Tuesday, July 18, 2017

पंचबैंक


1. विदेशों में कैंडल लाइट डिनर एक रोमांस की घट्ना है, अपने यहां तो यह रोजमर्रा की दुर्घटना है।- Gopal Chaturvedi
2. चश्मा साफ करते हुए बोलने से बात में वजन आ जाता है और आम बात भी खास बन जाती है। Suresh Kant
3. जीवन की गंदगी को आत्मीय भाव से ग्रहण कर उससे लिपटे सूअर को आपने देखा है, चेहरे पर कैसा संतई का भाव होता है! ऐसा ही सन्तई का भाव मुझे आजकल के बाबाओं और संतों के चेहरे पर दिखाई देता है। प्रेम जनमेजय
5. जो व्यक्ति राष्ट्रभक्त होता है, वह या तो पागल होता है या फिर गरीब होता है। Arvind Tiwari
6. गॉडफादर सदैव हंसता रहता है। उसके चेहरे से सदैव आत्मविस्वास झलकता रहता है। DrAtul Chaturvedi
7. अगर सिंचाई सूखे की समस्या हल हो गई, तो फिर मंत्रियों के रोजगार में गिरावट आने की आशंका है, यह कोई राजनीतिक पार्टी होने नहीं देगी। Alok Puranik
8. कलियुग है तो आदमी को कलियुग टाईप ही काम भी करना पड़ेगा। बब्बा बोई करते थे। कभी कोई गरीब-गुरबा नीच आदमी सामने पड़ जाए तो शुरू में ही उसकी माँ-भैंन कर लेते थे, कि कहीं बाद में गरियाना भूलभाल न जाएं तो दिल कचोटता फिरे ...... Gyan Chaturvedi
9. हर फाइल में एक किस्सा है। हर किस्से में हिस्सा है।हिस्सा चुकाइये। पूण्य कमाइये। वरना फाइल जो है , वह फाइल हो जाएगी। Subhash Chander
10. सरकारी नेता या असरकारी नेता न केवल हमें कंबल, रोटी और शराब देते हैं बल्कि हमारी किस्मत भी बदल देते हैं। - Harish Naval
11. राजनीति में रहना है तो सोचना पड़ता है। ऐसे में विचार तो बदलेगा ही। और जिस अखबार के लिये बोलना है उसके अनुसार बदलेगा ! Sushil Siddharth
------सिलसिला जारी है। आपके पंच कतार में हैं।

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative