Sunday, August 13, 2006

बिहार से कलकत्ता -कुछ फोटो

http://web.archive.org/web/20110101202456/http://hindini.com/fursatiya/archives/170

मेरी पिछली पोस्ट में छायाजी ने टिप्पणी की :-
ऐसा लिखा जैसे बला टाली हो।
बहुत संक्षिप्त है, जल्दी समाप्त करने की, और लोगों की मांग को दबाने की साजिश नजर आती है।
आशीष,रवि रतलामी,जीतेंदर ने उनकी बात का समर्थन किया है। स्वामी जी ,‘बहुत आनंदित हुये प्रतिक्रियाएं देख कर!

लेख संक्षिप्त है इसके बारे में क्या कहें? कुछ ‘शीघ्र पठन’ रोग से पीड़ित साथी हमारी पोस्ट की लंबाई से त्रस्त होकर पढ़ते ही नहीं,ऊपर-नीचे पढ़कर छोड़ देते हैं। अब जब यह पोस्ट कुछ छोटी हो गयी तो साथी लोग बताते हैं कि साजिशन पोस्ट छोटी कर दी। हम समझ नहीं पा रहे हैं क्या कहें!

हमें मुगलेआजम सनीमा का संवाद याद रहा है जो कि अकबर जी अनारकली जी से बोलते हैं- "सलीम तुम्हें मरने नहीं देगा ,हम तुम्हें जीने नहीं देंगे।"

हमारी पोस्टों के साथ भी कुछ ऐसा ही तो नहीं हो रहा है- "छोटी पोस्ट हम लिखने नहीं देंगे,बड़ी हम पढ़ेंगे नहीं।"

बहरहाल ,पिछली पोस्ट के बारे में बहाना यह है कि हमारे पास कलकत्ता पहुँचने तक के दौरान कोई ऐसी उल्लेखनीय घटना नहीं थी जिसे पेश करते। दूसरी बात उस दिन रात के ३ बज गये फोटो बावजूद तमाम प्रयासों के ‘अपलोड’ नहीं हो पायीं। फिर जैसा बना वैसा पोस्ट कर दिया गया।
प्रेमलताजी का उलाहना है:-
भाई,ये क्या कभी सिर फेंक देते हो कभी धड ज़रा पुराने से लिंक भी रहे तो !
प्रेमलताजी ,अगर फिर से देखें तो पुरानी पोस्ट का लिंक दिया था। दूसरी बात ये सारे लेख ‘जिज्ञासु यायावार’ श्रेणी के अंतर्गत दिये गये है। आप उसे ‘क्लिक’ करें तथा सारे पुराने लेख पढ़ें।

फिलहाल जब तक हम आगे कुछ लिखें तब तक हमारी इस यात्रा के कुछ और फोटो देखें।

पहली तस्वीर मैंने भी उतारी एक तस्वीर की तरह है। एक गाड़ीवान तपती धूप में अपने सर पर छाता लगाये हुये है। सड़क पर भी पेड़ का छाता लगा है।

दूसरी तस्वीर में वे स्थानीय आदिवासी हैं जिनसे हमारी बातचीत हुई जिसका जिक्र मैंने पिछली पोस्ट में किया। सबसे बांयी तरफ दिलीप गोलानी हैं तथा सबसे दायीं तरफ विनय अवस्थी।

तीसरे चित्र में हम नहा रहे हैं -धान के खेत में लगे पम्प पर।

चौथी तस्वीर में हम खड़े हैं अपनी घुटने में लगी चोट के साथ।

फिलहाल इतने से ही काम चलाया जाय। नेट का कनेक्शन बार-बार कट रहा है। इसलिये बाकी फोटो ‘अध-अपलोडी’ रह जा रही हैं। जो लोग इस दौरान हमसे बात कर रहे हैं उनके लिये भी हम बार-बार -‘कहाँ चले गये यार’ बन रहे हैं। क्या करें ! मजबूरी है!
मैंने भी उतारी एक तस्वीर
स्थानीय आदिवासी
हम नहा रहे हैं
हम-चोट के साथ

फ़ुरसतिया

अनूप शुक्ला: पैदाइश तथा शुरुआती पढ़ाई-लिखाई, कभी भारत का मैनचेस्टर कहलाने वाले शहर कानपुर में। यह ताज्जुब की बात लगती है कि मैनचेस्टर कुली, कबाड़ियों,धूल-धक्कड़ के शहर में कैसे बदल गया। अभियांत्रिकी(मेकेनिकल) इलाहाबाद से करने के बाद उच्च शिक्षा बनारस से। इलाहाबाद में पढ़ते हुये सन १९८३में ‘जिज्ञासु यायावर ‘ के रूप में साइकिल से भारत भ्रमण। संप्रति भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत लघु शस्त्र निर्माणी ,कानपुर में अधिकारी। लिखने का कारण यह भ्रम कि लोगों के पास हमारा लिखा पढ़ने की फुरसत है। जिंदगी में ‘झाड़े रहो कलट्टरगंज’ का कनपुरिया मोटो लेखन में ‘हम तो जबरिया लिखबे यार हमार कोई का करिहै‘ कैसे धंस गया, हर पोस्ट में इसकी जांच चल रही है।

7 responses to “बिहार से कलकत्ता -कुछ फोटो”

  1. जीतू
    हमें मुगलेआजम सनीमा का संवाद याद रहा है जो कि अकबर जी अनारकली जी से बोलते हैं- सलीम तुम्हें मरने नहीं देगा ,हम तुम्हें जीने नहीं देंगे।
    हमारी पोस्टों के साथ भी कुछ ऐसा ही तो नहीं हो रहा है- छोटी पोस्ट हम लिखने नहीं देंगे,बड़ी हम पढ़ेंगे नहीं।
    पढकर मजा आया। भईए, बात पोस्ट की लम्बाई की नही है, पिछली पोस्ट मे ऊबाऊनैस झलक रहा था, अब ये देर रात की थकावट का असर था या वादे के बावजूद अमरीकी कन्या के आनलाइन ना आने की खीझ, लेकिन झेलना तो पाठकों को ही पड़ा ना।
    अब भी कुछ नही बिगड़ा, साइकिल उठाओ, और आगे की दौड़ लगाओ।
  2. बासु
    मजा आ गया ये तसबीरे देख कर.. लगा अपने शहर घुम कर आ गये
  3. समीर लाल
    सही अटके हैं, मुगले आज़म याद करते रहिये.काहे ऎसी लम्बी लम्बी पढ़्वाने की आदत लगवाये दिये, अब धीरे धीरे घटाईये ना. एकदम से तो नही चल पायेगा.ये सब फोटो उसी मे लगा देते तो शायद काम बन जाता.अब शुभकामनाओं के सिवा और क्या कहें..:)
    समीर लाल
  4. संजय बेंगाणी
    तिसरी तस्वीर में आप नहा रहे थे तब लगता हैं पानी छवि पर भी गिरा और छवि खराब हो गई. हमारे पास यही छवि ठीक-ठाक हालत में मौजुद हैं, यहाँ वाली छवि के स्थान पर उसका उपयोग करना चाहें तो अपना ई-पता भेज दें. ( सशुल्क ;) )
  5. ई-छाया
    भैया ईमानदारी से जो लगा था वो बोल दिया गया था। अब भाई लोगों को भी यही लगा होगा, तभी ना हमारा समर्थन कर दिया गया।
    अब फुरसतिया का कोई लेख देखता हूं तो बडी फुरसत से एक मघ्घा (अरे मग भर यार) भर काफी लेकर पढने बैठ जाता हूं, कोशिश करता हूं कि कोई व्यवधान ना आये।
    लेकिन पिछली पोस्ट में अर्रर ये क्या?कमरा तो शुरू होते ही खतम हो गया।
    बमुश्किल काफी शुरू हुई, लेख खत्म। नाइंसाफी हो गई ना।मजा किरकिरा।
    आपका लेख खोलने पर आई ई का स्क्रोलबार बहुत छोटा देखने की आदत है।
  6. प्रेमलता पांडे
    धन्यवाद लिंक बताने के लिये। पूरा पढ़कर ही लिख रही हूँ। समझ नहीं पा रही हूँ कि यायावरी अच्छी है या उसका वर्णन? क्योंकि सच तो यह है कि दोनो ही बहुत बढ़िया हैं।
    शुभेच्छु
    प्रेमलता
  7. आशीष
    इस बार हम जीतु जी का समर्थन करता हूं :)

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative