Wednesday, January 01, 2014

आओ जी नये साल जी आओ

आओ जी नये साल जी आओ,
यहीं कहीं तुम भी सेट हो जाओ।

सबके सालों जलवे देखे हमने
अपना भी जलवा दिखलाओ।

मौज करो तुम खूब चकाचक,
मस्ती औ खुशहाली बरसाओ ।

दुख-सुख तो चलते रहते हैं,
कुछ अच्छा अच्छा करवाओ।

ज्यादा कुछ चहिये न हमको,
हंसी-खुशी से रहो, गुजर जाओ।

आओ जी नये साल जी आओ,
यहीं कहीं तुम भी सेट हो जाओ।

-कट्टा कानपुरी

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative