Friday, December 31, 2010

फ़ेसबुक स्टेटस 2010

अल्लेव ई ससुरा सोमवार आ धमका! चल भाग भाग चलें दफ़्तर की ओर! (05-04-10)

इतवार की निश्चिंतता देखकर लगता है कि हर दिन थोड़ा-थोडा इतवार मिला देना चाहिये! (04-04-10)

सुबह-सुबह चाय पीकर बैठ गये लैपटाप लेकर। इधर-उधर न जाने किधर-किधर टहल रहे हैं! (04-04-10)

फ़ेसबुक में भी क्या-क्या बमचक मची रहती है! (03-04-10)



 

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative