Tuesday, May 13, 2014

दुनिया की बेहतरी की सम्भावनाएं



जब तक आम आदमी ख़ुशी-ख़ुशी दिहाड़ी कमाने के लिए निकलते रहेंगे तब तक दुनिया की बेहतरी की सम्भावनाएं बनी रहेंगी।
पसंदपसंद · · सूचनाएँ बंद करें · साझा करें

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative