Tuesday, August 23, 2005

आशा का गीत-गोरख पांडेय की कवितायें


http://web.archive.org/web/20110925123200/http://hindini.com/fursatiya/archives/35
गोरख पांडेय
गोरख पांडेय
पिछली पोस्ट में गोरख पांडेय के बारे में पूछा था-अनामजी ने। गोरख पांडेय संवेदनशील ,जनता के कवि माने जाते हैं। आम जनता की आवाज उनकी कविता का मूल स्वर है।

उत्तरप्रदेश के देवरिया जिले में १९४५ को जन्मे गोरख पांडेय ने सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय से साहित्याचार्य हुये। वहां के छात्रसंघ के अध्यक्ष रहे। १९७३ में काशी हिंदू विशश्वविद्यालय से एम.ए.(दर्शन शास्त्र) । ‘धर्म की मार्क्सवादी धारणा’ शीर्षक लघु शोध प्रबंध।
१९६९ से ही नक्सलबाड़ी आंदोलन के प्रभाव में हिंदी कविता की अराजक धारा से अलगाव,किसान आंदोलन से प्रत्यक्ष जुड़ाव,ग्रामीण क्षेत्रों में कार्यकर्ता के बतौर कामकाज। इलाहाबाद,बनारस ,लखनऊ मुख्य गतिविधि के क्षेत्र ।आंदोलन के लिये अनेक गीत,कवितायें लिखीं।नये चेहरों को जोड़ा।
१९७० के बाद वाले दशक में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में ‘ज्याँ पाल सात्र के अस्तित्वबाद में अलगाव के तत्व ‘ पर शोध-प्रबंध प्रस्तुत किया।१९८३ में ‘जागते रहो सोने वालों’ शीर्षक काव्य -संग्रह प्रकाशित।१९८५ में ‘जन संस्कृति मंच ‘के संस्थापक महासचिव ।
दिमागी बीमारी सिजोफ्रेनिया से परेशान होकर२९ जनवरी,१९८९ को जवाहरलाल विश्वविद्यालय,दिल्ली में आत्महत्या कर ली।उस समय वे विश्वविद्यालय में रिसर्च एसोसियेट थे।
मृत्यु के बाद कविता संग्रह ‘स्वर्ग से विदाई’(१९८९) कविता व गद्य चयन ‘लोहा गरम हो गया है’ (१९९०) जन संस्कृति मंच द्वारा प्रकाशित।
गोरख पांडेय की कुछ कवितायें यहां दी जा रही हैं।
१.आशा का गीत
आयेंगे ,अच्छे दिन आयेंगे
गर्दिश के दिन कट जायेंगे
सूरज झोपड़ियों में चमकेगा
बच्चे सब दूध में नहायेंगे
सपनों की सतरंगी डोरी पर
मुक्ति के फरहरे लहरायेंगे।
२. तुम्हें डर है
हज़ार साल पुराना है उनका गुस्सा
हज़ार साल पुरानी है उनकी नफरत
मैं तो सिर्फ़
उनके बिखरे हुये शब्दों को
लय और तुक के साथ
लौटा रहा हूं
तुम्हें डर है कि मैं
आग़ भड़का रहा हूं।
३. आंखें देखकर
ये आंखें तुम्हारी
तक़लीफ का उमड़ता हुआ समंदर
इस दुनिया को
जितनी जल्दी हो
बदल देना चाहिये।
४.बंद खिड़कियों से टकराकर
घर-घर दीवारे हैं
दीवारों में बंद खिड़कियां हैं
बंद खिड़कियों से टकराकर
अपना सिर
लहूलुहान गिर पड़ी वह
नई बहू है, घर की लक्ष्मी है
इनके सपनों की रानी है
कुल की इज्ज़त है
आधी दुनिया है
जहां अर्चना होती उसकी
वहां देवता रमते हैं
वह सीता है सावित्री है
वह जननी है
स्वर्गादपि गरीयसी है
लेकिन बंद खिड़कियों से टकराकर
अपना सिर
लहूलुहान गिर पड़ी वह।
क़ानून समान है
वह स्वतंत्र भी है
बड़े बड़ों की नज़रों में तो
धन का एक यंत्र भी है वह
भूल रहे वे
सबके ऊपर वह मनुष्य है
उसे चाहिये प्यार
चाहिये खुली हवा
लेकिन बंद खिड़कियों से टकराकर
अपना सिर
लहूलुहान गिर पड़ी वह।
चाह रही है वह जीना
लेकिन घुट-घुटकर मरना भी
क्या जीना?
घर-घर में श्मशान घाट हैं
घर-घर में फांसी- घर हैं
घर-घर में दीवारें हैं
दीवारों से टकराकर
गिरती है वह
गिरती है आधी दुनिया
सारी मनुष्यता गिरती है
हम जो ज़िंदा हैं
हम सब अपराधी हैं
हम दंडित हैं।
५.सच्चाई
मेहनत से मिलती है
छिपाई जाती है स्वार्थ से
फिर,मेहनत से मिलती है।
६.समकालीन
कहीं चीख़ उठी है अभी
कहीं नाच शुरु हुआ है अभी
कहीं बच्चा पैदा हुआ है अभी
कहीं फौजें चल पड़ीं हैं अभी।
७ .भेड़िया
i)पानी पिये
नदी के उस पार या इस पार
आगे-नीचे की ओर
या पीछे और ऊपर
पिये या न पिये
जूठा हो ही जाता है पानी
भेड़ गुनहगार ठहरती है
यकीनन भेड़िया होता है
ख़ून के स्वाद का तर्क।
ii)शेर जंगल का राजा है
भेड़िया क़ानून -मंत्री
ताक़तवर और कमज़ोर के बीच
दंगल है
जगह-जगह बिखरे पड़े हैं
खून के छींटे
और हड्डियां
जंगल में मंगल है।
iii)भेड़िया गुर्राता है
ध्यान से सुनकर
आत्मा की आवाज़
भेड़ को खा जाता है।
iv)शिकार पर निकला है भेड़िया
भूगोल के अंधेरे हिस्सों में
भेड़ की खाल ओढ़े
जागते रहो, सोने वालों
भेड़िये से बच्चों को बचाओ।
८.समाजवाद
समाजवाद बबुआ,धीरे-धीरे आई
समाजवाद उनके धीरे-धीरे आई
हाथी से आई
घोड़ा से आई
अगरेजी बाजा बजाई समाजवाद…
नोटवा से आई
वोटवा से आई
बिड़ला के घर में समाई,समाजवाद…
गांधी से आई
आंधी से आई
टुटही मड़इयो उड़ाई, समाजवाद…
कांग्रेस से आई
जनता से आई
झंडा के बदली हो जाई, समाजवाद…
डालर से आई
रूबल से आई
देसवा के बान्हे धराई, समाजवाद…
वादा से आई
लबादा से आई
जनता के कुरसी बनाई, समाजवाद…
लाठी से आई
गोली से आई
लेकिन अहिंसा कहाई, समाजवाद…
महंगी ले आई
ग़रीबी ले आई
केतनो मजूरा कमाई, समाजवाद…
छोटका के छोटहन
बड़का के बड़हन
बखरा बराबर लगाई, समाजवाद…
परसों ले आई
बरसों ले आई
हरदम अकासे तकाई, समाजवाद…
धीरे -धीरे आई
चुपे-चुपे आई
अंखियन पर परदा लगाई
समाजवाद उनके धीरे-धीरे आई।
९.मेहनतकशों का गीत
किसकी मेहनत और मशक्कत
किसके मीठे-मीठे फल हैं?
अपनी मेहनत और मशक्कत
उनके मीठे-मीठ फल हैं।
किसने ईंट-ईंट जोड़ी है
किसके आलीशान महल हैं?
हमने ईंट-ईंट जोड़ी है
उनके आलीशान महल हैं।
आज़ादी हमने पैदा की
क्यों गुलाम हैं ,क्यों निर्बल हैं?
धन-दौलत का मालिक कैसे
हुआ निकम्मों का दल है?
कैसी है यह दुनिया उनकी
कैसा यह उनका विधान है?
उलटी है यह दुनिया उनकी
उलटा ही उनका विधान है।
हम मेहनत करने वालों के
ही ये सारे मीठे फल हैं
ले लेंगे हम दुनिया सारी
जान गये एका में बल है।
१०.समझदारों का गीत
हवा का रुख कैसा है,हम समझते हैं
हम उसे पीठ क्यों दे देते हैं,हम समझते हैं
हम समझते हैं ख़ून का मतलब
पैसे की कीमत हम समझते हैं
क्या है पक्ष में विपक्ष में क्या है,हम समझते हैं
हम इतना समझते हैं
कि समझने से डरते हैं और चुप रहते हैं।
चुप्पी का मतलब भी हम समझते हैं
बोलते हैं तो सोच-समझकर बोलते हैं हम
हम बोलने की आजादी का
मतलब समझते हैं
टुटपुंजिया नौकरी के लिये
आज़ादी बेचने का मतलब हम समझते हैं
मगर हम क्या कर सकते हैं
अगर बेरोज़गारी अन्याय से
तेज़ दर से बढ़ रही है
हम आज़ादी और बेरोज़गारी दोनों के
ख़तरे समझते हैं
हम ख़तरों से बाल-बाल बच जाते हैं
हम समझते हैं
हम क्योंबच जाते हैं,यह भी हम समझते हैं।
हम ईश्वर से दुखी रहते हैं अगर वह
सिर्फ़ कल्पना नहीं है
हम सरकार से दुखी रहते हैं
कि समझती क्यों नहीं
हम जनता से दुखी रहते हैं
कि भेड़ियाधसान होती है।
हम सारी दुनिया के दुख से दुखी रहते हैं
हम समझते हैं
मगर हम कितना दुखी रहते हैं यह भी
हम समझते हैं
यहां विरोध ही बाजिब क़दम है
हम समझते हैं
हम क़दम-क़दम पर समझौते करते हैं
हम समझते हैं
हम समझौते के लिये तर्क गढ़ते हैं
हर तर्क गोल-मटोल भाषा में
पेश करते हैं,हम समझते हैं
हम इस गोल-मटोल भाषा का तर्क भी
समझते हैं।
वैसे हम अपने को किसी से कम
नहीं समझते हैं
हर स्याह को सफे़द और
सफ़ेद को स्याह कर सकते हैं
हम चाय की प्यालियों में
तूफ़ान खड़ा कर सकते हैं
करने को तो हम क्रांति भी कर सकते हैं
अगर सरकार कमज़ोर हो
और जनता समझदार
लेकिन हम समझते हैं
कि हम कुछ नहीं कर सकते हैं
हम क्यों कुछ नहीं कर सकते हैं
यह भी हम समझते हैं।

फ़ुरसतिया

अनूप शुक्ला: पैदाइश तथा शुरुआती पढ़ाई-लिखाई, कभी भारत का मैनचेस्टर कहलाने वाले शहर कानपुर में। यह ताज्जुब की बात लगती है कि मैनचेस्टर कुली, कबाड़ियों,धूल-धक्कड़ के शहर में कैसे बदल गया। अभियांत्रिकी(मेकेनिकल) इलाहाबाद से करने के बाद उच्च शिक्षा बनारस से। इलाहाबाद में पढ़ते हुये सन १९८३में ‘जिज्ञासु यायावर ‘ के रूप में साइकिल से भारत भ्रमण। संप्रति भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत लघु शस्त्र निर्माणी ,कानपुर में अधिकारी। लिखने का कारण यह भ्रम कि लोगों के पास हमारा लिखा पढ़ने की फुरसत है। जिंदगी में ‘झाड़े रहो कलट्टरगंज’ का कनपुरिया मोटो लेखन में ‘हम तो जबरिया लिखबे यार हमार कोई का करिहै‘ कैसे धंस गया, हर पोस्ट में इसकी जांच चल रही है।

16 responses to “आशा का गीत-गोरख पांडेय की कवितायें”

  1. अनाम
    बहुत मार्मिक कविताएं हैं। यहाँ प्रस्तुत करने के लिये धन्यवाद! सारी तो नहीं पढ़ पाया आज, पर जो भी पढ़ीं बहुत ही अच्छी हैं। समाजवाद वाली कविता पहले भी कहीं पढ़ी है, बाक़ी सब ताज़ी थीं।
    यह सब संकलन आया कहां से आपके पास?
  2. रवि कामदार
    मुझे हिन्दी कवियो के बारे मे बहुत पता नहि हे क्योकि स्कूल मे बहुत हिन्दी पढ्ने मे नहि आयी. मै गुजराती माध्यम मे पढा हु शायद इसी लिये. किन्तु मुझे प्रेमचन्द जी के लेख अछ्हे लगते थे. कोइ वह सारे लेख लाकर दे तो अछ्हा है.
  3. प्रत्यक्षा
    “तुम्हे डर है” बहुत बहुत अच्छी लगी….
    प्रत्यक्षा
  4. Rajesh Kumar Singh
    प्रियवर,
    कविता नम्बर दस (शीर्षकः समझदारों का गीत) , अंतिम सात पंक्तियों की प्रारम्भिक तीन पंक्तियाँ दोहरायी जा रही हैं। वो ऐसे , कि ,इन्हीं पंक्तियों से मिलती-जुलती पंक्तियों के बारे में वर्णन करते हुए , ठेलुहई के पीठाध्यक्ष श्री इन्द्र अवस्थी अपने चिठ्ठे “सौ में नब्बे बेईमान, फिर भी मेरा भारत महान ” में लिखते हैं , कि , ” गोपाल सिंह कहते हैं ;
    करने को तो हम भी कर सकते हैं क्रांति
    अगर सरकार हो कमज़ोर
    और जनता समझदार”
    तो, सवाल और बवाल यह है , कि इन पंक्तियों की कापीराइट किस के पास है ?
    मेरे ख्याल से , नाम को ले कर , श्रीयुक्त इन्द्र जी को गलतफहमी हुई है । पढ़ने वालों को , हालाँकि , नाम से बहुत ज्यादा फर्क नहीं पड़ता है , फिर भी , किसी एक स्थान पर , संशोधन आवश्यक है (चाहे यहाँ या वहाँ)।
    -राजेश
    (सुमात्रा)
  5. indra awasthi
    शुकुल को हम अथारिटी मानते हैँ कापीराइट को टोपने मेँ, इसलिये मानते हैँ कि कविता गोरख जी की ही होगी
    ठाकुर को धन्यवाद सजगता के लिये
  6. अनाम
    कामदार जी, प्रेमचन्द जी की कुछ रचनायें यहाँ उपलब्ध हैं (इस पृष्ठ के बिल्कुल अंत में कड़ियाँ हैं): http://webdunia.com/literature/story/
  7. रवि कामदार
    धन्यवाद अनाम जी.अब मजे लून्गा.
  8. Sunil
    अनूप जी, गौरख पाँडे जी की कविता “उनका डर” का इतालवी अनुवाद मैंने अपने इतालवी के चिट्ठे http://www.kalpana.it/ita/blog/ पर २१ अगस्त को दिया. सुनील
  9. Neearj Sharma
    Hallo! To all of you.
    Today i have seen first time this site, but it is really interesting. Following poem are true picture of real india And it is really a picture of mass .
  10. Shrey tulsian
    bekaar kavitain. padhkar bor ho gaye
  11. अईसी कान्फ़िडेंट डेमोक्रेसी और कहां?
    [...] गोरख पांडेय [...]
  12. arthmedianetwork.com
    arthmedianetwork.com
  13. helloraipur
    helloraipur

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative