Sunday, October 02, 2011

आज गांधी जयंती है जा ऐश कर

मान लिया आज का दिन अहिंसा का है ,
मगर बिना मारपीट के गुजारा कैसे हो!

लोग शरीफ़ समझ के बेमतलब दबायेंगे,
बिना बकैती अपन की बसर कैसे हो ।

आज का दिन अहिंसा के पुजारी का है,
कट्टा कानपुरी शेर-ओ-उपवास पर हैं।

आज गांधी जयंती है जा ऐश कर
आज की पिटाई अब कल होगी।

-कट्टा कानपुरी

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative