Friday, September 07, 2007

…और ये फ़ुरसतिया के चार साल

http://web.archive.org/web/20140419213853/http://hindini.com/fursatiya/archives/519

54 responses to “…और ये फ़ुरसतिया के चार साल”

  1. : …और ये फ़ुरसतिया के छह साल
    [...] निकल लिये! पूरी शराफ़त से !एक , दो ,तीन , और चार और पांच को रास्ता [...]
  2. : फ़ुरसतिया-पुराने लेखhttp//hindini.com/fursatiya/archives/176
    [...] …और ये फ़ुरसतिया के चार साल [...]
  3. : …और ये फ़ुरसतिया के सात साल
    [...] गड़बड़ नहीं भाई इसके पहले एक , दो ,तीन , और चार , पांच और छह भी निकले इज्जत के [...]
  4. …और ये फ़ुरसतिया के आठ साल
    [...] एक , दो ,तीन , चार , पांच , छह और सात साल के पूरे होने के [...]

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative