Wednesday, February 05, 2014

सूरज की सब लाड़लियां समूची कायनात में पसर गयीं

#‎सूरज‬ भाई पेड़ों के पत्ते से ऐसे झांक रहे हैं जैसे अपन भद्दर जाड़े में रजाई से मुंह निकाल के लेटे-लेटे टीवी देखते रहते हैं। हमने पूछा -आपकी बच्चियां किधर ? बोले- आ रही हैं। बिना सजे-संवरे , सुन्दर बने कहीं निकलती नहीं। हमसे कहा- आप चलो आगे पापा हम आते हैं। ये ल्लो आ गयीं न सब नटखट , शरारती बच्चियां। देखते-देखते सूरज की सब लाड़लियां समूची कायनात में पसर गयीं। #सूरज भाई वात्सल्य से चमकती आंखों से अपनी बच्चियों को निहारते हुये चाय पीते रहे।

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative