Wednesday, September 11, 2013

रुतबा दिखाने की मासूम ललक

http://web.archive.org/web/20140420082455/http://hindini.com/fursatiya/archives/4733

रुतबा दिखाने की मासूम ललक

बिना टिकटकल जबलपुर रेलवे स्टेशन पर धरपकड़ हुई। तमाम लोग बेटिकट पकड़े गये। जुर्माना भरवाया गया। बेटिकट लोगों में एक डीएसपी और एक एसडीएम भी थे। एसडीएम के साथ उनका गनमैन भी था- जैसे अमेरिका के साथ इंग्लैंड लगा रहता है। पकड़े जाने पर गनमैन ने तो जुर्माना भर दिया लेकिन साहब ने सबको देख लेने की धमकी देते हुये दौड़ लगा दी। सरपट निकल लिये। पुलिस वाले उनको पकड़ न पाये। डीएसपी साहब ने पहले तो अपना रौब दिखाया लेकिन स्टाफ़ के न झुकने पर उन्होंने तत्काल जुर्माना भरा और ये बोलते हुये चले गये कि सबको अपना रुतबा दिखाने का मौका ऊपर वाला जरूर देता है।
यात्रा में बेटिकट चलना तो खैर आम बात है। लेकिन जुर्माना वसूला जाना खास बात है। आपसी सहमति से लेन-देन हो जाने का चलन ज्यादा है। इससे दोनों पक्षों को आराम रहता है। जुर्माना वसूली में अमला लगता है। तमाम लोग चाहिये। लिखा पढ़ी होती है। हिसाब करना पड़ता है। समझाना पड़ता है। फ़िर खजाने में जमा करना पड़ता है। समय की बरबादी होती है। रुपये को कई जगह धक्के खाने पड़ते हैं। जुर्माना वसूली की इस बहुआयामी समस्या का सहज हल आपसी लेन-देन होता है। एक के हाथ का मैल दूसरे की जेब में चला जाता है। गंदगी (पैसे) का स्थानान्तरण दो लोगों तक ही सीमित रहता है।
इस जुर्माना कथा का अध्ययन करने पर कुछ और पहलू दिखते हैं। दिन भर चले इस जुर्माना यज्ञ में तमाम लोग पकड़े गये। लेकिन विस्तार से वर्णन डीएसपी और एसडीएम का ही हुआ। अखबार वाले की नजर भेदभाव पूर्ण है। यह नौकरशाही को बदनाम करने की साजिश है। उसका मनोबल गिराने का षडयंत्र है। उनकी सार्वजनिक निजता का उल्लंघन है।
यह एक तरह से आम जनता का भी अपमान है। बेटिकट चलने की बहादुरी आम आदमी ने भी दिखाई और खास आदमी ने भी। लेकिन चर्चा खास आदमी की हुई। आम आदमी का जिक्र गोल। मीडिया का यह रवैया भेदभाव पूर्ण है।
डीएसपी साहब के जुर्माना भरने और एसडीएम साहब के सरपट भाग लेने से यह पता चलता है पकड़े जाने पर पुलिस के अधिकारी कानून की ज्यादा इज्जत करते हैं। एसडीएम कानून अपने हाथ में लेकर फ़ूट लेते हैं।
पुलिस के सिपाही भागते एसडीएम को पकड़ न पाये इससे अंदाजा लगता है कि प्रशासन के लोग मौका पड़ने पर बहुत तेज काम करते हैं। एसडीएम साहब के भागने की खबर सुनकर रागदरबारी के सनीचर के भागने की बात याद आ गयी। साहब को तो खोजखाज कर सम्मानित करना चाहिये कि साहब होने के बावजूद वे इत्ती तेज भाग लेते हैं कि पुलिस वाले उनको पकड़ नहीं पाते।
रागदरबारी में ही “अफ़सर नुमा चपरासी और चपरासी नुमा” अफ़सर का जिक्र है। यहां डीएसपी और एसडीएम का जिक्र है। एसडीएम फ़ूट लिये। डीएसपी खड़े रहे। डीएसपी का काम दौड़ने-भागने का होता है। एसडीएम का कुर्सी तोड़ने का। दोनों ने अपने काम के स्वभाव के विपरीत आचरण किया। दौड़ने वाला खड़ा रहा, बैठने वाला फ़ूट लिया। मामला एसडीएम नुमा डीएसपी और डीएसपी नुमा एसडीएम सरीखा हो गया। इससे एक बार फ़िर से सिद्ध हुआ कि भारत की नौकरशाही अपना काम मन लगाकर करने की आदी नहीं।
डीएसपी के रुतबा दिखाने का मौका मिलने वाली बात से अपने यहां की नौकरशाही के मिजाज की झलक मिलती है। बेटिकट यात्रियों से बिना किसी से भेदभाव किये जुर्माना वसूलना यों तो रूटीन काम है लेकिन डीएसपी इसे रुतबा दिखाना समझता है। इससे पता चलता है कि अपने यहां कि नौकरशाही अपना रूटीन काम तभी करती है जब उसका रुतबा दिखाने का मन होता है। अपना काम करना मतलब रुतबा दिखाना।
इसी समय मुझे पिछले दिनों रेलवे बोर्ड के एक मेंबर द्वारा रेलमंत्री को घूस देते हुये पकड़े जाने का किस्सा याद आ गया। लोग बताते हैं कि मेम्बर को लपेटने वाले पुलिस अधिकारी पहले कभी मेम्बर के ही अधीन थे। आरपीएफ़ में। मेम्बर कभी उन पर रुतबा दिखाते थे। पुलिस अधिकारी ने कसम खायी थी कि वे भी कभी अपना रुतबा दिखायेंगे। जैसे कभी चाणक्य ने खायी होगी नंद वंश का नाश करने के लिये। बाद में वे पुलिस अधिकारी सीबीआई में आ गये। सीबीआई की पोस्ट उनके लिये चन्द्रगुप्त साबित हुई। मौका ताड़कर उन्होंने मेम्बर को रुतबा दिखा दिया। उनकी रेलवे बोर्ड की मेम्बरी का नाश कर दिया। चेयरमैन बनने के सपने का संहार कर दिया। मेम्बर अन्दर हो गये। उनके रुतबे की पारी समाप्त हो गयी। रेलवे बोर्ड के मेम्बर का घूस देते हुये पकड़ा जाना वास्तव में भारतीय नौकरशाही की ’रुतबा दिखाने की मासूम ललक’ का प्रदर्शन था।
इससे यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि भारत में नौकरशाही उत्ती निकम्मी नहीं है, जित्ता हल्ला मचता है। वास्तव में उसको अपना रुतबा दिखाने के मौके नहीं मिलते। रुतबे के सारे मौके जनप्रतिनिधि, माफ़िया, गुंडे , ठेकदार और मठाधीश लूट ले जाते हैं। वे बेचारे रुतबे के मौके के अभाव में दीन-हीन बने रहते हैं। पकड़े जाने पर रेलवे का जुर्माना तक भरना पड़ता है।
बहुत हुआ। अब दफ़्तर चलकर कुछ रुतबा दिखाने का जुगाड़ किया जाये। :)

16 responses to “रुतबा दिखाने की मासूम ललक”

  1. sanjay jha
    क्या बात है……………..बरे मासूमियत से धोया गया???
    प्रणाम.
  2. soniya srivastava
    बड़ी मजेदार पोस्ट है लेकिन है बिलकुल सत्य मैंने भी कई बार सार्वजनिक रूप से लेनदेन का दृश्य देखा है लेकिन तब इतना मजेदार नहीं लगा जितना पढ़कर लगा. वाकई आपमें सामान्य लगने वाली घटनाओं को विशिष्ट बनाने की अद्भुत क्षमता है
    अतिसुन्दर
    बधाई
  3. Tarunkulshrestha
    V nice sir.keep it up.maa sarsvati ki kripa apki kalam ko ase he milti rhe
  4. Kajal Kumar
    रेल में बेटि‍कट यात्रा करने का अनुभव अपना भी है और वह भी एक डि‍वि‍ज़नल कमि‍श्‍नर साहब और लाव-लश्‍कर के साथ. जि‍स स्‍टेशन से रेल पकड़ी उस शहर में कर्फ़्यू लगा हुआ था. 2 स्‍टेशन बाद उतरना था. समझ ही नहीं आया था यात्रा इस कि‍ पूरे उपक्रम में टि‍कट खरीदी कब की जानी चाहि‍ए थी.
    Kajal Kumar की हालिया प्रविष्टी..कार्टून :- उपले थापता, तै बेरा पाटता
  5. arvind mishra
    छपने लायक पोस्ट :-)
    arvind mishra की हालिया प्रविष्टी..मुझ पर पड़े बीस नौकरी के वर्ष तीस!(श्रृंखला)
  6. प्रवीण पाण्डेय
    जय हो, विधिवत धोया है, सब स्वच्छ और निर्मल दिखने लगा।
    प्रवीण पाण्डेय की हालिया प्रविष्टी..पर्यटन – रेल अपेक्षायें
  7. amit kumar srivastava
    एक किस्सा याद आ गया । एक रेलवे क्रासिंग के केबिन में केबिन मैन की बीबी उसका खाना लेकर आई हुई थी । अचानक से केबिन मैन को अपना ‘रूतबा’ दिखाने की सूझी । उसने अपनी बीबी से कहा , देखो मेरा ‘रूतबा’ देखना है ,मै जब चाहूँ फाटक बंद कर सकता हूँ और सारे ये बड़े बड़े मोटर वाले लोग ठहर जाते हैं और मेरा इंतज़ार करते हैं कि कब मै फाटक खोलूँ । ऐसा कहते हुए उसने अचानक फाटक बंद कर दिया । सारा ट्रैफिक ठहर सा गया । बीबी खुश , वाह क्या ‘रूतबा’ है । तभी एक पुलिस की जीप आई ,दरोगा ने देखा ,बिना ट्रेन के समय के फाटक बंद है । वह उतर कर गया और उसने खींच कर दो झापड़ उस केबिन मैन को मारा । केबिन मैन ने फाटक खोल दिया । बीबी ने पूछा ,यह क्या है । इस पर केबिन मैन बोला ,”यह उसका ‘रूतबा’ है ” ।
    amit kumar srivastava की हालिया प्रविष्टी..“शीर्षक कैसा हो…….”
  8. Yashwant Yash
    फैंटास्टिक!
  9. देवेन्द्र बेचैन आत्मा
    आनंद दायक मस्त पोस्ट है। फुरसत में लिखी गई लगती है।
  10. पंछी
    हमेशा की तरह … लाजवाब :)
    पंछी की हालिया प्रविष्टी..Pencil Sketch of Kids
  11. विवेक रस्तोगी
    वाह दिल खुश हो गया, ऐसे टाइम पर तो पहचान वाले टीटी भी काम नहीं आते, बस अपने को पता होना चाहिये कि किधर बचा जा सकता है, अपन ने भी कई बार ये अनुभव लिये हैं, परंतु रेल्वे पुलिस और टीटी हमेशा बचाव के लिये साथ रहते थे ।
    विवेक रस्तोगी की हालिया प्रविष्टी..जीवन के तीन सच
  12. किलर झपाटा
    आप भी ना शुक्ला अंकल अच्छे खाँ को भी पस्त कर देंगे व्यंग कसने में।
  13. Anonymous
    शुक्लजी आप अद्भुत हैं
  14. Abhishek
    और ऐसे लोग भी होते हैं जो बिन टिकट यात्रा कर लेने के बाद वापसी का टिकट खरीद फाड़ के फेंक देते हैं :)
    पढ़ते पढ़ते याद आ गए एक ऐसे सज्जन.
    Abhishek की हालिया प्रविष्टी..संयोग
  15. संतोष त्रिवेदी
    गजब !
    मिसिर जी का कहा पूरा हुआ,जनसत्ता में छपकर।
  16. : फ़ुरसतिया-पुराने लेख
    [...] रुतबा दिखाने की मासूम ललक [...]

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative