनायें बिटिया के वैवाहिक जीवन के लिये
  30. Arkjesh
    Hi shukul ji,
    How r u.
    “Blog na likhane ke bahanon” ki khinchaai bhut hi majedaar lagi.
    Very humorous. Jyada tarrif isaliye nahin kar raha hun ki aap naga na maan jaayen.
    Badhai.
  31. सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी
    बेटी को वाणी से संवार दे ओ वीणापाणि
    शक्ति दे, शालीनता दे और संस्कार दे।

    सौभाग्यवती सुधा को हमारा स्नेह और आशीर्वाद।
    एक और ‘ढिंचक’ पोस्ट के लिए आपको बधाई और धन्यवाद।:)
  32. anitakumar
    बहानों के जवाब टॉप क्लास्…॥अमर कुमार जी की टिप्पणीयां (खास कर ज्ञान जी की चुटकी लेती) नंबर वन।
    सुधा बिटिया को ढेर सारी शुभकामनाएं, बहुत सुंदर लग रही है इस फ़ोटो में । फ़ोटो और भी दिखाये जाएं ताकि हमें भी लगे कि हम भी वहीं थे।
  33. satish saxena
    आपकी और जीतू भाई की जोड़ी सलामत रहे, नोकझोंक आनंद दायक है ! जीतुभाई को चिटठा चर्चा पर आकर आपकी “हरकतों” पर और लिखना चाहिए !
    सुधा बेटी को आशीर्वाद !
  34. अतुल शर्मा
    मेरी ओर से शुभकामनाएँ।
  35. नीरज रोहिल्ला
    हम तो जबरिया बधाई देंगे, कोई का कर लेगा हमारा। बाली उमर में एक बार फ़िर ससुर बनने पर बधाई हो :-)
    सुधा हमारी तो बहन हुयी तो हम तो खुशी में इंडियन स्टोर जाकर मिठाई खायेंगे भी और अपने रूममेट को भी खिलायेंगे। और अगली भारतयात्रा में आपसे भी जमकर खायेंगे।
  36. विकास पाण्डेय
    बाबुल की दुवाऐँ लेती जा॰॰
    कमान इतना न खीँचो की डोरी ही टूट जाऐँ।।
    आगे इतना भी न बढ़ो की साथ ही छूट जाऐँ।
    छपासकीड़ीकाट जगत मे आलोचना की स्वस्थ परंपरा विकसित की जानी चाहिऐँ।
    वरना खिसियानी बिल्ली तो नोचती ही हैँ??
    पाँय लाँगू
  37. : फ़ुरसतिया-पुराने लेखhttp//hindini.com/fursatiya/archives/176
    [...] बेटी को वाणी से संवार दे ओ वीणापाणि [...]

Leave a Reply


Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative