Monday, February 29, 2016

ये लो पेश हुआ बजट

ये लो पेश हुआ बजट
एक बवाल गया निपट
अब चलो तुम करो बुराई
औ तुम तारीफ़ फटाफट।

बोलो बजट बड़ा झकास है
विकास के लिए नई आस है
इसमें सबके लिए कुछ खास है
समेटे नई उमंग है, उल्लास है।

चलो तुम करो विरोध इसका
कहो-बजट नहीं, बकवास है
देश का करेगा सत्यानाश है
होगा देश का पक्का विनाश है।

तुम बोलो ये अच्छा किया
वो बोलेगा ये बुरा किया
बजट तो बस झुनझुना है
सम्हालो अब तुमसे ही आस है।

-कट्टा कानपुरी

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative