Tuesday, April 24, 2012

हिम्मत है तो आ जा टीवी चैनल पर

http://web.archive.org/web/20140419214321/http://hindini.com/fursatiya/archives/2894

हिम्मत है तो आ जा टीवी चैनल पर

दो दिन पहले अन्ना कमेटी की मीटिंग के दौरान एक साहब मीटिंग की कार्यवाही मोबाइल में नोट करते पकड़े गये। कमेटी के लोगों ने उनको मोबाइल पकड़कर बाहर कर दिया।
बाहर होते ही वे साहबान अपना मुंह लेकर मीडिया चैनल की तरफ़ भागे। कैमरे के सामने जाकर बयान जारी कर दिया- कमेटी में भेदभाव है। तानाशाही है। मनमानी है। कमेटी छोड़ दी हमने।
कमेटी के लोग भी अपना-अपना मुंह बयानों से लैस कर चैनलों की तरफ़ भागे। चैनलों पर पहुंचकर बयान-गोले दागने लगे। जानकारी दी कि वे साहबान मीटिंग की गुप्त कार्यवाही लीक कर रहे थे। मना किया गया तो माने नहीं। निकाल दिया तो चैनल पर आकर बयान देने लगे।
चैनल-चौपाल पर बहस छिड़ गयी। साहबान कमेटी की एक महिला को सरे कैमरा हड़काते हुये कह रहे थे- तुम होती कौन हो ये सवाल करने वाली। [ हम सोचने लगे कि क्या यहां मैथिली दद्दा को याद करना ठीक होगा- हम कौन थे, क्या हो गये हैं और क्या होंगे अभी]
करप्शन कमेटी के प्रवक्ताजी, जो श्रंगार के भीषण कवि भी हैं , उन साहबान के लिये अंगार बरसा रहे थे- इन्होंने कमेटी का विश्वास भंग किया।
विश्वास जी लम्बे-लम्बे बयान ऐसे जारी करते हैं जैसे बच्चे लोग लम्बी-लम्बी कवितायें रटकर सुना देते हैं। श्रंगार का यह दुलारा कवि बयान जारी करते समय बेइंतहा अश्रंगारिक लगता है।
साहबजी कमेटी के लोगों के बारे में देश की जनता को बताने लगे- ये लोग मनमानी करते हैं। हम शुरु से कोर कमेटी में हैं फ़िर भी आजतक हमको कभी बयान जारी करने का मौका नहीं दिया।
क्लास गोल करके पिक्चर देखने वाली आदत की तरह करप्शन विरोधी कमेटी के लोग मीटिंग छोड़कर चैनल की तरफ़ भगे चले आये।
भ्रष्टाचारियो के खिलाफ़ मोर्चा खोलने वालों ने एक दूसरे के खिलाफ़ गले खोल दिये। चैनलों पर बयान युद्ध शुरु हो गया। एक-दूसरे पर वक्तव्य के गोले दगने लगे।
वक्तव्य वासना के वसीभूत होकर लोग अपने-अपने हिस्से की सदाचार तपस्या खर्च करने लगे। टीवी चैनल पर आकर बयान जारी करने की इच्छा बड़ी जालिम इच्छा होती है। यह मुई जो न कराये।
चैनल पर फ़ुर्ती से बयान जारी हो रहे थे। लोग एक-दूसरे का बयान नोच रहे थे।
चैनल पर दूरी के चलते लोग मारपीट करने में असमर्थ थे। लेकिन बयान हिंसा में कोई ऐसा कोई पत्थर नहीं छूटा जिसे पलटा न गया हो [left no stone unturned]
हमें लगा कि देश में भयंकर हिंसा के इस माहौल में भी चैनलों पर अहिंसा बची हुई है।
इस पवित्र टीम से जुड़े लोगों ने देश के लिये सूचना का अधिकार जैसा पवित्र अधिकार लागू करने में पसीना बहाया है। गुप्त से गुप्त दस्तावेज की फ़ोटोकापी दस रुपये का पोस्टल आर्डर में लेने का अधिकार। उसी टीम के लोगों में इस बात पर बयान-नुचव्वल हो रही है कि मीटिंग की सूचना लीक करने का प्रयास किया गया। कल शायद यह भी तय हुआ कि मीटिंग में शामिल लोगों की तलाशी ली जायेगी। मोबाइल की अनुमति न होगी।
अब इन तपस्वियों को कौन समझाये कि मोबाइल आये तो अभी कुछ साल हुये। आदमी अपना मन तो साथ लिये पैदा होता है। क्या उसकी भी तलाशी होगी। मीटिंग में शामिल होने वालों से कहा जायेगा- कृपया अपना दिल,दिमाग स्विच आफ़ करके मीटिंग में भाग लें।
जब जनता के लिये काम करने करने वालों की मीटिंगें भी गुप्त होने लगीं तब तो हो चुका। जनता के लिये लड़ाई के एजेंडे भी अगर स्विस बैंक के एकाउंट की तरह गुप्त रखे जायेंगे तो फ़िर क्या फ़ायदा। मजा नहीं आया भाई इस नाटक में। :)
जिस तेजी से इस घटना के मसले पर चैनलबाजी हुई उसका अगर नाट्य रूपान्तर किया जाये तो शायद इस तरह होगा:
भाई जान: ये भाईजी आप ये क्या टेप कर रहे हैं मोबाइल में। बंद करिये इसे। मीटिंग की कार्यवाही टेप मत करिये।
साहेबान: जनाब मैं तो बस ऐसे ही खेल रहा हूं मोबाइल से। मुझे तो इसे आपरेट करना नहीं आता।
भाईजान: मोबाइल आपरेट नहीं कर पाते तो एनजीओ कैसे चलायेंगे आगे चलकर?
साहेबान: अपन को एनजीओ की जरूरत नहीं। नेताजी ने अपन को पद देने का वायदा किया है।
भाईजान: तो फ़िर जाइये आप नेता जी के पास। यहां हमारा टाइम काहे को खोटा कर रहे हैं। चलिये निकलिये।
साहेबान: आप हमारी इस तरह बेइज्जती मत खराब करिये। मैंने शुरु से ये दुकान जमाने में पसीना बहाया है।
भाईजान: आप तो जनता की सेवा का सारा मौका हड़पना चाहते हैं। ऐसे नहीं चलेगा। अब आप निकलिये।
साहेबान: जा रहे हैं। मेरा भी परता नहीं पड़ता अब यहां। न कोई बयान न वक्तव्य। ऐसे कब तक कोई खटता रहेगा।
भाईजान: अरे जाइये, जाइये। बड़े आये बयान देने वाले। कोई चैनल वाला आपके सामने माइक तक नहीं डालेगा।
साहेबान: जा रहा हूं। और मैं भी देखता हूं कि कैसे चैनल वाले माइक नहीं लगाते मेरे सामने। मैं भी दिखा दूंगा कि कैसे बयान जारी किया है।
भाई जान: चलिये देखते हैं। हिम्मत है आ जा टीवी चैनल पर। सिट्टी-पिट्टी न गुम कर दी तो असल प्रवक्ता नहीं।
इसके बाद कमेटी के लोग मीटिंग समेटकर बाहर निकल लिये। बाहर ही चैनल वालों ने कमेटी वालों को उसई तरह घेर लिया जैसे रेलवे स्टेशन से निकलते यात्री को आटो वाले घेर लेते हैं।
इसके बाद टीवी चैनल वाले मीटिंग से निकले लोगों से सारे बयान चूस कर टीवी- थाली में रखकर हमारे सामने पेश करता है। हम चाय की चुस्की लेते हुये लोगों के बयान सुनते हैं। कल तक हाथों में हाथ लिये फोटो खिंचाते मुस्कराते लोग बयान जारी करते दीखते हैं- हिम्मत है तो आ जा टीवी चैनल पर। तुझे समाज सेवा का दूध न याद दिला तो नाम नहीं। :)
सूचना:फ़ोटो फ़्लिकर से साभार। ऊपर वाली फ़ोटों में हाथ ऊपर करके खड़े लोगों का हाथ नीचे करके खड़े साहब से बयानबाजी हो गयी। :)

21 responses to “हिम्मत है तो आ जा टीवी चैनल पर”

  1. देवांशु निगम
    ये तो ग़दर मच गया , रायता फ़ैल गया एकदम !!!!
    हम तो एक और बात पढ़े कि साहबान ने निकलते ही कह दिया कि समिति एक विशेष धर्म विरोधी है :) बताइए अभी तक समिति नहीं थी अब हो गयी |
    सही कहा आपने यहाँ सबको टीवी पे आने कि जल्दी है, अन्ना को भूल गए :) :) :)
    अंत की नाटिका मस्त लगी :) :)
    देवांशु निगम की हालिया प्रविष्टी..सखी वे मुझसे लड़ के जाते…
  2. राजेन्द्र अवस्थी
    वाह आदरणिय, बहुत गज़ब आई.पी.एल. शब्दों के माध्यम से एक बार फिर आपने खेला है….आपने व्यंग के द्वारा जनसेवा करने का दम भरने वाले लोगों की सच्ची तस्वीर बहुत ही संतुलित शब्दों मे प्रस्तुत की है…सदा की तरह देश वासियों को संदेश देता हुआ लेख…मजेदार..।
  3. sanjaybengani
    सब ठीक है, बस ये बता दिजीये जब सारे लोग हाथ उठा रखे हैं ये महाशय हाथ नीचे किये क्या कर रहे है. कोई एकता ही नहीं… :)
  4. Anonymous
    @ वक्तव्य वासना ………सदाचार तपस्या??????????
    अग्नि ५ ……….. की मारक क्षमता……………………
    जय हो……..
    प्रणाम.
  5. सतीश सक्सेना
    @ कृपया अपना दिल,दिमाग स्विच आफ़ करके मीटिंग में भाग लें…
    गुरु,
    हम तो आपकी कथा सुनते, कभी यह समझ नहीं पाए कि दिमाग स्विच ऑफ़ करके एक तरफ रखें,बिजली खर्च होने दें,
    कई बार स्विच ऑन करना पड़ता है जब बात जमती सी नज़र आती है !
    फिर दिमाग कहता है अनूप गुरु हैं यार…
    काहे सीरयस लेते हो …
    सतीश सक्सेना की हालिया प्रविष्टी..सब झूम उठे ….-सतीश सक्सेना
  6. aradhana
    श्रंगार के भीषण कवि’ आपकी उपमाओं और रूपकों का जवाब नहीं :)
    aradhana की हालिया प्रविष्टी..क्योंकि हर एक दोस्त – – – होता है
  7. संतोष त्रिवेदी
    हम तो कह रहे हैं कि वह दिन भी जल्द आ जायेगा जब चैनल वाले बहस-कर्ताओं की आपसी गुत्थम-गुत्था को भी स्पोंसर करेंगे और उनको भुगतान भी देंगे.इससे चैनल की टीआरपी और माननीयों की साख दोनों बढ़ेगी !
    …अब भई जिसके इत्ता बूता हो वही भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़े का बीड़ा उठावे,हमरे बस की तो ना है !
    संतोष त्रिवेदी की हालिया प्रविष्टी..बने रहना कठिन है !
  8. आशीष श्रीवास्तव
    इस बार आपने बहुत बढ़िया शीर्षक रखा है “हिम्मत है तो आ जा टीवी चैनल पर”
    और व्यंग्य भी कमाल का है
    “उसी टीम के लोगों में इस बात पर बयान-नुचव्वल हो रही है कि मीटिंग की सूचना लीक करने का प्रयास किया गया।”
    सारे महत्वाकांक्षी लोग इकट्ठे हो रहे है …… हर कोई टीवी चैनल पर आना चाहता है जिसे रोकोगे वह यही करेगा…
    अब नीव का पत्थर कोई नहीं बनाना चाहता
    आशीष श्रीवास्तव
  9. आशीष श्रीवास्तव
    “अब नीव का पत्थर कोई नहीं बनना चाहता ” पढ़ा जाये वैसे आप तो स्वयं समझदार है :) :) :D
    –आशीष श्रीवास्तव
  10. sanjay aneja
    एक ठो गाना है, याद आ गया – http://www.youtube.com/watch?v=SkHqzLuPxK8
    ‘मुसलमानों के साथ भेदभाव’, ‘राजनीतिकरण’, ‘तुम हमें क्या निकालोगे, हमने ही छोड़ दी तुम्हारी कोर कमेटी’ ‘ये शाजिया है क्या?’ वगैरह जुमले ऐसे निकल रहे थे मुफ्ती साहब के मुंह से जैसे ममता दी की दुरंतो:)
    sanjay aneja की हालिया प्रविष्टी..A syndrome that is called …..(ladies, excuse me please this time) बवाल-ए-बाल
  11. प्रवीण पाण्डेय
    बैठकें गंभीर हो गयीं।
    प्रवीण पाण्डेय की हालिया प्रविष्टी..एक लड़के की व्यथा
  12. arvind mishra
    समानांतर एक और काण्ड हुयी गवा है -सब लोग निहार चुके -जल्दी नहीं तो बस झंखना ही पड़ेगा :)
    arvind mishra की हालिया प्रविष्टी..हेट स्टोरी -एक "पर्दाफाश" फिल्म!
  13. Anonymous
    विश्वास जी लम्बे-लम्बे बयान ऐसे जारी करते हैं जैसे बच्चे लोग लम्बी-लम्बी कवितायें रटकर सुना देते हैं। श्रंगार का यह दुलारा कवि बयान जारी करते समय बेइंतहा अश्रंगारिक लगता है।
    यह अच्चा है सरजी
  14. विजय गौड़
    हमेशा की चुस्ती इस आलेख में उतनी नहीं| जाने क्यों ? हो सकता है मेरे पढने में ही कहीं कुछ एकाग्रता की kamI तो नहीं| खैर|
  15. satyavrat shukla
    मुझको तो अब लगने लगा है की सबकी अपनी अपनी व्यक्तिगत महत्वाकांक्षा हैं जिनकी पूर्ती लोग अन्ना जी के नाम से करना चाहते हैं ………और सभी एक दूसरे से आगे नज़र आना चाहते हैं |
    बहुत ही अच्छा व्यंग है ….या कहें की यथार्थ की चोट है ……कुछ लोगों को लोकप्रियता मिल गई और जो पहले से लोक प्रिय थे उन लोगों की लोकप्रियता बढ़ गई ….अगर ऐसा ही करते रे तो जल्दी ही अलोकप्रिय भी हो जायेंगे …..
    satyavrat shukla की हालिया प्रविष्टी..सोसिअल नेटवोर्किंग और नेता- "करना पड़ता है ….."
  16. dhiru singh
    अगर टीवी पर समाचार दिन में सिर्फ पहले की तरह एक घंटा आये तो कई समस्याए अपने आप ही खत्म हो जाए .
  17. anita
    कुछ महीने पहले सोचा न था कि अन्ना दिवाली के अनार सा चमक कर यूं फ़ुस्स हो जायेगा। बड़िया व्यंग…॥
  18. समीर लाल "पुराने जमाने के टिप्पणीकार"
    सभी मौका देख फसल काट लेते हैं..श्रृंगार क्या—व्यंग्यकार क्या…आपने भी हरियाते खेत पर हसिया चला ही लिया न!! :) जिओ रज्जा कनपुरिया इन जबलपुर!!
  19. pawan mishra
    ई साझे की सुई कब्बौ ना उठी. एक फिलिम आयी थी “चुप चुपके” जिसमे राजपाल यादव कहता है कि हमे सब कुछ आता है इसे कुछ नही. यही हाल तथाकथित टीम अन्ना का है एक दिन जरूर आयेगा जब अन्ना भी भरे मन से यहा से खसकेगे.
  20. G C Agnihotri
    जिस टी वी ने अन्ना को झाड पर चढ़ाया, उसी ने पहले कोर कमेटी फिर अन्ना को नेस्तनाबूद कर दिया. सत्यवचन, इलेक्ट्रानिक मीडिया वो भी टी वी वाला पूरा भस्मासुर है, हरजाई है. अब अन्ना में वो मजा कहाँ. बात तो नए मजे की है, अन्ना बिचारे पुराने कब तक नया वाला मजा देंगे
  21. फ़ुरसतिया-पुराने लेख
    [...] हिम्मत है तो आ जा टीवी चैनल पर [...]

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative