Tuesday, June 26, 2018

मुस्ताक अहमद युसुफ़ी के पंच


1. इस्लाम के लिये सबसे ज्यादा कुर्बानी बकरों ने दी है।
2. मर्द की आंख और औरत की जबान का दम सब से आखिर में निकलता है।
3. इस्लामिक दुनिया में आज तक कोई बकरा स्वाभाविक मौत नहीं मरा।
4. दुश्मनी के लिहाज से दुश्मनों के तीन दर्जे होते हैं- दुश्मन, जानी दुश्मन और रिश्तेदार।
5. आदमी एक बार प्रोफ़ेसर हो जाये तो जिन्दगी भर प्रोफ़ेसर ही रहता है , चाहे बाद में वह समझदारी की बातें ही क्यों न करने लगे।
6. उस शहर की गलियां इतनी तंग थीं कि अगर मुख्तलिफ़ जिंस (विपरीत लिंगी) आमने-सामने से आ जायें तो निकाह के अलावा कोई गुंजाइश नहीं रहती।
7. वो जहर देकर मारती तो दुनिया की नजर में आ जाती, अन्दाज-ए-कातिल तो देखो -हमसे शादी कर ली।
8. दुनिया में गालिब वह अकेला शायर है कि जो समझ में आ जाये तो दंगा मचा देता है।
9. कुछ लोग इतने मजहबी होते हैं कि जूता पसन्द करने के लिये भी मस्जिद का रुख करते हैं।
10. मेरा ताल्लुक इस भोली-भाली नसल से है जो यह समझती है कि बच्चे बुजुर्गों की दुआओं से पैदा होते हैं।
11. हमारे जमाने में तरबूज इस तरह खरीदा जाता था जैसे आजकल शादी होती है- सिर्फ़ सूरत देखकर।
12. सिर्फ़ 99 प्रतिशत पुलिस वालों की वजह से बाकी एक प्रतिशत भी बदनाम हैं।
13. हुकूमतों के अलावा कोई भी अपनी मौजूदा तरक्की से खुश नहीं होता।
14. फ़ूल जो कुछ जमीन से लेते हैं उससे कहीं ज्यादा लौटा देते हैं।
15. हमारे मुल्क की अफ़वाहों की सबसे बड़ी खराबी यह है कि वे सच
निकलती हैं।
16. ये वो दौर था जब शौहदों को औरत का एक्स-रे भी नज़र आ जाए तो दिल में अरमान मचल उठते थे।
- मुश्ताक अहमद युसुफ़ी
मुस्ताक साहब के बारे में जानने के लिये आप यहां पहुंचे:

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative