Tuesday, August 14, 2012

मैं एक आंदोलन चलाना चाहता हूं

मैं एक आंदोलन चलाना चाहता हूं,
बिना टिकट दिल्ली जाना चाहता हूं।

मेरी अरबों की कमाई का कोई हिसाब नहीं,
बेईमानी के खिलाफ़ झंडा उठाना चाहता हूं।

किसी पार्टी ने घास नहीं डाली बातचीत में,
मैं सबके खिलाफ़ हो जाना चाहता हूं।

मेरे मोबाइल में बैलेंस बहुत कम बचा है,
SMS करके तेरा हौसला बढ़ाना चाहता हूं।

इस बार तू संडे को करना आदोलन,
तेरे साथ पिकनिक मनाना चाहता हूं।

-कट्टा कानपुरी

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative