Tuesday, August 26, 2014

पुलिया पर अतुल

आज ’सर्वहारा पुलिया’ पर अतुल से मुलाकात हुई दोपहर को। बीएससी पास अतुल रेलवे का कप्म्टीशन देने जबलपुर आये हैं। गांव में पढाई-वडाई होती नहीं थी सो नंबर सेकेंड क्लास के ही आये। शहर में नौकरी के लिये तैयारी के साथ कम्प्यूटर का भी काम सीख रहे हैं।

अतुल सिहोरा के रहने वाले हैं। पिता खेती करते हैं। तीन बहनों में अकेले, सबसे छोटे हैं। स्वाभाविक है दुलरुवा भी। जीजा जीसीएफ़ फ़ैक्ट्री में काम करते हैं। वेल्डरी का काम दोस्त आ रहा था कंचनपुर से तो उसका इंतजार कर रहे थे पुलिया पर बैठकर।

अंगौछे से हवा डुलाते बैठे थे अतुल। हमने फ़ोटो खैंचा तो बोले अच्छा नहीं आया होगा। पसीना आ रहा था इसलिये। लेकिन जब हमने फ़ोटो दिखाया तो देखकर खुश हो गये। दुबारा देखा।

अतुल का फ़ेसबुक खाता है लेकिन बहुत दिन से बंद है।

फ़ोटो: आज  ’सर्वहारा पुलिया’ पर अतुल से मुलाकात हुई दोपहर को। बीएससी पास अतुल रेलवे का कप्म्टीशन देने जबलपुर आये हैं।  गांव में पढाई-वडाई होती नहीं थी सो नंबर सेकेंड क्लास के ही आये। शहर में नौकरी के लिये तैयारी  के साथ कम्प्यूटर का भी काम सीख रहे हैं। 

अतुल सिहोरा के रहने वाले हैं। पिता खेती करते हैं। तीन बहनों में अकेले, सबसे छोटे हैं। स्वाभाविक है दुलरुवा भी। जीजा जीसीएफ़ फ़ैक्ट्री में काम करते हैं। वेल्डरी का काम दोस्त आ रहा था कंचनपुर  से तो उसका इंतजार कर रहे थे पुलिया पर बैठकर।

अंगौछे से हवा डुलाते बैठे थे अतुल। हमने फ़ोटो खैंचा तो बोले अच्छा नहीं आया होगा। पसीना आ रहा था इसलिये। लेकिन जब हमने फ़ोटो दिखाया तो देखकर खुश हो गये। दुबारा देखा।

अतुल का फ़ेसबुक खाता है लेकिन बहुत दिन से बंद है। 

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative