Saturday, April 26, 2014

जहां तुम पहुंचे छलांगें लगाकर



रोजी कमाने के लिए निकले दो लोगों में से पीछे साईकिल वाला शायद मंजिल पर पहुंचकर कहे-

'जहां तुम पहुंचे छलांगें लगाकर,
वहां हम भी पहुंचे मगर धीरे- धीरे।'

पसंदपसंद · · सूचनाएँ बंद करें · साझा करें
  • अनूप शुक्ल

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative