Friday, February 05, 2016

घरैतिन से हम बोले, मोहब्बत का कोई गीत गुनगुनाओ

घरैतिन से हम बोले, मोहब्बत का कोई गीत गुनगुनाओ
झोला थमा के वो बोली, जाओ भाग के सब्जी ले आओ।

मोहब्बत की पाठशाला का ये मजेदार चलन है यारों ,
जो कभी पढ़ा नहीं, सलाहें देता है हेडमास्टर सरीखी।

मोहब्बत की बात की , सब दोस्त टोंकने लगे,
ये हम कर लेंगे, तुम कुछ और काम देख लो।


-कट्टा कानपुरी

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative