Monday, August 07, 2017

आज नौकरी भी इंकलाब है


क्या खूब मजे का हिसाब है,
आज नौकरी भी इंकलाब है!
पता नहीं कब कहां रगड़ दें,
मालिकों का दिमाग खराब है।
कल जिस काम पर खुश थे,
आज उसी पर गर्म बेहिसाब हैं।
अरे चाय पियो यार मस्त रहो,
आज दुनिया का यही हिसाब है।
-कट्टा कानपुरी

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative