Tuesday, January 19, 2016

गोवा का पहला दिन

समुद्र तट पर उछलते कूदते मस्ती करते देशी सैलानी

हम लोग जहां ठहरे हुये हैं हम लोगों की ट्रेनिंग भी वहीं हो रही है। समुद्र तट उस जगह से लगा ही हुआ है। सो ट्रेनिंग के बीच में जैसे ही थीडी देर का ब्रेक हुआ हम फ़ौरन समुद्र तट पहुंच गये जैसे स्कूल के बच्चे जरा सा मौका मिलते ही खेल के मैदान की ओर दौड़ पड़ते हैं।

सूरज भाई पूरे जलवे के साथ चमक रहे थे। शायद सुबह देर से निकलने की भरपाई कर रहे थे। समुद्र तट पर देशी सैलानी उछलते-कूदते हुये लहरों के साथ मस्ती कर रहे थे। कोई-कोई ऐसे उछलता दिखाई दे रहा था मानों सूरज को छूना चाहता है। सूरज भाई और उनके साथ की किरणें यह सब मुस्कराते हुये देख रही थीं।
बीच के किनारे ही तमाम विदेशी, शायद फ़िरंगी, धूप स्नान कर रहे थे। लगभग सभी के हाथ में मोटी-मोटी अंग्रेजी की किताबें थीं, उपन्यास नुमा। जिस तल्लीनता से वे उपन्यास पढते हुये धूप सेंक रहे थे उससे लग रहा थी मानों वे धूप में किताबें पढ़ने के लिये ही शायद भारत आये हैं। उनमें से अधिकतर लोग अधेड़ से बुढापे की उमर की तरफ़ अग्रसर लोग थे। हम लोगों ने कुछ देर में धूप, समुद्रतट, लहरों और धूप में नहाते हुये लोगों जितना निहार सकते थे उतना निहारा। इसके बाद सारा सौंदर्य बाकी लोगों के देखने के लिये छोड़कर अच्छे बच्चों की तरह वापस लौट लिये।


समुद्र तट पर धूप स्नान करते विदेशी सैलानी
लौटते हुये हमारे रास्ते में ही एक बुजुर्ग महिला अपने साथी के साथ धूप सेंकते हुयी मिलीं। हमने उनसे पूछा कि वे कहां से आये हैं तो उन्होंने बताया कि मिडल इंगलैंड से आये हैं। उन्होंने हमसे पूछा - हम कहां से आये हैं तो हमने बता दिया कि हम भारत (इंडिया से ही हैं) इसके बाद उन्होंने पूछा इंडिया में कहां से तो हमने सब दोस्तों के बारे में बता दिया कि वे लोग कहां से हैं। इस तरह हम लोग ने कई सवालों के जबाब बिना पूछे दे दिये और उनसे कई सवाल पूछने के अधिकारी हो गये।

हमने पुरुष से उसकी उमर पूछी तो उसने कहा - यू गेस। हमने अनुमान लगाकर बताया - 50 से अधिक लगते हैं। उसने उमर नहीं बताई पर यह कहा -तुम्हारा अनुमान सही है। इसके बाद महिला ने कहा- अच्छा मेरी उमर का अन्दाजा लगाओ ( गेस माई एज) हमने कहा - 16 प्लस। महिला बड़ी तेजी से हंसी और उसने बताया कि उसकी उमर 87 साल की है। हमने ताज्जुब करते हुये कहा- "आप लगती तो नहीं इतनी उमर की।" इस पर उन्होंने धन्यवाद दिया।

कैथरीन उम्र 87 साल रहवासी इंग्लैंड गोवा के बीच पर धूप सेंकती हुई।
इसके बाद तो ऐसे बातें होंने लगी जैसे पुलिया पर बैठे किसी जबलपुरिये से बतिया रहे हों। बस हम दोनों की अंग्रेजी के उच्चारण के चलते कुछ अर्थभेद हो रहा था। कह कुछ रहे थे समझा कुछ और जा रहा था।

महिला ने बताया कि उनका नाम कैथरीन है और उनके साथी का नाम पीटर है। वे दोनों पिछले करीब बीस दिन से गोवा में रुके हुये हैं। पास में अपार्टमेंट लेकर रह रहे हैं। घूमने के लिये आये हैं भारत। पूछकर खींचा हुआ फ़ोटो कैथरीन को दिखाया तो उत्सुकता से देखा और फ़ोटो की तारीफ़ की।

हम लोगों ने बताया कि हम लोग यहां ट्रेनिंग के लिये आये हैं और क्लास का समय हो गया इसलिये विदा लेते हुये वापस चल दिये। उन्होने मुस्कराते और यह कहते हुये विदा किया - इन्ज्वाय द क्लास।  :)

 
लौटते हुये हम सोच रहे थे कि 87 साल की उमर में अपने यहां अधिकतर लोग अपनी अंतिम विदा का इंतजार करते हुये दिन गिनने लगते हैं उस उमर में ये लोग घूमने निकले हैं। इसमें दोनों देशों के सामाजिक ताने-बाने और लोगों की व्यक्तिगत आर्थिक हैसियत की भी महत्वपूर्ण भूमिका भी अवश्य रहती होगी।


https://www.facebook.com/anup.shukla.14/posts/10207152401861870

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative