Sunday, June 22, 2014

कृष्ण चले बैकुंठ को




दूध वाले भाईजी ने चलने के पहले 'चैतन्य चूर्ण' रगड़ते हुए खाया तो हमें तम्बाकू को नुकसान देह बताने वाले तमाम विज्ञापन याद आये और तम्बाकू की लोकप्रियता को बताने वाला यह दोहा भी:

कृष्ण चले बैकुंठ को,तब ने राधा पकड़ी बांह,
हियाँ तम्बाकू खाय लेव हुवां तम्बाकू नाय।


Post Comment

Post Comment

No comments:

Post a Comment

Google Analytics Alternative