Sunday, September 11, 2011

जैसे कोई ग्वाला दूध में पानी मिलाता है

केबिन में साहब से डंटकर ,वे बाहर निकले औ बोले!
आज बॉस को कस के रगड़ा, घंटे भर काम करा लिया।

दबोच लिया अंधेरे में, सीने से कट्टा सटा दिया,
दांत पीसकर गुर्राया - खामोशी से शेर सुन, दाद दे।

वे जा घुसे घर में, अंदर से ताला भी लगा लिया,
हकलाते हुये ललकारा -हिम्मत है तो बाहर आ !

तुमसे बि्छुड़कर मर जायेंगे- कहने में डर लगता है
अंदर हो जायेंगे कोशिश-ए- खुदकशी के इल्जाम में।

सुबह से मेरी तारीफ़ों के पुल उसने बांध रखे हैं
इतना उतर गये हैं उसकी निगाह में हम! 

एक ही बात पर सौ बार वो रूठा , खुश हुआ,
उसके स्टेटस को सौ बार लाइक /अनलाइक किया।

वो प्यार का भरोसा कुछ इस तरह दिलाता है
जैसे कोई ग्वाला दूध में पानी मिलाता है।

-कट्टा कानपुरी

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative