Wednesday, September 10, 2014

पुलिया और पेड़


आज हल्की बूंदा-बांदी हो रही थी। लग रहा था इन्द्र भगवान बारिश की बूंदों को इत्र की बूंदों सरीखा छिड़क रहे हों धरती पर।

पुलिया पर एक मोटर साइकिल के कैरियर पर पावपोंछना और इसी तरह के सामान लादे उमेश बारिश के बंद होने का इंतजार कर रहे थे। रांझी के रहने वाले उमेश अपना सामान बेचने के लिये आधारताल जाते हैं रोज। आज जब घर से निकले तो बारिश नहीं हो रही थी सो ’रिन कोट’ साथ नहीं लाये। लेकिन सामान बाकायदा ढके हुये थे। मोटर साइकिल पर करीब बीस हजार रुपये का तो सामान होगा।

सड़क ऐसे लग रही है कि मानों उस पर पानी छिड़क दिया गया हो। बस पोंछा लगाना बाकी है।

उमेश बारिश से बचाव के लिये पुलिया के पास खड़े थे। पुलिया और पेड़ का गठबंधन इस जगह को राहगीरों के रुकने की जगह बनाता है। पुलिया बैठने की जगह मुहैया कराती है तो पेड़ बचाव के लिये छांह!

पुलिया और पेड़ । एक दूसरे की पूरक हैं दोनों। स्त्री पुरुष की तरह क्या?

”उपमा अलंकार " कुछ ज्यादा हो गया न ! 


  • Dhirendra Pandey पुलिया पर बाढ़
  • Mohammed Shuaib पहली बारिश पुलिय पर ! बधाई अनूप जी
  • Krishna Kumar Jain पुलिया पर बैठ कर यह तो पता नहीं कर रहे कि सामान कहां बिकेगा
  • Kiran Dixit Hamey pulliya aur paar ka sambandh accha laga aur.tumhey pulliya per likhana.Varun devta ne bhe pulliya ke safaye ker de kyoki us per likha jo ja raha hai .pulliya ke sath sarak ko bhe saaf ker diya
  • Gitanjali Srivastava paavpochna good. Pulia par daily time dena bhi aapki baaki jimmediariyon mei se ek hai. lagbhag kitna samy dena padta hai?
  • Abhishek Chaurey · 8 पारस्परिक मित्र
    इतने लोग आ रहे हैं पुलिया पर की अब तो डाटाबेस मेनेजमेंट सिस्टम बनाना पड़ेगा रिकॉर्ड के लिए
  • Girish Singh भैया सर्वहारी पुलिया का रंग रोगन फेसबुक मित्रो के माध्यम से करा देना चाहिए
  • Vijay Tiwari पुलिया और पेड़ स्त्री पुरुष की तरह आप लगे हैं,
    तो अब आपका दायित्व बनता है कि इनका विधि विधान से विवाह करा दें।
    हम् ने पेड़ों की शादी होते देखि है।
    ...और देखें
  • Nishant Mishra उपमा ही नहीं डोसा, इडली, उत्तपम सब सही मात्रा में है! Perfect!
  • Ashok Kungwani ये लो आपकी सर्वहारा पुलिया का धीरे धीरे प्रोमोशन हो रहा है ,साइकिल के बाद मोटर साइकिल भी रुकने लगी यहाँ पर,कल को मोटर कार ट्रक बस ट्रेन प्लेन भी रुके शायद.
    पर नहीं कुछ ज्यादा हो गया - ट्रेन प्लेन, इतना अत्याचार नहीं करना चाहिए निरीह — पुलिया पर.

Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative