Sunday, October 09, 2016

पाक को अब उसकी नानी भी याद करा दो


पाक को अब उसकी नानी भी याद करा दो,
लगा दो माइक सीमा पर,’जगराता’ करा दो।
ओज कवियों को माइक थमा दो सीमा पर,
दहाड़ कर पढें कविता,पाक के छक्के छुड़ा दो।
निकालो आंख पाक की वो कश्मीर देखता है,
किसी काने की दुनिया, पूरी तरह चमका दो।
-कट्टा कानपुरी

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative