Saturday, December 31, 2011

फ़ेसबुक स्टेटस 2011

मुंबई में आंदोलन थोड़ा तो और सौंन्दर्यपूर्ण लगेगा। जब बालीवुड के लोग भ्रष्टाचार हटाने की बात करेंगे तो हम भी आंख खोल के उनके बयान सुनेंगे। (24-12-11)

आजकल का भ्रष्टाचार बहुत जटिल टाइप का हो गया है। इसकी पहचान के लिये एक्सपर्ट की आवश्यकता पड़ती है। (24-12-11)

नौकरशाही में आदमी जब आता है तो ईमानदार होता है। नौकरशाही उसे बेईमान बना देती है।-- भूतपूर्व चेयरमैन विजिलेंस कमीशन (24-12-11)

भ्रष्टाचार अगर अच्छी-अच्छी संस्थायें बनाने से दूर होता तो अब तक यह अपने देश से कब का गो,वेन्ट,गॉन हो गया होता। (24-12-11)

बेचारी सी.बी.आई. की हालत दौप्रदी सरीखी होती जा रही है। लोकपाल आने पर पांच-पांच लोगों को रिपोर्ट करना पड़ेगा उसे। (24-12-11)

टीम अन्ना के लोगों के मुंह से भी बयान झरते रहते हैं। देखकर लगता है जैसे सर्दी के मौसम में पहाड़ों पर बर्फ़ गिर रही है।  (24-12-11)

राजनीति करने वालों का तो खैर काम ही पालिटिक्स करना होता है। बयान देना,मुकर जाना, पलट जाना उनकी कोर कम्पीटेन्सी होती है। (24-12-11)

मीडिया वाले जिस किसी के भी मुंह के माइक आगे सटा देते हैं। लोकपाल के बारे में उनके मुंह से बयान घसीट लेते हैं।  (24-12-11)

सारा देश इंतजार कर रहा है। लोकपाल का अवतार हो- भ्रष्टाचार के राक्षस का संहार करे। बवाल कटे। (24-12-11)

शासन का घूंसा किसी बडी और पुष्ट पीठ पर उठता तो है पर न जाने किस चमत्कार से बडी पीठ खिसक जाती है और किसी दुर्बल पीठ पर घूंसा पड जाता है-परसाई (24-12-11)

कामचोरी को नौकरीशुदा कर्मचारी का मौलिक अधिकार माना जाये या सहज सामाजिक शिष्‍टाचार!- इस मुद्‍दे पर आध्‍यात्‍मिक चिँतन होना चाहिए! (19-12-11)

  सचिन को भारत रत्‍न देने से ठाकरे जी खफा हो सकते है कि मुँबई वाले को भारत रत्‍न कैसे दे दिया? (16-12-11)

रेल में दाल, सब्‍जी, चावल,दही, पराठा 32/- में. पानी,अचार मुफ्‍त. माल मेँ समोसा 40/- का मिलता है. हमे माल नहीं रेल चाहिये. (14-12-11)

आज समय और बाजार दो गुँडोँ की तरह एक हो गये हैँ.इसलिए आज का समय कठोर और हिँसक तो होगा हीऔर माहौल को वैसा ही बनाएगा. हदयेश (14-12-11)

Waiting room attendent ne sab detail likhwane ke bad andar aane diya lekin usane mere blog ka URL nahi poochha.Surprising hai na? (14-12-11)

Lokpal aur Sachin ki century ka masla nipatane ke bad Gabbar poochhega - Ab tera kya hoga Media? (14-12-11)

Doller aur Rupaya milkar sachin se pahale century banane ke chaakkar me hain. (13-12-11)

अपनी पोस्ट लिखने के बाद एक आम ब्लॉगर की तरह मुझे भी हमेशा यह डर लगता है कि उसको पढ़ने के बाद कहीं कोई पकड़कर सम्मानित न कर दे! (12-12-11)

लोकपाल, करप्‍शन, शराबबँदी आदि के बाद मीडिया अन्‍ना से परिवार नियोजन, नाभिकीय ऊर्जा, सोलर सिस्‍टम आदि के बारे में भी सवाल पूछ सकती है . (24-11-11)

रेल रात भर अकेली पटरी पर खरामा खरामा चलती रही. किसी ने उससे कोई बदसलूकी नहीं की. इससे लगा कि पटरी पर कानून व्‍यवस्‍था अच्‍छी है. (22-11-11)

रेल किस्‍तोँ मेँ लेट हो रही है ऎसे मेँ यह इल्‍जाम भी नहीं लगाया जा सकता कि रेलवे ने हमको धोखा दिया. (22-11-11)

मत कहो नोयडा में कोहरा घना है / यह किसी की व्‍यक्‍तिगत आलोचना है. (22-11-11)

कलकत्‍ता में वाहन अपराध और राजनीति की तरह सट के चलते है (14-11-11)

कलकत्‍ता में सब कुछ चौङा है समय,सङक,गाङी और आदमी भी. (14-11-11)

शाही जोड़े का पहला चुम्बन देखकर लगा जैसे दो बड़े बच्चे प्रेम-पीटी कर रहे हों जिनको हिदायत दी गयी हो-खबरदार होंठ के अलावा कोई और अंग छुआ तो सब कुछ दुबारा करना पड़ेगा!  (30-04-11)

मिस्बाहुल हक से एक संवाददाता ने पूछा कि उन्होंने तेज खेलना शुरू करने में इतनी देर क्यों की!
इस पर मिस्बाहुल हक ने जबाब दिया- मुझे लगा जैसे अपने यहां जम्हूरियत बहाल करने और जनरलों की वर्दी उतारने की तारीख बढ़ती है वैसे ही ओवर भी जरूर बढ़ेंगे। लेकिन वहां ऐसा हुआ नहीं! मैं गफ़लत में रहा!(03-04-11)

एक संवाददाता: धोनी जब आप बैटिग कर रहे थे उस समय आपके मन में क्या चल रहा था?
धोनी : मैं सोच रहा था कि अगर मैं अच्छा नहीं खेला और भारत हार गया तो लोग फ़िर मेरा घर तोड़ डालेंगे। भगवान का लाख-लाख शुक्र है कि उसने मेरा घर बचा लिया।  (03-04-11)

पिछले दिनों उन्होंने विज्ञापन विभाग के सभी कर्मचारियों को निकाल दिया है। बस एक कम्प्यूटर आपरेटर को रखा है। वह विज्ञापन के सारे मसाले को विकीलिक्स को भेज देता है। विकीलिक्स वाले उस जानकारी/बातचीत/मसाले को अखबारों और मीडिया को लीक कर देता है। वे उसे प्रमुखता से कवरेज देते हैं। इसे कहते हैं नयी तकनीक का त्वरित उपयोग।  (30-03-11)

महाभारत में दिन भर के यु्द्ध के बाद योद्धा लोग शाम को विरोधी शिविरों में जाकर आपस में विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करते थे। बहुत दिनों बाद यह मोहाली शिविर में चर्चा का कार्यक्रम तय हुआ है। उस दिन चूंकि क्रिकेट का सेमीफ़ाइनल होना तय हुआ है अत: एक दिन का युद्धविराम रखा गया है।(29-03-11)

खाक चेष्टा, नको ध्यानम, चटक निद्रा तथैव च,
पिज्जाहारी, कक्षात्यागी विद्यार्थी पंच लक्षणम।(28-03-11)

गूगलस्था तु या विद्या, स्विस बैंक गतम धनम,
कार्य काले समुत्पन्ने , न सा विद्या न तदधनम।(26-03-11)

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative