Friday, October 28, 2011

जब भी मुझे वो प्यार से बर्फ़ी खिलाता है

उनकी बात का लब्बोलुआब तो एक ही था,
कामा-फ़ुलस्टाप पर वे घंटों बहस करते रहे।

जब भी मुझे वो प्यार से बर्फ़ी खिलाता है,
उस दिन और दिनों से ज्यादा ही सताता है।

मियां अब तो तुम वीआईपी हो गये हो
बेवकूफ़ियां जरा कुछ ज्यादा किया करो।

-कट्टा कानपुरी

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative